कोरोनावायरस

लोकतंत्र में हिंसा के लिए कोई जगह नहीं, ये विपक्ष की शरारत : सीएम योगी

520 0

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ ने लखनऊ में हुई तोड़फोड़ व आगजनी की घटना में सख्त प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने कहा कि इस मामले को लेकर उच्चस्तरीय बैठक बुलाई गई है। योगी ने कहा कि आप विरोध के नाम पर हिंसा में शामिल नहीं हो सकते। उन्होंने कहा कि हम ऐसे तत्वों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करेंगे। दोषी पाए गए लोगों की संपत्ति जब्त करेंगे और सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान की भरपाई करेंगे।

योगी आदित्यनाथ ने कहा कि विरोध प्रदर्शन और हिंसा को मिलाया नहीं जा सकता है। हिंसा करने वाले तत्वों पर सख्त एक्शन लिया जाएगा। योगी बोले यूपी में हुई हिंसा के जिम्मेदार लोगों की संपत्ति जब्त की जाएगी जिससे सार्वजनिक संपत्ति को हुए नुकसान की भरपाई की जाएगी। इन लोगों की पहचान सीसीटीवी फुटेज से की जाएगी।

एडीजी ,सीओ व आईजी भी घायल

लखनऊ में एडीजी जोन एसएन साबत को पत्थर लगा। इनके साथ ही उपद्रवियों के पथराव में आईजी एसके भगत भी पथराव में घायल हो गए हैं। सीओ हजरतगंज अभय मिश्रा को भी आंख में चोट लगी है। परिवर्तन चौक में पथराव में कई पुलिस कर्मी घायल हैं। यहां पर प्रदर्शनकारियों ने ड्यूटी पर लगे पुलिसकर्मियों पर पथराव किया। लखनऊ में खदरा से लेकर हजरतगंज तक दुकानें बंद हैं। सरकारी व प्राइवेट दफ्तर खाली कराए गए सभी लोगों को घर वापस भेजा गया।

लोकतंत्र में हिंसा की कोई जगह नहीं है, संशोधित नागरिकता बिल का दुष्प्रचार करना बंद करें। इस कानून को लेकर कांग्रेस, सपा और वामपंथी दल साजिश फैलाने की कोशिश कर रहे हैं। उसे कहना है कि इस मामले में राजनीतिक रोटियां नहीं सेकें।

योगी लगातार पूरे घटनाक्रम पर नजर बनाए हुए हैं। जानकारी के अनुसार सीएम योगी आदित्यनाथ ने अपर मुख्य सचिव, गृह अवनीश अवस्थी और प्रदेश के डीजीपी ओपी सिंह को उपद्रवियों से सख्ती से निपटने के निर्देश दिए हैं। सीएम योगी आदित्यनाथ ने आम जन के जानमाल की सुरक्षा हर हाल में सुनिश्चित करने को कहा है। इसके साथ ही उपद्रवियों को चिन्हित कर कड़ी कार्रवाई की जाएगी। अफवाह फैलाने वालों पर भी निगरानी के निर्देश दिए हैं।

एडीजी एलओ ने बताया कि लखनऊ में बवाल के मामले में पांच लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है। उधर केंद्रीय गृह मंत्रालय ने राजधानी लखनऊ में हुई हिंसा पर बैठक बुलाई है। गृह मंत्री अमित शाह इसको लेकर बेहद गंभीर हैं।

लखनऊ के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक कलानिधि नैथानी ने कहा कि पुलिस ने स्थिति को नियंत्रित कर लिया है। यहां पर गलियों से जो भीड़ आ रही थी, उन्हें वापस गलियों में खदेड़ दिया है। साथ ही अराजक तत्वों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जा रही है। लखनऊ में प्रदर्शन के दौरान टीवी चैनलों की ओबी वैन फूंकी गई। हालांकि हिंसा की आशंका को देखते हुए डीजीपी ओपी सिंह ने लोगों से गुरुवार को घर से न निकलने की अपील की थी लेकिन लोग तीन तीन के गुट में निकलकर इकट्ठा होने लगे और इस तरह से हजारों प्रदर्शनकारियों सड़कों पर आ गए और पुलिस पर पथराव शुरू कर दिया।

लखनऊ के कमिश्नर मुकेश मेश्राम ने बताया कि स्थिति अब नियंत्रण में

उधर लखनऊ के कमिश्नर मुकेश मेश्राम ने बताया कि स्थिति अब नियंत्रण में है। उपद्रवियों को चिन्हित किया जा रहा है। सीसीटीवी और तमाम फुटेज हमारे पास हैं, सभी दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। साथ ही कमिश्नर ने कहा कि इस मामले में जिन्होंने भी इस प्रदर्शन के लिए सूचना भेजी और आह्वान किया, उन सभी से नुकसान की भरपाई भी की जाएगी।

Related Post

भारतीय रेलवे

ट्रेन में भी अब मिलेगा खाने को ये सब, IRCTC ने निकाला ‘खुशियों की डिलीवरी’ योजना

Posted by - December 9, 2019 0
नई दिल्ली। ट्रेनों में हर रोज अधिक से अधिक लोग यात्रा करते हैं। ऐसे बहुत से लोग हैं जिनका प्रतिदिन…