असम-मिजोरम संघर्ष: अपनों की मौतों का प्रतिशोध लेना होगा, पुलिस- सरकार की भी नहीं सुनेंगे- बोले BJP नेता

168 0

49 साल पुराने सीमा विवाद को लेकर मिजोरम और असम के बीच तनाव की स्थिति है, इसी बीच असम से भाजपा विधायक कौशिक राय ने बात बढ़ाने वाले बयान दिए हैं। राय ने कहा- अगर उनका राज्य जरूरी सामान-चीज की आवाजाही पड़ोसी सूबे में जाने से रोक दे, तो वहां के लोग भूखे मरने के कगार पर भी आ सकते हैं। पत्रकारों से बात करते हुए उन्होंने अपने सूबे के लोगों से इस बात पर भी जोर देने के लिए कहा कि असम वालों को अपनों की मौतों का प्रतिशोध लेना चाहिए।उन्होंने कहा- हम सरकार या फिर पुलिस की नहीं सुनेंगे। हमें पूरी तरह से “आर्थिक नाकाबंदी” सुनिश्चित कर देनी चाहिए। बता दें कि बीते दिन असम के मुख्यमंत्री हेमंत बिस्वा सरमा ने लोगों को मिजोरम की यात्रा से बचने का परामर्श दिया था।

मिजोरम के गृहमंत्री लालचमलियाना ने असम पुलिस पर आरोप लगाते हुए कहा कि असम पुलिस ने वैरेंगटे ऑटो-रिक्शा स्टैंड पर CRPF कर्मियों के ड्यूटी पोस्ट को जबरन पार किया और मिजोरम पुलिस के एक ड्यूटी पोस्ट को पलट दिया. उन्होंने कहा कि असम पुलिस ने मिजोरम पुलिस पर आंसू गैस के गोले दागे, और मिजोरम पुलिस ने जवाबी कार्रवाई की।

इससे पहले, जोरमथांगा ने ट्विटर पर लिखा था कि असम पुलिस ने मिजोरम में नागरिकों पर लाठीचार्ज किया और आंसू गैस का इस्तेमाल किया. दोनों मुख्यमंत्रियों ने बातचीत के जरिये इसका हल निकालने को कहा था। असम और मिजोरम के बीच 165 किलोमीटर की सीमा है. एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक, ये विवाद सदियों पुराना है जब मिजोरम को असम के एक जिले लुशाई हिल्स के रूप में जाना जाता था।

विवाद 1875 की एक अधिसूचना से उपजा है, जो लुशाई पहाड़ियों को कछार के मैदानी इलाकों से अलग करता है, और दूसरा 1933 में, जो लुशाई पहाड़ियों और मणिपुर के बीच की सीमा का सीमांकन करता है। मिजोरम के एक मंत्री ने पिछले साल द इंडियन एक्सप्रेस को बताया था कि मिजोरम का मानना है कि सीमा का सीमांकन 1875 की अधिसूचना के आधार पर किया जाना चाहिए, जो बंगाल ईस्टर्न फ्रंटियर रेगुलेशन (BEFR) एक्ट, 1873 से लिया गया है।

कभी गाली तो कभी पुलिस लाठी बरसाती है, UP में हक मांगना अपराध है?- पूर्व IAS ने CM से किया सवाल

मिजो नेताओं ने इससे पहले, 1933 अधिसूचना के तहत सीमांकन के खिलाफ तर्क दिया है, क्योंकि इसमें मिजो समाज से सलाह नहीं ली गई थी।  रिपोर्ट के मुताबिक, असम सरकार 1933 के सीमांकन का पालन करती है, और यही संघर्ष का मुद्दा था।

Related Post

रज्जू भैया सैनिक स्कूल

बुलंदशहर : रज्जू भैया सैनिक स्कूल में शैक्षिक सत्र 2020-2021 की प्रवेश प्रक्रिया शुरू

Posted by - January 29, 2020 0
बुलंदशहर। बुलदंशहर जनपद में देश का पहला सैनिक स्कूल बनकर तैयार हो गया है। आरएसएस के पूर्व सरसंघचालक राजेंद्र सिंह…
Yogi Visited DRDO Hospital

DRDO ने बनाया अत्याधुनिक सुविधाओं से परिपूर्ण अस्पताल, सीएम ने की तारीफ

Posted by - May 1, 2021 0
लखनऊ। कोरोना के खिलाफ लड़ाई में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) कोरोना निगेटिव होते ही ग्राउंड जीरो पर उतर पड़े।…

सीएम बघेल का तंज, एयर इंडिया और सिंधिया दोनो बिकाऊ, इसलिए इन्हें मिली बिक्री की जिम्मेदारी

Posted by - July 14, 2021 0
केंद्र सरकार द्वारा मंत्रिमंडल विस्तार को लेकर जारी चर्चा अभी भी जारी है, कांग्रेस से भाजपा में शामिल हुए ज्योतिरादित्य…