केरल के वाटकारा की 77 वर्षीय मिनाक्षी अम्मा भारत के सबसे पुराने मार्शल आर्ट को आगे बढ़ाने में जी-जान से जुटी हैं

185 0

केरल के वाटकारा की रहने वाली 77 साल की मिनाक्षी अम्मा भारत के सबसे पुराने कलारीपयट्‌टू युद्ध कौशल की अग्रदूत प्रतिनिधि हैं। वे मार्शल आर्ट की इस पुरानी कला को बढ़ावा देने में जी-जान से जुटी हैं। उन्हें साड़ी पहनकर घंटो प्रैक्टिस करते हुए देखा जा सकता है। महज सात साल की उम्र में उन्होंने इसे सीखने की शिक्षा लेना शुरू कर दिया था। मिनाक्षी के विद्यार्थियाें में अधिकांश लड़कियां हैं जिनकी उम्र 6 से 26 साल के बीच है।

मिनाक्षी ये मानती हैं कि इस कला को जितनी कम उम्र से सीखा जाए, आप उसमें उतनी ही जल्दी महारत हासिल करते हैं। उनके आर्ट स्कूल में फीस नहीं ली जाती। हर साल के आखिर में उनके विद्यार्थी अपनी मर्जी से जो चाहे, वो गुरू दक्षिणा दे सकते हैं। उनके ऐसे कई विद्यार्थी हैं जो यहां सीखकर इस कला को आगे बढ़ा रहे हैं।

चीनी साइबर अटैक से US और यूरोप परेशान

मिनाक्षी के अनुसार, मेरे पिता ने कभी मुझे कलारीपयट्‌टू सीखने से नहीं रोका। वे इस कला को अपने लिए वरदान मानती हैं। उनकी शादी राघवन मास्टर से हुई जो खुद एक स्कूल टीचर थे। उन्होंने अपना खुद का ट्रेनिंग स्कूल खोला जहां कोई भी इस कला को सीख सकता था। यहीं 17 साल की उम्र में मिनाक्षी ने कलारीपयट्‌टू का प्रशिक्षण देने की शुरुआत की। मिनाक्षी का इस कला के प्रति समर्पण देखकर उनकी दो बेटी और दो बेटों ने भी छह साल की उम्र में इसे सीखना शुरू किया। 2017 में उन्हें पद्म श्री से सम्मानित किया गया। इस उम्र में उनका जोश देखकर ये कहना गलत नहीं होगा कि उम्र सिर्फ एक नंबर है।

Related Post

यूनेस्को के विश्व धरोहर में शामिल हुआ तेलंगाना का हजार खंभो वाला काकतीय रुद्रेश्वर मंदिर

Posted by - July 25, 2021 0
तेलंगाना में स्थित काकतीय रुद्रेश्वर (रामप्पा मंदिर) मंदिर को यूनेस्को ने रविवार को विश्व धरोहर मे  शामिल कर लिया। वहीं…

उत्तराखंड की बेटी शीतल समेत पांच भारतीयों ने माउंट एलब्रुस पर फहराया तिरंगा

Posted by - August 17, 2021 0
उत्तराखंड में कुमाऊं मंडल विकास निगम (केएमवीएन) मुख्यालय के साहसिक खेल विभाग में कार्यरत सल्मोड़ा, पिथौरागढ़ (उत्तराखंड) निवासी पर्वतारोही शीतल (25)…
haridwar kumbh 2021

महाकुंभ 2021: आस्था और आकर्षण का केंद्र बनेगा 141 फुट ऊंचा डमरू-त्रिशूल

Posted by - March 27, 2021 0
हरिद्वार । भगवान भोलेनाथ के ससुराल धर्मनगरी में उनका डमरू-त्रिशूल श्रद्धालुओं की आस्था और आकर्षण का केंद्र बनेगा। श्री पंचदशनाम…