Dispose of missiles in wardha

16 वर्षों से कानपुर के रेलवे यार्ड में रखी हैं 7 घातक मिसाइलें

286 0

कानपुर। उत्तर प्रदेश के कानपुर स्थित जूही कंटेनर डिपो में रखीं 70 मिसफायर और 7 एक्टिव मिसाइलों को अब महाराष्ट्र के वर्धा (Dispose of missiles in wardha) जिले में नष्ट करने की तैयारी चल रही है। कानपुर में इन मिसाइलों को निष्क्रिय करने के न तो संसाधन हैं और न ही उचित स्थान। लिहाजा सेना के नेतृत्व में वर्धा में इन्हें डिस्पोज (Dispose of missiles in wardha) किया जाएगा।

ATS को मिले सबूत, UP में बांग्लादेशियों की कराई जा रही घुसपैठ

महानगर के जूही स्थित इनलैंड कंटेनर डिपो में 16 सालों से बंद मिसाइलें रखी हुई हैं, जो विस्फोटक हैं। इनके विस्फोटक होने का आंकलन भी अभी तक नहीं हुआ है। कहा जा सकता है कि कानपुर बारूद के ढेर पर बैठा हुआ है। कई बार इसको लेकर वार्ताएं की गईं और पत्र लिखे गए, लेकिन हर जगह हीला-हवाली के अलावा इनके डिस्पोजल की योजना नहीं बनी। अब मामले को गंभीरता से लेते हुए जूही कंटेनर डिपो में रखें 70 मिस फायर और 7 एक्टिव मिसाइलों को वर्धा (महाराष्ट्र) में डिफ्यूज (Dispose of missiles in wardha) करने की योजना बनाई जा रही है।

2005 में यूएई मंगाई गई थी स्क्रैप

2005 में यूएई (संयुक्त अरब अमीरात) से आईसीडी में आए कबाड़ में 7 जीवित और 70 मिस फायर मिसाइलें आ गई थी। 2005 में मैसर्स स्टील कंपनी में यूएसए मेटल स्क्रैप की एक बड़ी खेप मंगाई थी। स्क्रैप को जूही यार्ड के इनलैंड कंटेनर डिपो में उतारा गया था।वहीं जब कंटेनर खोला गया तो उसमें विस्फोटक निकलने से हड़कंप मच गया था।  उस वक्त यह माना गया था कि धोखे से स्क्रैप के साथ मिसाइल मिसफायर बम आउटसेल आ गए होंगे। इन विस्फोटकों को तब डिफ्यूज करने की बात कहकर कंटेनर में रख दिया गया था, लेकिन 16 साल बीत गए अभी तक सिर्फ हीला हवाली होती रही, लेकिन अब सेना की निगरानी में इनको महाराष्ट्र में डिफ्यूज (Dispose of missiles in wardha) किया जाएगा।

स्थानीय बम डिस्पोजल स्क्वाड ने खड़े किए थे हाथ

विस्फोट को डिफ्यूज (Dispose of missiles in wardha) करने के लिए लोकल पुलिस ने असमर्थता जताते हुए हाथ खड़े कर दिए थे। इसके बाद इतनी शक्तिशाली मिसाइल को कंटेनर में बालू रखकर यार्ड में खड़ा कर दिया गया था। डेढ़ दशक में इसके डिफ्यूज करने के लिए कई बार वार्ता और लेटर लिखे गए, लेकिन फाइल एक विभाग से दूसरे विभाग ही घूमती रही।

हालांकि, बकायदा अपर मुख्य सचिव ने केंद्र सरकार से डिफ्यूज करने के लिए मदद भी मांगी थी, जिसके बाद सेना की मदद से सभी मिसाइलों को महाराष्ट्र के वर्धा जिले में ले जाकर डिफ्यूज (Dispose of missiles in wardha) करने की कवायद शुरू हो गयी है।

Related Post

कोरोना योद्धा

कोरोना योद्धा : जीवीएमसी आयुक्त जी श्रीजना डिलेवरी के 22 दिन वें ड्यूटी पर लौंटी

Posted by - April 12, 2020 0
नई दिल्ली। कोरोना की जंग में बहुत से ऐसे हीरो हैं, जो परिवार से पहले अपने कर्तव्य को प्राथमिकता दे…

PM मोदी- विपक्ष की मानसिकता महिला विरोधी, लोगों ने याद दिला दिया ‘दीदी ओ दीदी’ वाला कमेंट

Posted by - July 19, 2021 0
मॉनसून सत्र शुरू होते ही हंगामा भी शुरू हो गया, राज्यसभा में विपक्ष के हंगामे के बीचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी…

बीजेपी नेता ने शक्तिकांत दास के लिए कहा,”दुआ करता हूं कि कहीं वो RBI भी इतिहास न बना दें”

Posted by - December 13, 2018 0
नई दिल्ली। आरबीआई के गवर्नर के पद से इस्तीफा देने के बाद उर्जित पटेल की जगह शक्तिकांत दास ने पद…
ममता बनर्जी

ममता बोली- NRC के डर से 30 लोगों ने की आत्महत्या, इसकी जिम्मेदारी कौन लेगा?

Posted by - December 17, 2019 0
कोलकाता। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि हमारे प्रदेश में NRC (नेशनल रजिस्टर ऑफ़ सिटिज़न्स) के डर…