रिलायंस ‘जियोमीट’ जूम से बेहतर

अमिताभ कांत बोले- रिलायंस ‘जियोमीट’ जूम से बेहतर

213 0

नई दिल्ली। नीति आयोग के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) अमिताभ कांत ने रिलायंस जियो के वीडियो कांफ्रेंसिंग ऐप ‘‘जियोमीट’ की प्रशंसा करते हुए इसे ‘जूम’ से बेहतर बताया है। जियोमीट का इस्तेमाल करने के बाद इसकी सुविधाओं के पहली बार में ही कायल हुए श्री कांत ने इसे जूम ऐप के मुकाबले बेहतर करार दिया।

अमिताभ कांत ने  जियोमीट ऐप के इस्तेमाल का अपना अनुभव साझा किया

उन्होंने शनिवार को ट्वीट किया और जियोमीट ऐप के इस्तेमाल का अपना अनुभव साझा किया। उन्होंने लिखा कि जियोमीट वीडियो कांफ्रेंसिंग ऐप का इस्तेमाल किया और जूम के मुकाबले इसे कहीं सरल और बेहतर पाया। वीडियो कॉलिंग पूरी तरह एनक्रिप्टेड और पॉसवर्ड से संरक्षित है।

 नीति आयोग सीईओ ने कहा कि जियोमीट का डेटा भी देश में ही स्टोर होता है

जियोमीट के सॉफ्ट लॉन्च और इसके इस्तेमाल से सभी को मुफ्त वीडियो कांफ्रेंसिंग सुविधा के बाद इस बाजार पर कब्जे की लड़ाई की प्रतिस्पर्धा आने वाले समय में तेज होने की प्रबल संभावना है। रिलायंस के जियोमीट पर असीमित हाई डेफिनेशन कॉलिंग की सुविधा को भी श्री कांत ने सराहा। नीति आयोग सीईओ ने कहा कि जियोमीट का डेटा भी देश में ही स्टोर होता है।

भारत सरकार ने जूम ऐप को वीडियो कांफ्रेंसिंग के लिए असुरक्षित घोषित कर दिया

गौरतलब है कि डेटा सुरक्षा के मानदंडों पर जूम खरी नहीं उतर पायी है और इसी वर्ष भारत सरकार ने जूम ऐप को वीडियो कांफ्रेंसिंग के लिए असुरक्षित घोषित कर दिया था। जियोमीट की प्रशंसा करते हुए सीईओ ने इसे तकनीकी दुनिया में पासा पलटने वाला भारतीय ऐप बताया जिसमें इस संकट काल में आगे बढ़ने की असीम संभावनाएं हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की’ वोकल फॉर लोकल’ की अपील और सरकार के 59 चीनी ऐप्स पर प्रतिबंध से देशी ऐप्स की मांग में आने वाले समय में असीम संभावनाएं प्रबल हुई हैं । सॉफ्ट लॉन्च के चंद दिनों के भीतर ही जियोमीट ऐप पांच लाख से अधिक बार डाउनलोड किया जा चुका है। जियोमीट के साथ साथ अन्य देशी ऐप जैसे चिंगारी और रोपोसो जैसे ऐप्स के डाउनलोडिंग में जबर्दस्त इजाफा हुआ है।

नेपोटिज्म पर तापसी का बड़ा बयान, बोलीं- स्टार किड्स की वजह से कई फिल्में हाथों से निकलीं

जियोमीट में एक बार में मेजबान समेत 100 लोग वीडियो कांफ्रेंसिंग का फ्री इस्तेमाल कर सकते हैं। जूम ऐप से हटकर जियोमीट में वीडियो कांफ्रेंसिंग की कोई समय सीमा भी तय नही की गई है। जूम ऐप पर फ्री वीडियो कॉलिंग के लिए मात्र 40 मिनट की अवधि दी जाती है। इससे अधिक समय तक कॉलिंग के लिए मेजबान को 15 डॉलर प्रतिमाह भुगतान करना होता है।

वहीं जियोमीट पर ग्राहक लगातार नि:शुल्क 24 घंटे तक बातचीत कर सकते हैं। जियोमीट पर 24 घंटे तक कांफ्रेसिंग की सुविधा को एक्सपर्ट पासा पलटने वाला बता रहे हैं। समय सीमा के कारण जूम पर वीडियो कांफ्रेंसिंग करने वालो को हर 40 मिनट में बाद दोबारा लॉगइन करना पड़ता है जिससे ग्राहकों को अनवरत बैठक करने में खासी दिक्कत आती थी।

उदाहरण के लिए लिए लाॅकडाउन में घर से काम करने स्थिति में महत्वपूर्ण बैठक या तो 40 मिनट से पहले समाप्त करनी पड़ती थी अथवा फिर दोबार लॉगइन करे अन्यथा सालाना लगभग 180 डॉलर चुकाना होगा। शिक्षा क्षेत्र में भी जहां संसाधन सीमित है, वहां जूम ऐप के समय का प्रतिबंध ऑनलाइन कक्षाओं में बाधा उत्पन्न कर रहा है।

जियोमीट को गूगल प्लेस्टोर या एप्पल स्टोर से डाउनलोड किया जा सकता है। यह एंड्रायड और एप्पल पर समान रूप से काम करता है। जियोमीट माइक्रोसॉफ्ट विंडोज को भी सपोर्ट करता है इसलिए इस्तेमालकर्ता इसे डेस्कटॉप या लेपटॉप पर भी आसानी से डाउनलोड कर सकते हैं।

Loading...
loading...

Related Post

शादी में यूं झूमकर नाची बॉलीवुड अभिनेत्री कियारा आडवाणी, Video वायरल

Posted by - December 7, 2019 0
नई दिल्ली। बॉलीवुड एक्ट्रेस कियारा आडवाणी सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव रहती हैं। हाल ही में एक्ट्रेस का एक वीडियो…
नीतीश कुमार की दो टूक

तीन तलाक़ को लेकर एनडीए और जदयू की रहे हुई अलग,नीतीश कुमार ने कहा नहीं करेंगे समर्थन

Posted by - January 4, 2019 0
पटना। तीन तलाक़ को लेकर जहाँ एक तरफ एनडीए विधेयक लाकर इसके लिए मुस्लिम महिलाओं को सशक्त बनाने के प्रयास…