गाजीपुर प्रशासन ने मुख्तार अंसारी की पत्नी साले की 18 करोड़ की संपत्ति की ज़ाब्त

372 0

प्रदेश के माफियाओं के खिलाफ योगी सरकार लगातार एक्शन मोड में है। इन पर शिकंजा कसने के साथ लगातार ताबड़तोड़ कार्रवाई हो रही है। प्रशासन माफियाओं के अवैध निर्माणों को ध्वस्त कराने, अवैध संपत्ति को कुर्क करने के साथ ही शस्त्र लाइसेंसों को निलंबित करने की कार्रवाई कर रही है।

गाजीपुर में मंगलवार को जिला प्रशासन ने आईएस 191 गैंग के लीडर बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी की पत्नी आफसा अंसारी और साले सरजील रजा की नगर के सैय्यदबाड़ा स्थित एक करोड़ 18 लाख के आवासीय भवन को मुनादी कराकर कुर्क किया। वहीं लखनऊ के गोमतीनगर स्थित एक करोड़ के आवासीय फ्लैट को कुर्क करने के लिए जिला पुलिस टीम लखनऊ के लिए रवाना होगी।

सीओ सिटी ओजस्वी चावला ने बताया कि प्रदेश में माफियाओं के विरुद्ध चल रहे अभियान के तहत जिलाधिकारी एमपी सिंह ने पुलिस की आख्या पर दो अगस्त को गैंगस्टर एक्ट की धारा 14 (1) के तहत मुख्तार अंसारी की पत्नी आफसा अंसारी और साले सरजील रजा की कुल दो करोड़ 18 लाख की संपत्ति को कुर्क करने का आदेश जारी किया था।

तेजिंदरपाल सिंह फाइनल में क्वालीफाई करने से चूके, पहलवान सोनम मालिक भी पदक रसे से बाहर

आदेश के क्रम में नगर के सैय्यदबाड़ा स्थित आवासीय भवन (अनुमानित लागत एक करोड़ 18 लाख) को मुनादी कराकर कुर्क करने की कार्रवाई की गई। इसके साथ ही लखनऊ के गोमतीनगर स्थित आवासीय फ्लैट (अनुमानित लागत एक करोड़) के कुर्की की कार्रवाई के लिए जिले की पुलिस टीम लखनऊ रवाना होगी।

Divyansh Singh

मिट्टी का तन, मस्ती का मन; छड़ भर जीवन, मेरा परिचय।

Related Post

पुलिस को नहीं मिल पा रहा धनंजय का कोई सुराग

पुलिस को नहीं मिल पा रहा धनंजय का कोई सुराग

Posted by - April 5, 2021 0
पूर्व प्रमुख अजीत सिंह हत्याकांड में आरोपित पूर्व सांसद धनंजय सिंह की तलाश में लखनऊ पुलिस लगातार छापेमारी कर रही है लेकिन अभी तक उसका कोई सुराग नहीं लग पाया है। छापेमारी करने जा रही पुलिस टीम बैरंग वापस लौट रही हैं। शनिवार को जौनपुर में उसके कालीकुत्ती स्थित आवास व अन्य स्थानों पर छापेमारी की गयी  थी लेकिन उसके न मिलने पर पुलिस टीम को खाली हाथ वापस लौटना पड़ा था। इसके अलावा पुलिस टीमों ने राजधानी में धनंजय के करीबी लोगों के ठिकानों पर भी छापेमारी की है लेकिन उसका कुछ पता नहीं चल सका है। मालूम हो कि सूबे की राजधानी लखनऊ में गत छह जनवरी को मऊ के पूर्व ब्लाक प्रमुख अजीत सिंह की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। मुठभेड़ में मारे जा चुके अजीत सिंह हत्याकांड के शूटरों में एक कन्हैया विश्वकर्मा उर्फ गिरधारी उर्फ डाक्टर के बयान के आधार पर लखनऊ पुलिस ने धनंजय सिंह को साजिशकर्ता के तौर पर आरोपित किया था। पुलिस को चकमा देकर धनंजय सिंह ने पिछले महीने पुराने केस में एमपीएमएलए कोर्ट प्रयागराज में आत्मसमर्पण कर दिया था। नैनी सेंट्रल जेल से उसे फतेहगढ़ सेंट्रल जेल स्थानांतरित कर दिया गया था। महाराष्ट्र में कोरोना से हालात बेकाबू, सरकार का नाइट कर्फ्यू, वीकेंड लॉकडाउन का ऐलान जब तक लखनऊ पुलिस उसे अजीत हत्याकाण्ड में वारन्ट लेती तब तक गत 31 मार्च को एमपीएमएलए कोर्ट से जमानत मंजूर हो जाने पर वह गुपचुप तरीके से जेल से रिहा हो गया था। इसे लेकर लखनऊ पुलिस की खूब किरकिरी हुई। इसके बाद से लखनऊ पुलिस अजीत हत्याकाण्ड में उसे आरोपी मानकर लगातार  छापेमारी कर रही है लेकिन उसका कुछ पता नहीं चल पा रहा है। इसी कड़ी में धनंजय सिंह की तलाश में शनिवार को जौनपुर गयी लखनऊ पुलिस की टीम ने स्थानीय पुलिस को साथ लेकर उसके कालीकुत्ती स्थित आवास पर दबिश दी थी। वह घर पर नहीं मिला। इसके बाद पुलिस ने उसकी तलाश में जमैथा निवासी करीबी आशुतोष सिंह के दीवानी कचहरी रोड स्थित आवास पर भी छापेमारी की थी। पूर्व सांसद के गृह गांव सिकरारा थाना क्षेत्र के बनसफा गांव में भी दबिश दी गयी। मालूम हो कि शनिवार को धनजंय सिंह की पत्नी श्रीकला रेड्डी ने जिला पंचायत सदस्य पद के लिए नामांकन पत्र दाखिल किया था।