CM Yogi Adityanath

भूमि अधिग्रहण मामले में सीएम योगी का एक्शन, गाजियाबाद की पूर्व DM सस्पेंड

264 0

लखनऊ: गाजियाबाद में सीएम योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) की फिर बड़ी कार्यवाही

1. तत्कालीन जिलाधिकारी गाजियाबाद निधि केसरवानी निलंबित

भ्रष्टाचार के खिलाफ जीरो टालरेंस की नीति के तहत उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने गाजियाबाद की पूर्व जिलाधिकारी निधि केसरवानी को निलंबित कर दिया है। इसके साथ ही इस मामले में जांच आख्या उपलब्ध होने के बावजूद अग्रिम कार्यवाही में विलंब करने पर नियुक्ति विभाग के अनुभाग अधिकारी, समीक्षा अधिकारी को भी निलंबित करने के आदेश दिया है। अनुसचिव पर भी कार्रवाई होगी। सीएम आफिस के ट्विटर हैंडल से यह जानकारी साझा की गई।

सुगम हुआ आवगमन, पर्यटन और रोजगार की संभावनाओं को लगे पंख : CM Yogi

2. निलंबित करते हुए विभागीय कार्यवाही शुरू करने हेतु प्रकरण भारत सरकार को संदर्भित करने के आदेश दिए

3. केंद्रीय प्रतिनियुक्ति पर दिल्ली में तैनात हैं तत्कालीन डीएम गाजियाबाद

आईएएस अधिकारी निधि केसरवानी वर्तमान में केंद्र सरकार में डिप्टी सेक्रेटरी नेशनल इंस्टीट्यूट आफ हेल्थ एंड फैमिली वेलफेयर में तैनात हैं। 2004 बैच की मणिपुर कैडर से आने वाली निधि केसरवानी के खिलाफ भूमि अधिग्रहण मामले में गड़बड़ी का आरोप है। वह 21 जुलाई, 2016 को गाजियाबाद की डीएम बनी थी। आईएएस निधि केसरवानी के खिलाफ कार्रवाई अब केंद्र सरकार को करनी है। प्रदेश सरकार ने उनके खिलाफ विभागीय कार्रवाई शुरू करने के लिए भारत सरकार को पत्र लिखा है। सरकार ने इस मामले में दोषियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने का भी आदेश दिया है।

4. भूमि अधिग्रहण में अनियमितता पर सीएम योगी (CM Yogi Adityanath) की बड़ी कार्यवाही

आरोप है कि इस घोटाले में अधिकारियों ने शुरुआत में किसानों से सस्ते रेट पर जमीन खरीद ली और फिर उसे अपने रिश्तेदारों को खरीदवाकर सरकार को कई गुना ऊंचे रेट पर बिकवा दी गई थी। मेरठ मंडल के पूर्व आयुक्त डॉ. प्रभात कुमार ने गाजियाबाद के तत्कालीन जिलाधिकारी विमल कुमार शर्मा और निधि केसरवानी समेत कई अधिकारियों और कर्मचारियों को दोषी पाया था।

5. तत्कालीन जिलाधिकारी गाजियाबाद को निलंबित करते हुए विभागीय कार्यवाही के निर्देश

मुख्यमंत्री कार्यालय ने बुधवार को एक बयान में कहा है कि इस केस से जुड़ी पत्रावली की जांच रिपोर्ट आने के बावजूद कार्रवाई करने में देरी करने वाले नियुक्ति विभाग के अनुभाग अधिकारी व समीक्षा अधिकारी को भी निलंबित किया जाएगा। वहीं इस मामले में अनुसचिव के खिलाफ कठोर कार्रवाई के लिए निर्देश दिया गया है।

6. तत्कालीन जिलाधिकारी गाजियाबाद वर्तमान में केंद्र सरकार में तैनात हैं निधि केसरवानी

2019 में हुई उत्तर प्रदेश सरकार की कैबिनेट की बैठक में इन दोनों अधिकारियों पर कार्रवाई की मंजूरी दी गई थी। विमल शर्मा रिटायर हो चुके हैं जबकि निधि केसरवानी भारत सरकार में तैनात हैं।

सीएम ने कहा कि जांच रिपोर्ट उपलब्ध होने के बावजूद क्रियान्वित ना करने वाले नियुक्त विभाग के अफसरों पर भी कार्यवाही होगी। इसी क्रम में मुख्यमंत्री ने अनुभाग अधिकारी और समीक्षा अधिकारी को भी तत्काल प्रभाव से सस्पेंड किया है।

इसके साथ ही अनुसचिव नियुक्ति विभाग के खिलाफ विभागीय कार्यवाही और जांच के निर्देश दिए हैं। सीएम योगी (CM Yogi Adityanath) ने दोषियों के खिलाफ FIR दर्ज कराने के आदेश दिए हैं।

सीएम योगी ने यमकेश्वर मंदिर में जलाभिषेक कर की पूजा-अर्चना

Related Post

सपा नेता की हत्या

मऊ में सपा नेता और पूर्व ग्राम प्रधान की गोली मारकर हत्या, मचा हड़कंप

Posted by - January 12, 2020 0
मऊ। मऊ जिले के मुहम्मदाबाद गोहना कोतवाली के कोपागंज ब्‍लॉक के बरजला शेखवलिया गांव निवासी पूर्व प्रधान बिजली यादव की…
cm yogi

जो अच्छा काम करेगा वो सरकारी सेवा में लिया जाएगा: सीएम योगी

Posted by - October 21, 2022 0
लखनऊ। मुख्यमंत्री फेलोशिप (CM Fellowship) के सभी 100 शोधार्थी अपने आकांक्षात्मक विकासखंडों में काम करने के साथ ग्रामीण विकास पर…
rahul-gandhi

देश के चंद शीर्ष उद्योगपतियों के फायदे के लिए सरकार किसानों की आय और भविष्य छीनना चाहती है: राहुल गांधी

Posted by - March 21, 2021 0
रायपुर। तीन कृषि कानूनों को लेकर केंद्र की भाजपा सरकार पर हमला तेज करते हुए कांग्रेस नेता राहुल गांधी (Rahul…