Children's Day

Children’s Day : बाल दिवस पर दे सकते हैं ये भाषण

436 0

नई दिल्‍ली।  Children’s Day हर साल 14 नवंबर को बड़े ही उत्साह के साथ मनाया जाता है। पंडित जवाहर लाल नेहरू की जयंती को बाल दिवस के रूप में मनाया जाता है।

जवाहर लाल नेहरू को बच्चों से काफी प्रेम था और बच्चे उन्हें चाचा नेहरू कहकर बुलाते थे। नेहरू कहते थे कि बच्चे देश का भविष्य है। इसलिए ये जरूरी है कि उन्हें प्यार दिया जाए और उनकी देखभाल की जाए जिससे वे अपने पैरों पर खड़े हो सकें। बाल दिवस के दिन बच्चों को गिफ्ट्स दिए जाते हैं। स्कूलों में रंगारंग कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं, साथ ही बच्चे विभिन्न प्रतियोगिताओं में भाग लेते हैं। स्कूलों में भाषण प्रतियोगिता होती है। इस Children’s Day अगर आप भाषण देने वाले हैं तो आप इस तरह का भाषण दे सकते हैं।

जवाहर लाल नेहरू के जन्मदिवस पर क्यों मनाया जाता है बाल दिवस?

Children’s Day पर भाषण

आदरणीय शिक्षकों और मेरे प्यारे साथियों को सुप्रभात,

आज Children’s Day है और मैं आप सभी को इस दिन की शुभकामनाएं देता/देती हूं। हम सभी आज यहां Children’s Day मनाने के लिए एकत्र हुए हैं। चाचा नेहरू की जयंती के मौके पर हर साल 14 नवंबर को बाल दिवस मनाया जाता है। आज का दिन बेहद खास है। बच्चे घर और समाज में खुशी का कारण होने के साथ ही देश का भविष्य भी होते हैं। जवाहर लाल नेहरू हमेशा बच्चों के बीच में घिरे होना पसंद करते थे। पंडित नेहरू बहुत ही प्रेरणादायक और प्रेरित प्रकृति के थे। वह हमेशा बच्चों को कठिन परिश्रम और बहादुरी के कार्य करने के लिए प्रेरित करते थे। बच्चों के प्रति उनके प्रेम के कारण बच्चे उन्हें चाचा नेहरु कहते थे। 1964 में, उनकी मत्यु के बाद से, उनका जन्मदिन पूरे भारत में बाल दिवस के रुप में मनाया जाने लगा। Children’s Day उत्सव का आयोजन देश के भविष्य के निर्माण में बच्चों के महत्व को बताता है। बच्चे राष्ट्र की बहुमूल्य सम्पत्ति होने के साथ ही भविष्य और कल की उम्मीद हैं, इसलिए उन्हें उचित देखरेख और प्यार मिलना चाहिए। हमारे देश में अभी भी काफी सारे बच्चे बाल मजदूरी में फंसे हैं और कुछ लोग अपने थोड़े से लाभ के लिए उनका शोषण कर रहे हैं। वास्तव में Children’s Day का अर्थ पूर्ण रुप से तब तक सार्थक नहीं हो सकता, जब तक हमारे देश में हर बच्चे को उसके मौलिक बाल अधिकारों की प्राप्ति ना हो जाए। भले ही बच्चों के भलाई और बाल अधिकारों के लिए के लिए सरकार द्वारा कई सारी योजनाएं क्यों ना चलायी जा रही हों पर उन तक उनका लाभ नहीं पहुंच पा रहा है, ऐसे में Children’s Day के अवसर पर हम सब को मिलकर बाल अधिकारों के प्रति जागरुकता फैलानी चाहिए।

मैं आपको अपने भाषण को सुनने के लिए धन्यवाद देना चाहता हूं और इसी के साथ एक कविता पढ़कर अपनी वाणी को विराम देना चाहता हूं/चाहती हूं।

Related Post

प्रियंका गांधी वाड्रा

केंद्र में बैठी सरकार किसानों के पेट पर लात मारकर अपने मित्रों की जेब भर रही है -प्रियंका

Posted by - October 26, 2019 0
नई दिल्ली। उत्तर प्रदेश की प्रभारी प्रियंका गांधी वाड्रा ने एक बार फिर से केंद्र सरकार पर हमला बोला है।उन्होंने…
राज ठाकरे के बेटे की राजनीति में एंट्री

राज ठाकरे के बेटे की राजनीति में एंट्री के साथ बदला एमएनएस का झंडा और नारा

Posted by - January 23, 2020 0
मुंबई। महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (एमएनएस) प्रमुख राज ठाकरे ने गुरुवार को मुंबई में पार्टी के पहले महाधिवेशन पर नया भगवा…