ब्लॉक प्रमुख चुनाव हिंसा पर योगी का एक्शन

260 0

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में ब्लाक प्रमुख चुनाव के नामांकन के दौरान हिंसा और अभद्रता के मामले पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कड़ा रुख अपनाया है। लखीमपुर खीरी में एक महिला प्रस्तावक के साथ अभद्रता के मामले में मुख्यमंत्री ने सीओ के साथ थाना प्रभारी को निलंबित करने का निर्देश दिया है।

योगी ने शुक्रवार को टीम-9 के साथ समीक्षा बैठक में गुरुवार को ब्लाक प्रमुख चुनाव के नामांकन के दौरान जिलों में हिंसा और अभद्रता पर रिपोर्ट तलब की। इसके बाद उन्होंने मामले में कड़ा रुख अपनाया। उन्होंने लखीमपुर में महिला प्रस्ताव के साथ अभद्रता के मामले में क्षेत्राधिकारी और थाना प्रभारी को निलंबित करने का आदेश दिया है। इतना ही नहीं उन्होंने मौके पर मौजूद लापरवाही बरतने वाले अन्य पुलिस अधिकारियों के खिलाफ भी कड़ी कार्रवाई का निर्देश दिया है। इसके साथ ही सभी आरोपितों के साथ सख्त कार्रवाई करने को कहा है। उनका कहना है कि किसी भी दशा में माहौल खराब करने की एक भी कोशिश स्वीकार नहीं की जायेगी।

मुख्यमंत्री के निर्देश पर सीओ मोहम्मदी अभय प्रताप मल्ल व पसगवां एसएचओ आदर्श कुमार के साथ ही एक अन्य इंस्पेक्टर व तीन दारोगा को सस्पेंड कर दिया गया है। मामले की एफआइआर दर्ज करके पुलिस ने एक आरोपित को गिरफ्तार भी कर लिया है। जिलाधिकारी डॉ अरविंद कुमार चौरसिया ने मामले की मजिस्ट्रीरियल जांच के आदेश भी दिये हैं।

योगी ने कहा कि जिला पंचायत के बाद अब ब्लॉक प्रमुख निर्वाचन प्रक्रिया शांतिपूर्ण ढंग से संपन्न कराई जाये। इस दौरान जिन जिलों से अप्रिय घटना की सूचना मिली है, वहां घटनास्थल पर तैनात जिम्मेदार अधिकारियों और माहौल बिगाड़ने वाले लोगों के खिलाफ जीरो टॉलरेंस की नीति के साथ तत्काल कठोरतम कार्रवाई की जाये। किसी भी हाल में माहौल खराब करने की एक भी कोशिश स्वीकार नही जायेगी। पुलिस बल अतिरिक्त सतर्कता और संवेदनशीलता के साथ मुस्तैद रहे। कहीं पर असलहा आदि का प्रदर्शन करने वालों के हथियार जब्त कर यथावश्यक कार्रवाई की जाये।

बता दें कि लखीमपुर खीरी जिले में पसगवां ब्लॉक की सपा प्रत्याशी रितु सिंह ने आरोप लगाया कि भाजपा कार्यकतार्ओं ने उनकी महिला प्रस्तावक के साथ बदसलूकी की और उनके कपड़े तक फाड़ दिये। ब्लाक प्रमुख चुनाव के नामांकन के दौरान गुरुवार को पसगवां में भारी अराजकता हुई थी। इसमें जहां सपा प्रत्याशी रीतू सिंह ने आरोप लगाया कि भाजपा के लोगों ने उन्हें नामांकन दाखिल नहीं करने दिया, वहीं उनकी एक महिला प्रस्तावक के साथ की गयी बदसलूकी का वीडियो वायरल होने के बाद मामला काफी तूल पकड़ गया। यह सब होने के दौरान वहां तैनात पुलिस मूक दर्शक बनी रही।

एसपी विजय ढुल ने बताया कि पुलिस की लापरवाही इस प्रकरण में सामने आने के बाद सीओ मोहम्मदी अभय प्रताप मल्ल्, एसएचओ पसगवां आदर्श कुमार सिंह, इंस्पेक्टर हनुमान प्रसाद के अलावा बरबर चौकी इंचार्ज महेश गंगवार, जेबीगंज चौकी इंचार्ज दुर्वेश गंगवार और उचौलिया चौकी इंचार्ज उग्रसेन को निलंबित कर दिया गया है। महिला प्रस्तावक के साथ हुई अभद्रता के मामले में सपा प्रत्याशी रीतू सिंह की तहरीर पर पुलिस ने भाजपा कार्यकर्ता बृजकिशोर व यश वर्मा समेत अन्य अज्ञात भाजपा कार्यकतार्ओं के खिलाफ कई संगीन धाराओं में एफआइआर दर्ज की है। एसपी ने बताया कि आरोपित यश वर्मा और ब्रज सिंह को गिरफ्तार कर लिया गया है। अन्य आरोपितों की तलाश के लिए एएसपी अरुण कुमार सिंह के नेतृत्व में चार पुलिस टीमों को लगाया गया है।

Related Post

जिस महिला की भाजपाईयों ने खींची थी साड़ी उस अनीता यादव से मिलेंगी प्रियंका गांधी

Posted by - July 17, 2021 0
यूपी में विधानसभा चुनाव की तैयारियों में जुटी कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी इस वक्त तीन दिन के लिए लखनऊ में…
महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन

महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लागू करने की सिफारिश, शिवसेना जा सकती है सुप्रीम कोर्ट

Posted by - November 12, 2019 0
मुंबई। महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यिारी ने मंगलवार को राज्य में राष्ट्रपति शासन लागू करने की सिफारिश कर दी…

हमारे लोकतंत्र को मजबूत नींव देने वाले चुनाव आयुक्त टीएन शेषन का हो गया निधन

Posted by - November 11, 2019 0
नई दिल्ली। आज सोमवार को भारत के दसवें चुनाव आयुक्त और हमारे लोकतंत्र को मजबूत नींव देने वाले टीएन शेषन…