CSIR

लाइलाज बीमारियों की आयुर्वेदिक दवाएं तैयार करेगी CSIR की 36 प्रयोगशालाएं

428 0

नई दिल्ली। आयुर्वेद का देश में फिर महत्व बढ़ता नजर आ रहा है। इसके माध्यम से करोड़ों मरीजों को बेहतर उपचार उपलब्ध कराने के लिए जल्द ही नई आयुर्वेदिक दवाएं मिल सकेंगी। इस दिशा में कदम उठाते हुए केंद्रीय वैज्ञानिक एवं औद्योगिक अनुसंधान परिषद ( CSIR )  ने 36 प्रयोगशालाओं में आयुर्वेद के फामूर्लो से नई दवाएं खोजने का फैसला लिया है। इसके लिए सीएसआईआर ने केंद्रीय आयुष मंत्रालय के साथ करार किया है। दोनों विभागों ने उम्मीद जताई है कि इससे आने वाले समय में देश में लाइलाज बीमारियों की नई दवाओं की खोज का रास्ता साफ होगा।

मनुष्य की जेनेटिक संरचना की प्रकृति अलग-अलग होती है , इसलिए दवाएं भी अलग-अलग होनी चाहिए

CSIR  के महानिदेशक डॉ. शेखर सी. मांडे ने बताया कि सीएसआईआर ने पूर्व में आयुर्वेद से जुड़े कई अहम शोध किए हैं। एक शोध में इस बात की पुष्टि हुई है कि मनुष्य की जेनेटिक संरचना की प्रकृति अलग-अलग होती है। इसे आयुर्वेद के वात, कफ और पित्त प्रकृति के अनुरूप पाया गया है। यानी तीनों प्रकृतियों की जेनेटिक संरचना के लोगों के लिए अलग-अलग दवाएं होनी चाहिए।

ये भी पढ़ें :-राफेल डील मामले में SC से मोदी को बड़ा झटका, चार मई तक में दाखिल करें जवाब 

CSIR व आयुष मंत्रालय से करार होने के बाद परंपरागत चिकित्सा ज्ञान से नई दवाओं की होगी खोज 

इस शोध में प्रकृति के आधार पर भी दवाएं विकसित करने की दिशा में कार्य किया जाएगा। आयुष मंत्रालय से करार होने के बाद परंपरागत चिकित्सा ज्ञान से नई दवाओं की खोज होगी। इसके साथ ही कुछ फामूर्लों को खाद्य पदार्थ के रूप में पेश किया जाएगा, जिनसे लोगों का बीमारियों से बचाव हो सके। इससे पहले ही CSIR बड़े पैमाने पर पौधों से निर्मित प्राकृतिक दवाओं पर गहन अनुसंधान गतिविधियों में शामिल हो चुका है। इसी के तहत दुनिया के कई देशों में तेजी से बढ़ते मधुमेह रोग के लिए बड़े पैमाने पर CSIR -NBRI और CSIR -CIMAP  विकसित किया ने है।

ये भी पढ़ें :-मोदी नही बने 2019 में पीएम, तो अयोध्या में जाकर आत्महत्या कर लूंगा -वसीम रिजवी 

हाल ही में आयुर्वेद को लेकर डिजिटल लाइब्रेरी विकसित की जा चुकी है, जिसमें आयुर्वेद के सभी फामूर्लो को कई विदेशी भाषाओं में लिपिबद्ध किया गया

जानकारी के अनुसार, बीजीआर-34 एक वैज्ञानिक रूप से विकसित दवा जो विभिन्न चिकित्सकीय परीक्षणों को पूरा कर बनाई गई है। यह मधुमेह को नियंत्रित करने में अत्यंत लाभकारी है। आयुष मंत्रालय के सचिव डॉ. राजेश कोटेचा का कहना है कि हाल ही में आयुर्वेद को लेकर डिजिटल लाइब्रेरी विकसित की जा चुकी है, जिसमें आयुर्वेद के सभी फामूर्लो को कई विदेशी भाषाओं में लिपिबद्ध किया गया है। इससे आयुर्वेद के नुस्खों पर विदेशों में होने वाले पेटेंट पर रोक लग गई है,लेकिन अब इन्हीं फामूर्लों को खंगालकर सीएसआईआर नई दवा विकसित करेगा।

Related Post

राहुल गांधी का ट्विटर अकाउंट अस्थाई रूप से निलंबित, कांग्रेस ने दी जानकारी 

Posted by - August 7, 2021 0
कांग्रेस नेता और वायनाड से सांसद राहुल गांधी को ट्विटर अकाउंट शनिवार निलंबित कर दिया गया। इस बारे में कांग्रेस…