Prisoners

आजीवन कारावास की सजा काट रहे 546 कैदियों की जल्द होगी रिहाई

202 0

लखनऊ: यूपी की जेलों में आजीवन कारावास की सजा काट रहे 546 कैदियों (Prisoners) की रिहाई हो जल्द होने वाली है। इन सभी कैदियों (Prisoners) की उम्र अभी 60 वर्ष से कम है। आजीवन कारावास की सजा काट रहे कैदी की समय पूर्व रिहाई के लिए पहले 60 वर्ष की आयु सीमा निर्धारित थी। अब राज्य सरकार ने नीतियों में संशोधन कर दिया है। इन्हें समय पूर्व रिहाई की प्रदेश सरकार की नीति में बदलाव का लाभ मिलने जा रहा है।

अगर किसी व्यक्ति को 25 वर्ष की आयु में आजीवन कारावास की सजा सुनी दी गई तो 60 वर्ष की आयु प्राप्त करने से पहले वह 35 वर्ष तक जेल में रहेगा। कैदियों को सुधार का मौका देने के उद्देश्य से आयु सीमा को हटा दिया गया है। इससे उनमें उम्मीद की किरण दौड़ी है। आजीवन कारावास की सजा के तहत जेलों में 16 से 20 साल की कैद पूरी होने के बाद आजीवन कारावास की सजा काट रहे कैदी की रिहाई हो सकेगी। हालांकि समय पूर्व रिहाई किसी कैदी का अधिकार नहीं है। जेल में अच्छा आचरण करने पर वे रिहाई के पात्र हो जाएंगे।

पटना में लगा दो दिवसीय आम महोत्सव 2022, कई किस्मों के मिलेंगे आम

नीतियों में बदलाव के बाद प्रदेश की सभी 74 जेलों में ऐसे कैदियों को चिह्नित किया गया तो उनकी संख्या 546 पाई गई। साथ ही ऐसे भी 37 कैदी चिह्नित किए गए, जिनकी उम्र 60 वर्ष से ऊपर है। पहले इन कैदियों को गत 21 जून को योग दिवस के मौके पर ही रिहा किए जाने की तैयारी थी, लेकिन कुछ तकनीकी दिक्कतों के चलते फैसला नहीं हो पाया। आगामी 27 जून को अपर मुख्य सचिव जेल की अध्यक्षता में होने वाली बैठक में इन सभी 583 कैदियों रिहाई के संबंध में अंतिम फैसला लिया जाएगा।

शिवसेना के बागी विधायकों पर खर्च हो रहे लाखों: आदित्य ठाकरे

Related Post

CM Yogi

प्रदेश में बढ़ा है कृषि क्षेत्र का दायरा, खत्म किये गये बिचौलिये: योगी

Posted by - February 10, 2024 0
लखनऊ । उत्तर प्रदेश विधानसभा में शनिवार को बजट सत्र के दौरान सदन को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री (CM Yogi) ने…

ब्लॉक प्रमुख चुनावों के नामांकन के दौरान कई जिलों में बीजेपी-सपा समर्थकों में भिड़ंत

Posted by - July 8, 2021 0
उत्तर प्रदेश ब्लॉक प्रमुख के चुनावों को लेकर हलचल जारी है, गुरुवार को 825 क्षेत्र पंचायतों में अध्यक्ष पद के…