वेंकैया

पाठ्यक्रम में महारत किसी भी शैक्षिक प्रक्रिया का सबसे महत्वपूर्ण पहलू : वेंकैया

274 0

पुड्डुचेरी। उप राष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने कहा कि पाठ्यक्रम और विषय में महारत किसी भी शैक्षिक प्रक्रिया का सबसे महत्वपूर्ण पहलू है।
यह बात नायडू ने बुधवार को पांडिचेरी विश्वविद्यालय (पीयू) के 28वें दीक्षांत समारोह को संबोधित करते हुए कही।

हमें यूनेस्को द्वारा सुझाए गए सभी चार स्तंभों को समान महत्व देना चाहिए

उन्होंने कहा कि हमें उस महत्वपूर्ण पहलू पर जोर देना चाहिए जिसे आमतौर पर ‘भावनात्मक बुद्धिमत्ता’ कहा जाता है, एक अच्छा इंसान बनने की क्षमता, संतुलित, तर्कसंगत और संवेदनशील व्यक्ति जो मानवता की भलाई के लिए ज्ञान का उपयोग करता है।  उन्होंने कहा कि हमें यूनेस्को द्वारा सुझाए गए सभी चार स्तंभों को समान महत्व देना चाहिए। जानने के लिए सीखना, करने के लिए सीखना और एक साथ रहने के लिए सीखना समान रूप से महत्वपूर्ण है। वर्तमान वैश्विक संदर्भ में चौथा स्तंभ ‘एक साथ रहने के लिए सीखना’ संभवत: सबसे महत्वपूर्ण है।

इस बहादुर पत्रकार की बेवाक पत्रकारिता से प्रधानमंत्री सत्ता से हुए बेदखल 

वेंकैया ने कहा कि किसी भी व्यक्ति को अपनी मातृभाषा अवश्य सीखनी चाहिए

वेंकैया ने कहा कि किसी भी व्यक्ति को अपनी मातृभाषा अवश्य सीखनी चाहिए। मातृभाषा का अभ्यास करना सबसे महत्वपूर्ण है तथा अन्य भाषाओं को सीखने में भी कोई समस्या नहीं है। हिंदी भी सीखें जो राष्ट्रीय स्तर पर अवसर प्रदान करेगी। उप राष्ट्रपति ने कहा कि किसी भी भाषा का अंधा विरोध गलत है और हर व्यक्ति को पहले अपनी मातृभाषा में माहिर बनना चाहिए।

Related Post

प्रधानमंत्री ने कहा -“मोदी की मां को गाली देने से,कांग्रेस के नेताओं की ज़मानत नहीं बचेगी,जनता कांग्रेस को मुंहतोड़ जवाब देगी”

Posted by - November 24, 2018 0
छतरपुर।मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव में सभी नेता अपने-अपने तरीके से जहाँ एक ओर जनता को लुभाने में जुटे हैं वही…
Sachin Tendulkar

क्रिकेट के भगवान की दिखी दीवानगी, वैज्ञानिक ने मकड़ी की प्रजाति का नाम सचिन रखा

Posted by - November 12, 2019 0
नई दिल्ली। क्रिकेट के सफलतम खिलाड़ी सचिन तेंदुलकर का जादू सन्यास लेने के बाद भी अब भी बोल रहा है।…