पहली तीन महिला लड़ाकू विमान पायलट

वायुसेना की पहली तीन महिला पायलटों को राष्ट्रपति ने नारी शक्ति पुरस्कार से किया सम्मानित

284 0

नई दिल्ली। आज 8 मार्च यानि अतंरराष्ट्रीय महिला दिवस के मौके पर देश के कोने-कोने में उन सभी महिलाओं को सम्मानित किया जा रहा हैं जो अपनी उपलब्धियों से दूसरों को प्रेरणा दे रही हैं। इन प्रेरणादायक महिलाओं में भारतीय वायुसेना की पहली तीन महिला लड़ाकू विमान पायलटों को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने नारी शक्ति पुरस्कार से सम्मानित किया।

यह तीनों ही हमेशा से कुछ अलग करके दिखाना चाहती थीं। इन पायलटों के नाम मोहना सिंह जीतरवाल, अवनी चतुर्वेदी और भावना कांत हैं। उनका कहना है कि हम राष्ट्र की सेवा करने के लिए प्रयासरत हैं। हमने बहुत कुछ हासिल किया है। तीनों पायलटों ने साल 2018 में मिग-21 में अकेले उड़ान भरी थी।

लड़ाकू विमान उड़ाने के लिए इन्हें हकीमपेट वायुसेना बेस में कड़ी ट्रेनिंग दी गई थी। परंपरागत रूप से पुरुष-प्रधान दुनिया में, मोहना, अवनी और भावना ने सभी मानसिक बाधाओं को तोड़ा और दुनिया को दिखाया कि कुछ भी ऐसा नहीं है जो महिलाएं नहीं कर सकतीं।

तीनों के लड़ाकू विमान उड़ाने के बाद से और ज्यादा महिलाओं के कॉम्बैट रोल में आने की संभावनाएं बढ़ गई हैं। यह महिलाएं बहादुरी और प्रेरणा के अलावा नारी सशक्तिकरण का उत्कृष्ट उदाहरण हैं।

मोहना सिंह जीतरवाल

वह राजस्थान के झुंझनु जिले के छोटे से गांव खतेहपुरा की रहने वाली हैं। जहां फौजी बनने को किसी और चीज से ज्यादा प्राथमिकता दी जाती है। उनके दादा का नाम लाडू राम जाट है जो 1948 में भारत-पाकिस्तान युद्ध में शहीद हो गए थे और उन्हें वीर चक्र से सम्मानित किया गया था।

पीएम मोदी ने सात महिलाओं को सौंपा अपना ट्विटर अकाउंट, पहली महिला स्नेहा मोहन दास

वह एविएशन रिसर्च सेंटर में भारतीय वायुसेना में फ्लाइट गनर के तौर पर तैनात थे। मोहना के पिता भी वायुसेना में वारंट ऑफिसर के तौर पर कार्यरत हैं। मोहना ने अमृतसर के ग्लोबल इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट एंड इमर्जिंग टेक्लोलॉजी से इलेक्ट्रॉनिक्स एंड कम्युनिकेशन में स्नातक किया है।

अवनी चतुर्वेदी

मध्यप्रदेश के रेवा जिले की बुलबुल हमेशा से ही ऊंची और बहुत ऊंची उड़ान भरना चाहती थीं। वह हमेशा से अंतरिक्ष यात्री कल्पना चावला की तरह बनना चाहती थीं। अपवनी के पिता दिनकर चतुर्वेदी पेशे से इंजीनियर और मां सविता गृहिणी हैं। उनके भाई भारतीय सेना में हैं उन्होंने उन्हें अपने सपनों को मंजिल तक पहुंचाने के लिए प्रेरित किया। वह अपने कॉलेज के फ्लाइंग क्लब की सदस्य रह चुकी हैं।

भावना कांत

कांत बिहार के दरभंगा जिले से ताल्कुक रखती हैं और उनके पिता इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन में अधिकारी हैं। भावना हमेशा से ही विमान उड़ाना चाहती थी लेकिन वह पहले इंजीनियर बनीं। राजस्थान के कोटा में इंजीनियरिंग प्रवेश की तैयारी करने के बाद उन्होंने बंगलूरू के बीएमएस कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग से मेडिकल इलेक्ट्रॉनिक्स में इंजीनियरिंग की।

उन्हें कैंपस प्लेसमेंट के जरिए टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज में नौकरी मिली लेकिन किस्मत ने शायद उनके लिए कुछ और ही सोच रखा था। इसीलिए शॉर्ट सर्विस कमिशन की परीक्षा पास करने के बाद वह वायुसेना में आ गईं। वह हमेशा से ही पायलट बनना चाहती थीं लेकिन लड़ाकू पायलट बनने के बारे में उन्होंने कभी नहीं सोचा था।

Loading...
loading...

Related Post

सतना:सड़क हादसे में 7 बच्चों समेत 8 की मौत,तेज रफ्तार बस और स्कूल वैन के बीच हुई ज़ोरदार टक्कर

Posted by - November 22, 2018 0
सतना। सड़क हादसे थमने का नाम नहीं ले रहे वही खबर सतना से आई है जहाँ जिले के बिरसिंहपुर कस्बे में…

कैप्टन चौके-छक्के मार रहा है तो फिर किसी तरह के बदलाव का सवाल ही नहीं – सुशील मोदी

Posted by - September 11, 2019 0
 पटना। बिहार में एनडीए में सीएम पद को लेकर बयानबाजी के बीच नीतीश कुमार के समर्थन में बीजेपी नेता और…