हैदराबाद कांड

इन दिग्गजों ने दी तेलंगाना पुलिस को बधाई, ओवैसी बोले- मामले की जांच हो

386 0

नई दिल्ली। हैदराबाद में पशु चिकित्सक के साथ दुष्कर्म कर हत्या करने वाले चारों आरोपियों को तेलंगाना पुलिस ने मुठभेड़ में मार गिराया है। तेलंगाना पुलिस ने बताया कि आरोपियों को राष्ट्रीय राजमार्ग-44 पर क्राइम सीन रीकंस्ट्रक्ट करने के लिए ले जाया गया था। इस दौरान आरोपियों ने पुलिस हिरासत से भागने की कोशिश की। इसके बाद पुलिस ने उन पर गोलियां चला दी । इस मुठभेड़ में पुलिस ने चारों आरोपियों की मौके पर ही मार गिराया है।

इस मुद्दे पर कई दिग्गजों ने पुलिस के पक्ष में तो कई लोगों ने विरोध में बयान दिया है। जानें किसने क्या कहा?

पक्ष में बोले ये दिग्गज

राष्ट्रीय महिला आयोग की अध्यक्ष रेखा शर्मा ने कहा कि एक आम नागरिक के तौर पर मैं खुश हूं कि उनका वह अंत हुआ है, जैसा हम लोग चाहते थे। लेकिन, ऐसा न्याय कानूनी सिस्टम के तहत होना चाहिए था। यह सही प्रक्रिया के तहत होना चाहिए था।

बाबा रामदेव ने कहा कि बलात्कारी और आतंकवादियों के खिलाफ पुलिस, सेना और अर्धसैनिक बलों को ऐसी ही कार्रवाई करनी चाहिए। ऑन द स्पॉट फैसला होना चाहिए। इस तरह के खूंखार अपराधियों के साथ ऐसा ही सलूक होना चाहिए।

सपा से राज्यसभा सांसद जया बच्चन ने कहा कि देर आए दुरुस्त आए ।

छत्तीसगढ़ के सीएम भूपेश बघेल ने कहा कि जब कोई अपराधी भागने की कोशिश करता है तो पुलिस के पास कोई विकल्प नहीं रह जाता है।

विपक्ष में बोले ये लोग

शशि थरूर ने ट्वीट किया कि न्यायिक व्यवस्था से परे इस तरह के एनकाउंटर स्वीकार नहीं किए जा सकते।’ एक ट्वीट को रीट्वीट करते हुए उन्होंने लिखा, ‘हमें और जानने की जरूरत है। यदि क्रिमिनल्स के पास हथियार थे तो पुलिस ने अपनी कार्रवाई को सही ठहरा सकती है। जब तक पूरी सच्चाई सामने न आए तब तक हमें निंदा नहीं करनी चाहिए। लेकिन कानून से चलने वाले समाज में इस तरह का गैर-न्यायिक हत्याओं को सही नहीं ठहराया जा सकता।

एआईएमआईएम के मुखिया असदुद्दीन ओवैसी बोले, सुप्रीम कोर्ट के आदेशानुसार हर मुठभेड़ की जांच की जानी चाहिए।

सीपीएम नेता सीताराम येचुरी ने कहा कि गैर-न्यायिक हत्याएं महिलाओं के प्रति हमारी चिंता का जवाब नहीं हो सकती। उन्होंने कहा कि बदला कभी न्याय नहीं हो सकता है। इसके साथ ही उन्होंने सवाल उठाया कि आखिर 2012 में दिल्ली में हुए निर्भया गैंगरेप कांड के बाद लागू हुए कड़े कानून को हम सही से लागू क्यों नहीं कर पा रहे है?

भाजपा सांसद मेनका गांधी ने कहा कि जो हुआ खतरनाक है। उन्होंने कहा कि हमारे देश में कानून और अदालत है। तो आप पहले से बंदूक क्यों चला रहे हैं? क्या बंदूक लेकर लोगों को मार देंगे? किसी केस में देरी हो रही है तो क्या बंदूक चला देंगे? वह निहत्थे थे, जेल से लाए गए थे, आपने उनको बंदूक से मार दिया है।

कांग्रेस सांसद और पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी की बेटी शर्मिष्ठा मुखर्जी ने कहा कि जनता के दबाव की वजह से तो कहीं ये एनकाउंटर नहीं हुआ है? पुलिस और सरकार अपने अधिकारों का दुरुपयोग न करें।

इन्होंने व्यवस्था पर उठाए सवाल

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि जनता गुस्से में हैं। चाहे मामला उन्नाव का हो या हैदराबाद का, इसलिए लोग इस एनकाउंटर पर खुशी जाहिर कर रहे हैं।

ये चिंता की भी बात है क्यों लोगों ने क्रिमिनल जस्टिस सिस्टम में भरोसा खो दिया है? सभी सरकारों को इसे मजबूत करने पर काम करना होगा।

Loading...
loading...

Related Post

‘मैं तुमसे प्यार करती हूं और हमेशा तुम्हें मिस करूंगी जबतक कि हम दोबारा नहीं मिलते – त्रिशाला दत्त की

Posted by - July 5, 2019 0
नई दिल्ली: संजय दत्त की बेटी त्रिशाला दत्त की तरफ से एक बुरी सामने आई है. संजय दत्त की बेटी…

अब ऑनलाइन ट्रेन का टिकट बुक कराने के लिए चुकाने पड़ सकते हैं ज्यादा पैसे, जानें क्यों

Posted by - August 8, 2019 0
नई दिल्ली। भारतीय रेलवे ने यात्रियों को बेहतर सेवाएं मुहैया कराने के लिए कई बड़े एलान किए हैं। लेकिन अब…
कोरोना वायरस को हराया

हैरी पॉटर की लेखिका ने बिना इलाज घर में ही कोरोना वायरस को हराया

Posted by - April 7, 2020 0
नई दिल्ली। कोरोना वायरस की तबाही पूरी दुनिया में जारी है। हालांकि वैज्ञानिक व चिकित्सक इस वैश्विक महामारी का कारगर…