वोडाफोन आइडिया ने एक हजार करोड़ रुपये का किया भुगतान, शेयर में दिखी तेजी

140 0

नई दिल्ली। वोडाफोन आइडिया ने समायोजित सकल आय (AGR) बकाए को लेकर दूरसंचार विभाग को एक हजार करोड़ रुपये का भुगतान कर दिया है। इससे पहले 17 फरवरी को भी कंपनी ने 2,500 करोड़ रुपये जमा किए थे। इसकी जानकारी एक वरिष्ठ अधिकारी ने दी।

अब वोडाफोन आइडिया पर 49,538 करोड़ रुपये बकाया

अब वोडाफोन आइडिया पर 49,538 करोड़ रुपये बकाया है। जबकि पहले यह रकम 53,038 करोड़ रुपये थी। इसके साथ ही दूरसंचार विभाग के सूत्रों ने बताया है कि टाटा टेलीसर्विसेज को भी एक से दो दिन में पूरे बकाए का भुगतान करने का नोटिस भेजा गया है।

भुगतान के बाद वोडाफोन आइडिया के शेयर में बढ़त देखने को मिली

भुगतान के बाद वोडाफोन आइडिया के शेयर में बढ़त देखने को मिली। दोपहर 2:05 बजे कंपनी का शेयर 3.57 फीसदी की बढ़त के बाद 4.35 के स्तर पर था। जबकि पिछले कारोबारी दिन यह 4.20 के स्तर पर बंद हुआ था।

एयरटेल और टाटा टेलीसर्विसेज भी कर चुकी हैं भुगतान

सोमवार को सुप्रीम कोर्ट की फटकार के बाद भारती एयरटेल ने एजीआर बकाए में से सरकार को 10,000 करोड़ रुपये जमा किए थे। इसके बाद वोडाफोन आइडिया और टाटा टेलीसर्विसेज ने कम्रशः 2,500 करोड़ और 2,190 करोड़ रुपये जमा किए थे।

श्री श्याम प्रभु का होगा आलौकिक दरबार, भजन संर्कीतन 22 फरवरी से 

जानें किस कंपनी पर कितना बकाया?

पिछले साल अक्तूबर में सुप्रीम कोर्ट ने टेलीकॉम कंपनियों को 90 दिनों के भीतर बकाया 92,000 करोड़ रुपये जमा करने का निर्देश दिया था। कंपनियों पर एजीआर और ब्याद की रकम मिलाकर करीब 1.47 लाख करोड़ रुपये बकाया है। गत 16 जनवरी को कोर्ट ने कंपनियों द्वारा दायर पुनर्विचार याचिका को खारीज कर दिया था।

  1. वोडाफोन आइडिया- 49,538 करोड़ रुपये
  2. रिलायंस जियो- 45,000 करोड़ रुपये
  3. भारती एयरटेल- 25,586 करोड़ रुपये
  4. टाटा टेलीकॉम- 11,633 करोड़ रुपये

वोडाफोन आइडिया ने रखा था प्रस्ताव

वोडाफोन आइडिया ने एजीआर का सांविधिक बकाया चुकाने का प्रस्ताव रखा था, जिसे सुप्रीम कोर्ट ने ठुकरा दिया था। वोडाफोन आइडिया ने कहा था कि कारोबार का भविष्य सुप्रीम कोर्ट के निर्णय में संशोधन के लिए दायर याचिका के परिणाम पर निर्भर करेगा।

सुप्रीम कोर्ट ने लगाई थी फटकार

सुप्रीम कोर्ट ने बीते शुक्रवार को तल्ख लहजे में कहा था कि, क्या इस देश में कानून नाम की चीज बची है? क्या हम सुप्रीम कोर्ट बंद कर दें? जस्टिस अरुण मिश्रा, जस्टिस एस अब्दुल नजीर और जस्टिस आर सुभाष रेड्डी की पीठ ने यह कहते हुए वोडाफोन-आइडिया, एयरटेल समेत सभी दूरसंचार कंपनियों के एमडी व सीएमडी के खिलाफ नोटिस जारी कर पूछा है कि क्यों नहीं उनके खिलाफ अवमानना की कार्रवाई की जाए?

पीठ ने इन दूरसंचार कंपनियों के सीएमडी और एमडी को तलब करते हुए स्पष्ट तौर पर कहा, आपके पास अदालती आदेश का पालन करने का आखिरी मौका होगा और अगर वे इसमें असफल रहे तो परिणाम भुगतने के लिए तैयार रहें। पीठ ने कहा कि हर हालत में सभी तरह का भ्रष्टाचार रुकना चाहिए। यह आखिरी मौका है और आखिरी चेतावनी भी। पीठ ने कहा टेलीकॉम कंपनियों ने शीर्ष अदालत के आदेश का जरा भी सम्मान नहीं किया है।

Loading...
loading...

Related Post

एनआईए टीम ने यूपी और पंजाब में बड़ी कार्रवाई करते हुए की छापेमारी

Posted by - January 17, 2019 0
मुरादाबाद। राष्ट्रीय जांच एजेंसी की टीम ने उत्तर प्रदेश और पंजाब में 7 ठिकानों पर छापेमारी की है। हथियार सप्लायरों…
सीजेआई मामला

CJI केस: सुप्रीम कोर्ट में वकील बैंस ने दिया एक और हलफनामा, अब हो रही सुनवाई

Posted by - April 25, 2019 0
नई दिल्ली। चीफ जस्टिस पर सुप्रीम कोर्ट की ही पूर्व जूनियर असिस्टेंट ने यौन उत्पीड़न के आरोप लगाए थे सुप्रीम…