ओवैसी की पार्टी का ट्विटर अकाउंट हैक, लोग बोले- अभी तक तो ओवैसी ही भाजपा के कब्जे में थे

26 0

हैदराबाद के सांसद असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी एआईएमआईएम का ऑफिसियल ट्विटर अकाउंट हैक हो गया, हैकर ने नाम एवं फोटो बदल दी। हैकर ने AIMIM की जगह एलन मस्क लिख दिया, साथ ही फोटो में भी एलन मस्क की फोटो लगा दी, बता दें कि एलन इस दुनिया के दूसरे सबसे अमीर व्यक्ति हैं। ट्विटर हैक की खबर जैसे ही सोशल मीडिया पर आई तमाम लोग मजे लेने लगे, एक यूजर ने लिखा- अभी तक तो ओवैसी साहब ही भाजपा द्वारा हैक थे।

एक अन्य यूजर ने लिखा- किसी भाजपा नेता ने ऐसा किया होगा, क्योंकि भाजपा को AIMIM इस वक्त सबसे ज्यादा पसंद है।बता दें कि ओवैसी ने यूपी में भी चुनाव लड़ने का ऐलान किया है, उनकी चुनौती को सीएम योगी आदित्यनाथ ने स्वीकार की है।

गौरतलब है कि ओवैसी की पार्टी एआईएमआईएम उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में सौ सीटों पर चुनाव लड़ेगी। हाल ही ओवैसी ने इसकी घोषणा की थी। इसके लिए उन्होंने उत्तर प्रदेश में सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के साथ मिलकर भागीदारी संकल्प मोर्चा बनाया है। हालांकि, ओवैसी के इस एलान के बाद वे विपक्षी पार्टियों के निशाने पर भी हैं। बता दें कि ओवैसी की पार्टी बिहार विधानसभा चुनाव में भी पांच सीटों पर जीत दर्ज की है।

मुनव्वर बोले- योगी दोबारा सीएम बने तो यूपी छोड़ दूंगा, भाजपा बोली- दूसरा राज्य खोज लीजिए

बता दें कि असदुद्दीन ओवैसी ने कहा था कि वह किसी भी स्थिति में योगी आदित्यनाथ को 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव में मुख्यमंत्री नहीं बनने देंगे। ओवैसी की चुनौती को सीएम योगी आदित्यनाथ ने स्वीकार करते हुए कहा था कि ओवैसी बड़े नेता हैं, वे देश के अंदर प्रचार करते हैं। उन्हें एक समुदाय विशेष का समर्थन प्राप्त है, लेकिन वे यूपी के अंदर भाजपा को चैलेंज नहीं कर सकते। भाजपा अपने मुद्दों, मूल्यों के साथ चुनावी मैदान में रहेगी। हम उनके चैलेंज को स्वीकार करते हैं।

Divyansh Singh

मिट्टी का तन, मस्ती का मन; छड़ भर जीवन, मेरा परिचय।

Related Post

मेरी हिम्मत को परखने की गुस्ताखी न करना, संजय राउत के इस ट्वीट पर संबित पात्रा ने कसा तंज

Posted by - September 6, 2020 0
सुशांत सिंह राजपूत हत्या मामले में जहां एक ओर एनसीबी और सीबीआई की जांच जोरों पर है। और इस मामले…
नेट बैंकिंग के जरिये विदेश में धन ट्रांसफर करता था सलीम

नेट बैंकिंग के जरिये विदेश में धन ट्रांसफर करता था सलीम

Posted by - March 2, 2021 0
यूपी एसटीएफ द्वारा अयोध्या से गिरफ्तार किये गये नेपाली नागरिक सलीम ने खुलासा किया है कि उसके साथ के कई अन्य नेपालियों ने फर्जी दस्तावेजों के जरिये बैंक खाता खोलवाकर रुपये लेन-देन कर रहे हैं। ऐसे लोगों ने यूपी के विभिन्न शहरों में यहां की आईडी तक बनवा रखी है। सलीम से पूछताछ के बाद एसटीएफ उसके ऐसे कई नेपाली नागरिकों की तलाश कर रही है। सलीम को सोमवार को गिरफ्तार किया गया था। वह वाट्सएप कॉल के जरिए पाकिस्तान, सऊदी अरब और सूडान के नागरिकों से भी बात भी करता था। उसके पास से फर्जी आधार कार्ड और नेपाली दस्तावेज बरामद हुए थे। शाहजहांपुर में 3 स्कूली छात्राएं लापता यूपी एसटीएफ के एक अधिकारी ने बताया कि सलीम की गिरफ्तारी के बाद उसके गहन पूछताछ की गयी। पूछताछ में बताया कि उसके साथ नेपाल से आये कई और साथियों ने यूपी के विभिन्न जिलों में फर्जी दस्तावेज तैयार कर विभिन्न बैंकों में खाते खुलवा रखे हैं जिनके जरिये वे लोग रुपये का ट्रांजेक्शन करते हैं। वे लोग नेट बैंकिग के जरिये विदेशों में धन ट्रांसफर कर रहे हैं। सलीम ने ऐसे अपने कई साथियों के नाम पते भी बताए हैं। सलीम से पूछताछ के बाद एसटीएफ ऐसे लोगों के बारे में पता लगाने में जुटी है। नेपाल के बांके जिले के लक्षनपुर, नेपालगंज का रहने वाले मो. सलीम खान को यूपी एसटीएफ ने कल गिरफ्तार किया था। दरअसल, एसटीएफ को काफी समय से सूचना मिल  रही थी कि एक संदिग्ध व्यक्ति अयोध्या व उसके आस पास के जिलों में अलग-अलग स्थान पर फर्जी दस्तावेजों के आधार पर अपनी पहचान को छिपाकर रह रहा है। इस सूचना पर एसटीएफ की एक टीम छानबीन में लगायी गयी थी। जांच में पता चला कि ये व्यक्ति नेपाली नागरिक सलीम खान है। उसने अपनी जन्म तिथि व अन्य पहचान छिपाकर फर्जी दस्तावेज से अपना आधार बनवाया है जिसका नम्बर 381360937629 है। उसी आधार पर उसने भारतीय मोबाइल सिम कार्ड लिया है और वर्ष-2016 में श्रावस्ती में इलाहाबाद व इण्डियन बैंक की हेमपुर ब्रांच में खाता संख्या खुलवाया है। यूपी पंचायत चुनाव में इस बार उम्मीदवारों को मिलेंगे ये चिन्ह…