cm yogi

लखनऊ समेत 10 बड़े जिले जनसुनवाई में फिसड्डी

290 0

लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के लगातार प्रयासों के बावजूद राजधानी समेत प्रदेश के बड़े जिलों में जिला प्रशासन की कार्यप्रणाली में सुधार देखने को नहीं मिल रहा है। जन समस्याओं के निराकरण में यूपी की राजधानी लखनऊ फिसड्डी साबित हुई है।

सीएम योगी ने किया ‘रामायण विश्‍व महाकोश’ पुस्तक का विमोचन

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के लगातार प्रयासों के बावजूद राजधानी समेत प्रदेश के बड़े जिलों में जिला प्रशासन की कार्यप्रणाली में सुधार देखने को नहीं मिल रहा है। जन समस्याओं के निराकरण में प्रदेश के छोटे जिले जहां बाजी मार रहे हैं। वहीं लखनऊ, आगरा, बरेली, अलीगढ़, प्रयागराज और बस्ती जैसे जिले फिसड्डी साबित हुए हैं। शासन की तरफ से आम लोगों की समस्याओं की सुनवाई से जुड़ी कार्यवाही का मूल्यांकन करने के बाद फरवरी में जिलाधिकारियों की परफारमेंस रिपोर्ट तैयार की गई है। जिलों को इस रिपोर्ट से अवगत भी कराया गया है।

डीएम और कप्तान कार्यालय में बैठकर करें सुनवाई

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ लगातार जिलों में आम लोगों की समस्याओं का निराकरण करने पर जोर दे रहे हैं। सीएम का निर्देश है कि जिलाधिकारी और पुलिस कप्तान अपने कार्यालय में बैठकर लोगों से मिलें। उनकी समस्याओं को सुनें और समस्याओं का समाधान करें। मुख्यमंत्री कार्यालय और मुख्य सचिव कार्यालय से जिलाधिकारियों को औचक फोन करके इसकी जांच भी की जा रही है।

वहीं, गृह विभाग पुलिस कप्तानों के कार्यालय में फोन करके उनके बारे में जानकारी एकत्र कर रहा है, ताकि मुख्यमंत्री को अवगत कराया जा सके कि कौन जिला अधिकारी और पुलिस कप्तान अपने कार्यालय में बैठकर जन सुनवाई कर रहा है।

परफॉर्मेंस के आधार पर तैयार की जा रही रिपोर्ट

मुख्यमंत्री योगी ने स्पष्ट तौर पर जिलाधिकारियों, पुलिस कप्तानों और मंडलायुक्तों को निर्देश दिए हैं कि वे अपने जिले की समस्या का समाधान बिना देरी के निपटाएं, ताकि जिलों के लोग मुख्यमंत्री तक या शासन तक अपनी समस्या को लेकर नहीं पहुंचें। अगर दूरदराज से लोग शासन के समक्ष अपनी समस्याओं को लेकर गुहार लगाने के लिए पहुंचते हैं तो यह माना जाएगा कि जिलों में उनकी समस्याओं का समाधान नहीं किया जा रहा है।

मुख्यमंत्री ने इन सब चीजों का आकलन करने के लिए मुख्यमंत्री कार्यालय के अलावा सीएम हेल्पलाइन और जन समस्याओं से जुड़े हेल्पलाइन सेंटर की रिपोर्ट तैयार करने के निर्देश दिए हैं। इसके आधार पर हर माह रिपोर्ट तैयार की जा रही है। उन सभी अधिकारियों को इससे अवगत भी कराया जा रहा है, ताकि वह अपनी कार्यशैली में बदलाव लाएं और शासन के अनुरूप जन समस्याओं का निदान करें। परफॉर्मेंस के आधार पर ही उन्हें भविष्य में तैनाती दिए जाने की भी सरकार ने व्यवस्था की है।

परफॉर्मेंस के आधार पर जिलों की रैंकिंग

शासन के सूत्रों के मुताबिक अमेठी, गाजियाबाद, चित्रकूट, हरदोई, महोबा, मऊ, बागपत, फर्रुखाबाद, कासगंज को रैंकिंग में प्रथम स्थान मिला है. वहीं, जौनपुर और मैनपुरी को दसवां स्थान मिला है. इसके अलावा सबसे निचले पायदान पर आगरा 75वें स्थान पर है. बस्ती 74, बरेली 73, बलिया 72, लखनऊ 71, मिर्जापुर 70, अलीगढ़ 69, मथुरा 67, प्रयागराज 67 और ललितपुर 64वें नम्बर पर है।

