Parvez

खान मुबारक के दाहिने हाथ परवेज को एसटीएफ ने मुठभेड़ में किया ढेर

605 0

पूर्वांचल के माफिया खान मुबारक के शूटर व एक लाख के इनामी परवेज (Parvez) को गोरखपुर एसटीएफ ने रविवार दोपहर चिलुआताल के चिउटहा पुल पर हुई मुठभेड़ में मार गिराया। मुठभेड़ के दौरान उसका एक साथी फरार हो गया, जिसकी तलाश की जा रही है।

एसटीएफ के एडीजी अमिताभ यश ने बताया कि एसटीएफ गोरखपुर यूनिट के प्रभारी निरीक्षक सत्यप्रकाश सिंह को सूचना मिली थी कि एक लाख का इनामी बदमाश परवेज (Parvez) महराजगंज की तरफ से शहर की तरफ आ रहा है। अंबेडकरनगर जिले के एक व्यापारी से उसने रंगदारी मांगी है, जिसे वह वसूलने जा रहा है। उच्चाधिकारियों को सूचना देने के बाद प्रभारी निरीक्षक टीम को लेकर चिउटहा पुल के पास पहुंच गए।

बाइक से साथी के साथ आ रहे बदमाश को टीम ने रोका तो वह फायरिंग कर कुदरिया बंधे की तरफ भाग निकला। पीछा करने पर उसने फिर फायरिंग शुरू कर दी। जवाबी कार्रवाई में बदमाश के सीने व पैर में गोली लग गई। गंभीर हालत में एसटीएफ की टीम परवेज (Parvez) को प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र ले गई, जहां से मेडिकल कालेज रेफर कर दिया गया। मेडिकल कालेज पहुंचने पर डाक्टरों ने मृत घोषित कर दिया।

मुठभेड़ में शातिर बदमाश के ढेर होने की खबर मिलते ही मौके पर एसपी नार्थ मनोज अवस्थी, सीओ कैंपियरगंज पहुंच गए। प्रभारी निरीक्षक एसटीएफ सत्यप्रकाश सिंह ने बताया कि बदमाश के पास से .32 बोर व नाइन एमएम की एक-एक पिस्टल, आठ कारतूस, 500 रुपये और एक बैग मिला, जिसमें जरूरत के सामान रखा था। परवेज (Parvez) के खिलाफ अंबेडकरनगर जिले के अलीगंज और हंसवर में हत्या, हत्या की कोशिश, रंगदारी मांगने के दर्जनों मुकदमे दर्ज हैं।

पुलिस ने बताया कि खान मुबारक का शूटर परवेज (Parvez) अंबेडकरनगर जिले के अलीगंज टांडा थाना क्षेत्र के मकदूमनगर का रहने वाला था। चर्चा है कि उसने गोरखपुर में भी किसी की हत्या करने की सुपारी ली थी, जिसके बाद एसटीएफ की गोरखपुर यूनिट ने परवेज (Parvez) की तलाश शुरू कर दी थी। अंबेडरनगर की क्राइम ब्रांच उसकी तलाश में महाराष्ट्र व मध्य प्रदेश में छापेमारी कर रही थी। उसके कई करीबियों को भी जेल भेजा गया था।

पुलिस के मुताबिक आतंक का पर्याय बन चुके परवेज (Parvez) ने अंबेडकरनगर और आसपास के जिले के व्यापारियों से वसूली शुरू कर दी थी। इसके बाद वह एसटीएफ के निशाने पर आ गया था। बताया जा रहा है कि रविवार को वह नेपाल से गोरखपुर पहुंचा था। गोरखपुर में किसी करीबी से मुलाकात करने के बाद उसे अंबेडकरनगर जाना था, लेकिन सूचना मिलने पर एसटीएफ ने चिउटहा पुल के पास घेर लिया था।

Related Post