Haridwar Kumbh

कोविड-19 के बढ़ते खतरे के चलते 250 विदेशी संतों की संन्यास दीक्षा पर लगा ब्रेक

85 0

हरिद्वार। कोविड-19 के बढ़ते खतरे के चलते हरिद्वार महाकुंभ (Haridwar Kumbh 2021) में विदेशी संतों के संन्यास दीक्षा पर ब्रेक लग गया है। अमेरिका और रूस समेत दुनियाभर से 250 विदेशियों ने संन्यास दीक्षा संस्कार के लिए श्री पंचदशनाम जूना अखाड़ा को सहमति प्रस्ताव भेजे हैं। जूना अखाड़ा ने प्रस्तावों को फिलहाल टाल दिया है। जूना अखाड़ा पांच अप्रैल को नागा संन्यासियों को दीक्षा देगा। इसमें देशभर से तीन हजार नागाओं को दीक्षा दी जाएगी।

अखाड़ा स्तर पर इसकी तैयारियां शुरू हो गई हैं। श्री पंचदशनाम जूना अखाड़ा संन्यासियों का सबसे बड़ा अखाड़ा है। दुनियाभर के संत और अनुयायी अखाड़ा से जुड़े हैं। हर कुंभ में देश और विदेश से आने वाले संतों को संन्यास की दीक्षा दी जाती है। हरिद्वार कुंभ में कोविड का साया मंडरा रहा है। देश-दुनिया में कोरोना के केस बढ़ने से अखाड़ा ने संन्यास दीक्षा समारोह को सीमित कर दिया है। सुरक्षा के लिहाज से विदेशी संतों के हरिद्वार आने से मना कर दिया है।

कोरोना अपडेट: देश में लगातार दूसरे दिन 62 हजार नए मामले आए, 312 संक्रमितों की मौत

जूना अखाड़े के अंतरराष्ट्रीय संरक्षक एवं अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के महामंत्री श्रीमहंत हरिगिरि के मुताबिक रूस, अमेरिका, ब्रिटेन, इंग्लैंड, जर्मनी, पाकिस्तान, नेपाल और श्रीलंका समेत कई देशों से 250 लोगों ने हरिद्वार कुंभ में संन्यास की दीक्षा के लिए सहमति आवेदन किए हैं। अखाड़ा की कार्यकारिणी ने फिलहाल विदेशियों के प्रस्ताव को टाल दिया है और विदेशियों को आने पर मनाही कर दी है।

श्रीमहंत हरिगिरि के मुताबिक नागा संन्यासियों के संन्यास की दीक्षा का पांच अप्रैल को मुहूर्त निकाला गया है। समारोह में तीन हजार नागाओं को संन्यास की दीक्षा दी जाएगी। इसके लिए देशभर में फैली अखाड़ा की शाखाओं के माध्यम से पंजीकरण कराया जा रहा है। पांच अप्रैल को जूना अखाड़ा की प्राचीन शाखा दुख हरण हनुमान मंदिर मायापुरी हरिद्वार स्थित घाट पर संस्कार की दीक्षा होगी।

सुबह आठ बजे से आयोजन होगा। सबसे पहले जनेऊ-मुंडन संस्कार होगा। विधि विधान से सनातनी बनाया जाएगा। इसके बाद पिंडदान कराया जाएगा। दीक्षा के बाद संत घर-परिवार की मोहमाया त्यागकर सनातन धर्म का प्रचार-प्रसार करेंगे। 25 अप्रैल को भी संन्यास दीक्षा संस्कार होगा। जो संत पांच अप्रैल को होने वाले संस्कार में शामिल नहीं हो पाएंगे वो 25 अप्रैल में आएंगे।

संन्यास की दीक्षा लेने के बाद नागा संत अपनी साधना में लीन हो जाएंगे। संतों को अखाड़ा की शाखाओं में विभाजित कर दिया जाएगा। नागा संत कुंभ को छोड़कर अन्य मेलों में नहीं दिखते हैं। एक शहर में बारह साल बाद कुंभ होता है। नागा कुंभ अवधि में आते हैं और बाकी समय अखाड़ा की शाखा क्षेत्र में साधना करते हैं।

श्री पंचदशनाम जूना अखाड़ा की यूरोप और एशिया के कई देशों में संपत्ति है। सबसे अधिक पांच लाख हेक्टेयर भूमि नेपाल में है। अखाड़ा के अंतरराष्ट्रीय संरक्षक श्रीमहंत हरिगिरि बताते हैं, विदेशी अनुयायियों ने ही जमीनें दान में दी हैं। रूस समेत कई देशों के अनुयायियों ने वहां मंदिर बनाने की सहमति मांगी है। विदेशी हरिद्वार महाकुंभ में शामिल होना चाहते हैं, हालांकि कोविड के चलते अखाड़ा की कार्यकारिणी की ओर से अभी उनको आने की सहमति नहीं दी है।

Related Post

Char Dham Yatra

कोरोना ने लगाया चारधाम यात्रा पर ग्रहण, सिर्फ इन्हें मिली पूजन दर्शन की अनुमति

Posted by - April 30, 2021 0
देहरादून।  कोविड मामलों में जबरदस्त उछाल के चलते अगले माह शुरू होने वाली चारधाम यात्रा (Char Dham Yatra) को स्थगित…

उत्तराखंड: रोडवेज बस और बाइक की जबरदस्त टक्कर, मौके पर युवक की मौत

Posted by - November 6, 2019 0
उत्तराखंड।  कालाढूंगी-रामनगर हाईवे पर आज यानी बुधवार एक दर्दनाक हादसा हो गया है जिसमे रोडवेज बस और बाइक की टक्कर…
Narendra Giri

मुगलों की जगह सड़कों पर लिखें देशभक्तों के नाम, अखाड़ा परिषद अध्यक्ष नरेंद्र गिरी की मांग

Posted by - March 31, 2021 0
हरिद्वार। अखाड़ा परिषद अध्यक्ष नरेंद्र गिरी (Narendra Giri) ने दिल्ली में मुगलों के नाम पर बनी सड़कों के नाम बदल…
CM Teerath Singh Rawat

CM तीरथ पहुंचे हरिद्वार, गंगा पूजन के बाद किया 120 करोड़ के कुंभ कार्यों का लोकार्पण

Posted by - March 20, 2021 0
 हरिद्वार । मुख्यमंत्री तीरथ सिंह (CM Teerath Singh) रावत शनिवार को हरिद्वार भ्रमण पर हैं। उन्होंने आज सुबह जौलीग्रांट एयरपोर्ट…