खुद को पूर्व प्रधानमंत्री के खानदान का बताता हैै धर्मांतरण करवाने का आरोपी उमर गौतम

519 0

एटीएस ने सोमवार को धर्मांतरण के मामले में जिस मोहम्मद उमर को गिरफ्तार किया है, वह खुद को पूर्व प्रधानमंत्री के खानदान का होने का दावा कर रहा है। उमर गौतम मूलरूप से फतेहपुर के थरियांव थाने के रमवां पंथुआ गांव का निवासी है। उसका नाम श्याम प्रताप सिंह गौतम था। वह राजपूत परिवार से है। उसने एटीएस से दावा किया है कि वह पूर्व प्रधानमंत्री वीपी सिंह के खानदान का है जिसकी सच्चाई जानने के लिए फतेहपुर पुलिस से संपर्क किया जा रहा है।

एडीजी कानून व्यवस्था प्रशांत कुमार के मुताबिक उमर के पिता धनराज सिंह एडीओ पंचायत पद से सेवानिवृत्त थे। उसने कक्षा एक से आठ तक की शिक्षा रमवां परिषदीय स्कूल से ली और कक्षा नौ से 12 तक की पढ़ाई सर्वोदय इंटर कालेज गोपालगंज से पूरी की थी। पढ़ाई-लिखाई में होशियार होने पर पिता ने उसको बीएससी एजी की पढ़ाई के लिए जीबी पंत कृषि प्रौद्यौगिकी विश्वविद्यालय उत्तराखंड भेजा। वहां नैनीताल में हास्टल में रहने के दौरान उसके पैर में चोट लग गई थी और बगल के कमरे में रहने वाले मुस्लिम छात्र ने उसकी मदद की थी।

वह उमर को अपनी साइकिल पर बैठाकर डाक्टर के पास ले गया। उक्त छात्र अक्सर उसे मस्जिद भी ले जाता था. इस दौरान उमर ने हिंदी में कुरान पढ़ी और उससे प्रभावित हो गया। उमर ने साल 1984 में 20 साल की आयु में नैनीताल में ही धर्मांतरण कर लिया था।

उमर के 5 भाई हैं। उसने जिले के ही गाजीपुर थानाक्षेत्र के खेसहन गांव में क्षत्रिय परिवार में राजेश कुमारी से शादी की थी। यह भी चर्चा है कि अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में पढ़ाई के दौरान भी उसने एक मुस्लिम युवती से निकाह पढ़ लिया था। उमर की पहली पत्नी राजेश कुमारी के परिवार के सदस्यों को उसके मुस्लिम धर्म अपनाने का पता चला तो काफी बवाल हुआ था। हालांकि, दोनों के बीच समझौता हुआ कि राजेश कुमारी और उसके बच्चे धर्म परिवर्तन नही कराएंगे।

हालांकि कुछ समय बाद उमर पत्नी और दोनों बच्चों को लेकर दिल्ली चला गया और वहां उनका धर्म परिवर्तन कराकर उन्हें भी मुस्लिम बना दिया। पत्नी का नाम उसने रजिया रखा जबकि बेटी का नाम तकदीश फातिमा और बेटे का नाम आदिल उमर करा दिया। दिल्ली में ही उसने इस्लामिक दावा सेंटर खोलकर हिंदुओं को फुसलाकर मुस्लिम बनाने का काम शुरू किया। एटीएस के अधिकारियों का कहना है कि धर्मांतरण की जानकारी के बाद उमर के पिता ने पांच अन्य बेटों से राय-मशविरा कर उसे परिवार से बेदखल कर दिया था। एटीएस उमर के बारे में छोटी से छोटी जानकारी जुटा रही है।

Related Post

नेट और जेएनयू

नेट और जेएनयू प्रवेश परीक्षाओं की आवेदन 30 अप्रैल तक तिथि बढ़ी

Posted by - March 30, 2020 0
नई दिल्ली। राष्ट्रीय टेस्टिंग एजेंसी ने कोरोना महामारी को देखते हुए विश्वविद्यालय अनुदान आयाेग (यूजीसी) राष्ट्रीय पात्रता परीक्षा और जवाहरलाल…
CM Dhami

प्रधानमंत्री आवास योजना- ग्रामीण में 18602 अतिरिक्त आवास की स्वीकृति मिली

Posted by - November 25, 2022 0
देहारादून। केंद्र सरकार द्वारा प्रधानमंत्री आवास योजना- ग्रामीण में उत्तराखण्ड के लिये 18602 अतिरिक्त आवास की स्वीकृति मिली है। मुख्यमंत्री…
Susheel Chandra,Aadhar

आधार को वोटर लिस्ट से जोड़ने का नियम जल्द होगा लागू, मुख्य निर्वाचन आयोग ने दी जानकारी

Posted by - May 14, 2022 0
नई दिल्ली। मुख्य निर्वाचन आयुक्त सुशील चंद्रा (chief election commissioner Susheel Chandra) ने कहा कि सरकार आधार कार्ड (Aadhar Card)…