Related Post

अपर पुलिस अधीक्षकों के साथ आइपीएस तबादला

Posted by - February 28, 2021 0
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शनिवार को सूबे की कानून-व्यस्था की समीक्षा करने के बाद रविवार को एक आईपीएस सहित 28 अपर पुलिस अधीक्षकों का तबादला किया गया है। इसमें वाराणसी के एसपी सुरक्षा भी शामिल हैं। इसके अलावा लखनऊ कमिश्नरेट से दो एडीसीपी का भी तबादला किया गया है। वाराणसी में अपर पुलिस अधीक्षक सुरक्षा के पद पर तैनात आइपीएस अफसर आदित्य लग्हे को वाराणसी में ही एएसपी क्राइम के पद पर तैनात किया गया है। इसके साथ ही राजेश कुमार सोनकर को एएसपी क्राइम आगरा से एएसपी देवरिया, डॉ. अरविंद कुमार को एएसपी क्राइम अलीगढ़ से एएसपी कन्नौज, दयाराम को एएसपी अमेठी से एएसपी चंदौली, रामसेवक गौतम एएसपी उत्तरी बाराबंकी से एएसपी ट्रैफिक गोरखपुर, प्रेमचंद एएसपी चंदौली को एएसपी एसआईटी लखनऊ, राजेश कुमार तृतीय एएसपी ग्रामीण फिरोजाबाद को एएसपी सिटी सहारनपुर, अवधेश सिंह एएसपी जालौन को एएसपी उत्तरी बाराबंकी, विनोद कुमार एएसपी कन्नौज को एएसपी सोनभद्र, सुरेश चंद्र रावत एडीसीपी उत्तरी लखनऊ को एएसपी सिद्धार्थनगर, अखिलेश नारायण सिंह एएसपी उत्तरी मेरठ को एएसपी ग्रामीण फिरोजाबाद, ओम प्रकाश सिंह सेकेंड एएसपी सोनभद्र को एएसपी शामली, अरुण कुमार दीक्षित पूर्व मंत्री मनोज पाण्डेय जल्द करेगी विजिलेंस एएसपी नक्सल वाराणसी को एएसपी एडीजी वाराणसी जोन कार्यालय, मायाराम वर्मा एएसपी सद्धार्थनगर को एएसपी क्राइम आगरा, विनीत भटनागर एएसपी क्राइम सहारनपुर को एएसपी सिटी मेरठ, विनोद कुमार पाण्डेय एएसपी उन्नाव को एएसपी अमेठी, श्रवण कुमार सिंह एएसपी ट्रैफिक वाराणसी को एडीसीपी उत्तरी लखनऊ, आशुतोष शुक्ला एएसपी ट्रैफिक गोरखपुर को डिप्टी कमाडेंट पीएसी बरेली, रामयश सिंह एएसपी देवरिया को डिप्टी कमाडेंट पीएसी प्रयागराज, राकेश कुमार सिंह डिप्टी कमाडेंट पीएसी प्रयागराज को एएसपी जालौन, शशि शेखर सिंह एएसपी डायल 112 को एएसपी उन्नाव, दिनेश कुमार पुरी एडीसीपी लखनऊ को एएसपी ट्रैफिक वाराणसी, प्रज्ञा मिश्रा एएसपी सीबीसीआईडी बरेली को एएसपी मध्यांचल बिजली, जेपी सिंह एएसपी डीजीपी मुख्यालय को एएसपी एटीएस लखनऊ, आलोक शर्मा एएसपी एटीएस को एएसपी सर्तकता अधिष्ठान, दिनेश यादव एएसपी एटीएस को एएससी एटीसी सीतापुर तथा अजय सिंह एएसपी क्राइम को एएसपी सिक्योरिटी वाराणसी के पद पर तैनाती मिली है।

शिवराज ने नई आबकारी नीति का किया वादा, कहा- परंपरागत शराब बनाने-बेचने में कोई बुराई नहीं

Posted by - October 5, 2021 0
नई दिल्ली। आदिवासी सम्मेलन के लिए मंगलवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान मध्य प्रदेश के झाबुआ जिले पहुंचे थे। झाबुआ…