school closed in up

यूपी में कक्षा एक से आठ तक के स्कूल चार अप्रैल तक बंद

207 0
लखनऊ। कोविड संक्रमण को देखते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर बेसिक स्कूलों में चार अप्रैल तक छुट्टी बढ़ा दी गई है। पहले 24 से 31 मार्च तक स्कूलों में होली की छुट्टी घोषित की गई थी। एक अप्रैल से स्कूल खुलने थे, लेकिन प्रदेश में बढ़ रहे कोरोना संक्रमण को देखते हुए कक्षा एक से आठ तक के स्कूल बंद करने के निर्देश दिए गए हैं।
यूपी में बढ़ रहे कोरोना संक्रमण को देखते हुए प्रदेश सरकार ने कक्षा एक से आठ तक के स्कूल बंद रखने का निर्णय लिया है। सीएम योगी ने कोरोना संक्रमण के चलते यूपी में विशेष सतर्कता और सावधानी बरतने के निर्देश दिए हैं। सीएम योगी के निर्देश पर कक्षा एक से आठ तक के सभी परिषदीय और निजी विद्यालयों को चार अप्रैल तक बंद रखा जाएगा।

मंगलवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कोरोना संक्रमण के दृष्टिगत प्रदेश में पूरी सतर्कता बरतने के निर्देश दिये हैं। उन्होंने कहा कि कोरोना से बचाव और उपचार की व्यवस्थाओं को सुदृढ़ बनाए रखते हुए संक्रमण को नियंत्रित करने के लिए सभी उपाय सुनिश्चित किए जाएं।

सीएम योगी ने टेस्टिंग पर दिया जोर

मुख्यमंत्री ने अपने सरकारी आवास पर एक बैठक में कोविड-19 की स्थिति की समीक्षा करते हुए कहा कि कोरोना टेस्टिंग का कार्य पूरी क्षमता से किया जाए। कोविड के सन्दिग्ध मामलों में अनिवार्य रूप से आरटीपीसीआर टेस्ट किये जाएं। फोकस टेस्टिंग पर विशेष ध्यान दिया जाए। इसके अन्तर्गत समूहों में संचालित संस्थानों जैसे बालिका संरक्षण गृह, वृद्धाश्रम, अनाथ आश्रम, रेजिडेन्शियल स्कूल आदि में कोविड-19 की टेस्टिंग प्राथमिकता पर की जाए।

निगरानी समितियां एक्टिव की जाएं

मुख्यमंत्री ने ग्रामीण तथा शहरी क्षेत्रों में निगरानी समितियों को पूरी तरह सक्रिय करने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि हर गांव और वाॅर्ड में निगरानी समितियां गठित की जाएं. सिविल डिफेंस, युवक मंगल दल, महिला मंगल दल आदि संगठनों को निगरानी कार्य से जोड़ा जाए। उन्होंने काॅन्टैक्ट ट्रेसिंग को प्रभावी ढंग से संचालित किये जाने के निर्देश देते हुए कहा कि कोविड पाॅजिटिव व्यक्ति के अधिक से अधिक काॅन्टैक्ट्स को चिन्हित करते हुए ऐसे लोगों की जांच कराई जाए।

अस्पतालों की व्यवस्था मजबूत रखी जाए

मुख्यमंत्री ने डेडिकेटेड कोविड अस्पतालों को पूरी क्षमता से संचालित करने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि इन अस्पतालों में पर्याप्त संख्या में मेडिकल स्टाफ, आवश्यक औषधियों, मेडिकल उपकरणों, बैकअप सहित ऑक्सीजन की उपलब्धता सुनिश्चित की जाए। स्थानीय स्तर पर स्थिति का आकलन करते हुए आवश्यकतानुसार कोविड चिकित्सालयों की संख्या में बढ़ोतरी की जाए। इसके तहत पहले चरण में सरकारी अस्पतालों को डेडिकेटेड कोविड चिकित्सालय के रूप में पुनः एक्टिवेट किया जाए। उन्होंने जिला स्तर पर स्थापित इण्टीग्रेटेड कमाण्ड एण्ड कंट्रोल सेण्टर को प्रभावी ढंग से संचालित करने के निर्देश दिये।

एक से आठ तक स्कूल बंद करने के निर्देश

मुख्यमंत्री ने कहा कि कोविड-19 से बचाव के संबंध में लोगों को निरंतर जागरूक किया जाए। इस कार्य में पब्लिक एड्रेस सिस्टम का व्यापक उपयोग किया जाए। सभी सार्वजनिक कार्यक्रमों में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन सुनिश्चित कराया जाए. मास्क के अनिवार्य उपयोग पर विशेष ध्यान दिया जाए। उन्होंने कक्षा एक से आठ तक के सभी परिषदीय एवं निजी विद्यालयों को रविवार चार अप्रैल तक बंद रखने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि अन्य विद्यालयों में कोविड प्रोटोकाॅल का पूर्ण पालन सुनिश्चित कराया जाए।

वैक्सीनेशन में तेजी लाई जाए

मुख्यमंत्री ने कोरोना वैक्सीनेशन कार्य में और तेजी लाने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि कोविड टीकाकरण का कार्य केंद्र सरकार की गाइडलाइन और क्रम के अनुरूप किया जाए। उन्होंने कहा कि वैक्सीनेशन कराने वाले सरकारी कर्मियों को टीकाकरण की तिथि पर एक दिन का अवकाश अनुमन्य किया जाए। इसी प्रकार निजी सेक्टर के कर्मियों हेतु अवकाश की व्यवस्था भी कराई जाए।

मुख्यमंत्री ने निर्देशित किया कि मेडिकल काॅलेज सहित सभी चिकित्सा संस्थानों और सरकारी एवं प्राइवेट अस्पतालों में अग्निशमन प्रबंधों की ऑडिट प्राथमिकता पर की जाए। उन्होंने कहा कि इस कार्य में किसी भी स्तर पर शिथिलता नहीं बरती जानी चाहिए।

Related Post

neet 2021

NEET 2021 : रजिस्ट्रेशन के लिए आखिरी मौका आज, 18 अप्रैल को होगी परीक्षा

Posted by - March 15, 2021 0
देश के विभिन्न मेडिकल कॉलेज एवं चिकित्सा अनुसंधान संस्थानों के स्नातकोत्तर पाठ्यक्रमों में दाखिले के लिए नीट पोस्ट ग्रेजुएट यानी…
allahabad high court

Allahabad High Court ने योगी सरकार के कोविड प्रबंधन को सराहा

Posted by - May 28, 2021 0
इलाहाबाद उच्च न्यायालय (Allahabad High Court) ने बहराईच, श्रावस्ती, बिजनौर, बाराबंकी और जौनपुर में जिला अस्पतालों में चिकित्सा सुविधाएं बढ़ाने…