Shaheen Bagh

… तो शाहीनबाग पर क्यों चला बुलडोजर? सुप्रीम कोर्ट ने पूछा सवाल

228 0

नई दिल्ली। शाहीन बाग(Shaheen Bagh) में अतिक्रमण के खिलाफ हुई कार्रवाई पर सुप्रीम कोर्ट ने नाराजगी जाहिर की है। अब सुप्रीम कोर्ट दोपहर 2 बजे इसपर सुनवाई करेगा। सुप्रीम कोर्ट ने सवाल किया है कि जब अतिक्रमण के खिलाफ कार्रवाई का मामला पहले से कोर्ट में है तो फिर बुलडोजर क्यों पहुंचा?

साउथ एमसीडी की टीम सोमवार सुबह पुलिस फोर्स के साथ अतिक्रमण के खिलाफ कार्रवाई करने शाहीन बाग (Shaheen Bagh) पहुंची थी। यहां एमसीडी की टीम को लोगों के विरोध का सामना करना पड़ा। लोगों के विरोध को देखते हुए CRPF की एक कंपनी अतिरिक्त दिल्ली पुलिस के साथ लॉ एंड ऑर्डर के लिए लगाई गई थी। CRPF के भी करीब 100 जवान तैनात किए गए थे।

उधर, नगर निगम की टीम अतिक्रमण हटाने के लिए बुलडोजर के अलावा टीम मलबा उठाने के लिए कुछ गाड़ियां अपने साथ लेकर यहां पहुंची थी। इसके अलावा MCD के कर्मचारियों के हाथों में लाल रंग का रिबन बांधा गया था, ताकि उनकी पहचान हो सके।

सुप्रीम कोर्ट को मिले दो नए जज, चीफ जस्टिस ने दिलाई शपथ

भाजपा और नगर निगम के खिलाफ लोगों में दिखा गुस्सा

शाहीन बाग(Shaheen Bagh) में एमसीडी की टीम पहुंचते ही लोगों ने इस कार्रवाई का विरोध करना शुरू कर दिया। विरोध कर रहे लोगों ने दिल्ली नगर निगम और भारतीय जनता पार्टी के विरोध में नारेबाजी की। विरोध-प्रदर्शन कर रहे लोगों ने कहा कि हमारा विरोध सामान्य नहीं बल्कि रोटी के लिए विरोध है। इस दौरान मौके पर मौजूद पुलिस की टीम ने कार्रवाई के बीच में नारेबाजी कर रहे लोगों को वहां से हटा दिया। एमसीडी की इस कार्रवाई का विरोध करने वालों में महिलाएं भी शामिल रही। कई महिलाएं अतिक्रमण हटाने के लिए लाए गए बुलडोजर के आगे आकर खड़ी हो गईं। महिलाओं ने कहा कि किसी भी कार्रवाई से पहले एमसीडी को पहले उनपर बुलडोजर चलाना होगा।

बुलडोजर के आगे बैठे लोग,

शाहीन बाग(Shaheen Bagh) में एमसीडी की कार्रवाई के दौरान कुछ स्थानीय नेता भी पहुंचे थे। इनमें से कुछ नेता बुलडोजर के आगे भी बैठ गए। स्थानीय नेताओं ने पुलिस, प्रशासन, एमसीडी और भाजपा के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। उन्होंने कहा कि बुलडोजर की ये कार्रवाई अतिक्रमण के खिलाफ नहीं बल्कि गरीबों के खिलाफ की जा रही है। इसे रोकने के लिए हर कोशिश की जाएगी। कुछ लोगों ने आजतक से बातचीत की। एक शख्स ने कहा कि दिल्ली में 80 फीसदी निर्माण गैरकानूनी है, ऐसे में सबको तोड़ देना चाहिए। कुछ लोगों ने कहा कि शाहीन बाग में कुछ गैरकानूनी नहीं है और MCD और बीजेपी की तरफ से राजनीति चमकाने के लिए ऐसा किया जा रहा है।

शाहीन बाग में मिला ड्रग्स का जखीरा, 400 करोड़ का माल NCB ने किया जब्त

Related Post

Mamta Banerjee

ममता का बड़ा आरोप- भाजपा का समर्थन कर रहा चुनाव आयोग

Posted by - April 1, 2021 0
नंदीग्राम। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamta Banerjee) ने नंदीग्राम निर्वाचन क्षेत्र में छिटपुट हिंसा की घटनाओं के बीच…
Pushkar Singh Dhami

विपक्षियों के पास कोई मुद्दा नहीं, वह केवल सरकार को बदनाम करने में लगे हुए हैं: सीएम धामी

Posted by - January 30, 2023 0
ऋषिकेश। प्रदेश के मुख्यमंत्री (CM Dhami) ने कहा कि उत्तराखंड में होने वाले नगर निगम, नगर पालिकाओं के साथ 2024…

चंद्रयान-2 के ऑर्बिटर ने विक्रम लैंडर का तो लगा लिया पता, लेकिन उससे नहीं हो पा रहा संपर्क- इसरो

Posted by - September 10, 2019 0
बंगलूरू। चंद्रयान-2 को लेकर बड़ी खुशखबरी आई है इसरो ने आज यानी मंगलवार को ट्वीट कर कहा कि चंद्रयान-2 के…