जायरा वसीम जैसे हालात का सामना कर रही चुकी हैं ये एक्ट्रेस

441 0

इंटरटेनमेंट डेस्क। ‘दंगल गर्ल’ जायरा वसीम के फिल्म इंडस्ट्री छोड़ने के बाद बॉलीवुड के अब तक कई सितारे उनके पक्ष और विपक्ष में अपनी प्रतिक्रिया दे चुके हैं। इस बीच एक्ट्रेस नफीसा अली ने अपनी निजी जिंदगी पर कई खुलासे करते हुए जायरा वसीम द्वारा बॉलीवुड छोड़ने पर उनके लिए फैसले पर अपनी प्रतिक्रिया दी है।

ये भी पढ़ें :-ट्रेलर लॉन्च: एक वक्त था जब मुझे भी लोग ‘मेंटल’ बोलने लगे थे-कंगना रनौत

आपको बता दें बीते दिनों कैंसर से जूझ रही नफीसा अली ने हाल में खुद के कैंसर फ्री होने की बात कही है. उनका कहना है कि वो पूरी तरह कैंसर फ्री हो गई हैं। इसी दौरान जूम टीवी से बात करते हुए उन्होंने कहा कि एक वक्त पर जायरा की ही तरह उन्होंने भी फिल्म इंडस्ट्री को अलविदा कह दिया था।

ये भी पढ़ें :-जेठ की शादी के बाद स्टाइलिश लुक में दिखे प्रियंका- निक 

जानकारी के मुताबिक जूम को दिए अपने एक इंटरव्यू में नफीसा अली ने कहा ,’जायरा वसीम की तरह मैं भी अपनी जिंदगी के ऐसे ही दौर में थी। जब मैं यंग और जुनूनी थी। उस समय में खुद को सफल समझती थी क्योंकि मेरे पास बहुत सारे ऑफर थे। मुझे मेरी फैमिली का सपोर्ट नहीं मिला था। मेरे पिता कहते थे कि हमारे घर की लड़कियां सिनेमा में काम नहीं करती हैं।’

View this post on Instagram

This is the new me … older , grey and feeling positive . "I saw myself when I was 20 and I just felt for young actor Zaira Wasim . I thought let me put this message out that work is something which is your choice, it is your freedom, your independent right. There are many pressures young people are surrounded by… but if you have a choice, make you sure you think and make the right choice." "Because I always look back and say why did I give in, why did I listen to my father, I should have listened to myself “.

A post shared by nafisa ali sodhi (@nafisaalisodhi) on

ये भी पढ़ें :-इन ब्लाउज़ डिजाइन्स के साथ लगाएं अपने स्टाइल में तड़का 

उन्होंने आगे कहा, ‘मैं खुद को जब 20 की उम्र में देखती हूं तो उनकी (जायरा वसीम) तरह महसूस करती हूं। इसलिए मैंने सोचा कि मुझे यह संदेश देना चाहिए कि काम वहीं करो जो तुम्हें पसंद हो। ये तुम्हारी आजादी का अधिकार है। तुम्हारे आस-पास के लोगों को देखकर तुम्हारे ऊपर बहुत दबाव होता है, लेकिन तुम्हारे पास च्वाइस होती है खुद को सुनिश्चित करने की, कि तुम्हें क्या करना है। क्योंकि जब मैं अपनी बीती जिंदगी के बारे में सोचती हूं तो यही कहती हूं कि मैं क्यों अपने पिता या किसी की सुनूं, मुझे खुद की सुननी चाहिए।’

Related Post