अकाउंट्स लॉक पर ट्विटर का जवाब- नियम सभी के लिए समान, ट्विटर का जवाब

142 0

राहुल गांधी के अलावा कांग्रेस और उसके कई सीनियर नेताओं के अकाउंट्स को लॉक किए जाने को लेकर ट्विटर ने बयान जारी किया है।माइक्रो-ब्लॉगिंग साइट का कहना है कि हम अपने नियमों को न्यायिक तरीके से और बिना किसी पक्षपात के लागू करते हैं।ट्विटर की ओर से जारी बयान में कहा गया कि हमने ऐसे सैकड़ों ट्वीट पर अपनी ओर से कार्रवाई की है, जो हमारे नियमों का उल्लंघन करते हैं।

ट्विटर ने कहा- कुछ निजी जानकारियां अन्य के मुकाबले ज्यादा खतरनाक होती हैं, हमारा लक्ष्य है कि किसी भी व्यक्ति की प्राइवेसी को बचाया जाए। अकाउंट ब्लॉक करने के बारे में बताते हुए ट्विटर ने कहा कि उसे राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग ने अलर्ट किया था।

कांग्रेस ने बुधवार देर रात दावा किया था कि रणदीप सुरजेवाला समेत पांच वरिष्ठ नेताओं के अकाउंट के खिलाफ भी इसी तरह की कार्रवाई की गयी है. अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी (एआईसीसी) के महासचिव और पूर्व केंद्रीय मंत्री अजय माकन, लोकसभा में पार्टी के सचेतक मनिकम टैगोर, असम प्रभारी और पूर्व केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह और महिला कांग्रेस अध्यक्ष सुष्मिता देव के ट्विटर अकाउंट भी निलंबित हैं।

राउत का आरोप- राज्यसभा में लागू किया गया ‘मार्शल लॉ !

दरअसल, कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने पिछले हफ्ते दिल्ली में कथित बलात्कार और हत्या की शिकार नौ वर्षीय बच्ची के परिवार के साथ की तस्वीरें ट्वीट की थीं।  इसके बाद राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग (एनसीपीसीआर) ने राहुल गांधी के ट्वीट का संज्ञान लिया और ट्विटर को नाबालिग पीड़िता की निजता का उल्लंघन करने के लिए कांग्रेस नेता के अकाउंट के खिलाफ कार्रवाई करने का निर्देश दिया था।

Divyansh Singh

मिट्टी का तन, मस्ती का मन; छड़ भर जीवन, मेरा परिचय।

Related Post

पीएम नरेंद्र मोदी

लोकसभा चुनाव 2019 : वाराणसी में पीएम नरेंद्र मोदी का रोड शो शुरू, उमड़ा जनसैलाब

Posted by - April 25, 2019 0
वाराणसी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बीएचयू गेट पहुंचकर मदन मोहन मालवीय की प्रतिमा पर माल्‍यार्पण किया। यहां से पीएम का…
उमा भारती

Ayodhya Verdict : उमा भारती बोलीं- SC ने एक निष्पक्ष और दिव्य निर्णय दिया

Posted by - November 9, 2019 0
नई दिल्ली। अयोध्या विवाद मामले में सुप्रीम कोर्ट ने शनिवार को अपना ऐतिहासिक फैसला सुना दिया। पांच जजों की संवैधानिक…