सरकार बोली- कृषि कर्ज माफ करने का कोई प्लान नहीं, राहुल- मित्रों का कर्ज होता तो माफ कर देते

929 0

संसद में विपक्षी दलों द्वारा कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग भी उठाई गई है। अब किसानों की कर्ज माफी का मुद्दा संसद में चर्चा का विषय बन गया है। इसी कड़ी में कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने ट्विटर पर एक रिपोर्ट शेयर कर मोदी सरकार पर निशाना साधा। उन्होंने ट्वीट कर लिखा- जब मित्रों का कर्ज माफ करते हो तो देश के अन्नदाता का क्यों नहीं? किसानों को कर्ज मुक्त करना मोदी सरकार की प्राथमिकता नहीं है।

राहुल गांधी द्वारा शेयर की गई रिपोर्ट में बताया गया है कि सरकार ने किसानों का कर्ज माफ करने से इंकार कर दिया है। सरकार का कहना है कि फिलहाल उनका कृषि कर्ज माफ करने का कोई प्लान नहीं है। किसानों पर 16.80 लाख करोड़ का कृषि कर्ज बकाया है।दरअसल राहुल गांधी द्वारा शेयर की गई रिपोर्ट में बताया गया है कि सरकार ने किसानों का कर्ज माफ करने से इंकार कर दिया है।

पहले मैं उन्हें सभ्य समझती थी, वे संभल कर रहें यह यूपी है- ओवैसी पर बोलीं उमा भारती

सरकार का कहना है कि फिलहाल उनका कृषि कर्ज माफ करने का कोई प्लान नहीं है। किसानों पर 16.80 लाख करोड़ का कृषि कर्ज बकाया है। गौरतलब है कि साल 2014 के लोकसभा चुनाव के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वादा किया था कि अगर केंद्र में भाजपा की सरकार बनी। तो देश में कोई भी किसान आत्महत्या नहीं करेगा। सरकार बनते ही सबसे पहले किसानों के कर्ज माफ किए जाएंगे।

Divyansh Singh

मिट्टी का तन, मस्ती का मन; छड़ भर जीवन, मेरा परिचय।

Related Post

Arvind Kejariwal kisan panchayt

हरियाणा के जींद में अरविंद केजरीवाल की किसान महापंचायत, बोले-जो आदमी किसान आंदोलन के खिलाफ है वो देश का गद्दार है

Posted by - April 4, 2021 0
हरियाणा/ जींद । एक तरफ भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय अध्यक्ष नरेश टिकैत गाजीपुर बॉर्डर पर पहुंच चुके हैं। यहां…
हवाई यात्रियों को खुशखबरी

हवाई यात्रियों के लिए खुशखबरी, केंद्र सरकार ने दी उड़ान के दौरान WiFi सेवा को मंजूरी

Posted by - March 2, 2020 0
बिजनेस डेस्क। केंद्र सरकार ने भारत के उन यात्रियों के लिए बड़ी खुशखबरी लाई है, जो हवाई उड़ानों के द्वारा…

जमीन बचाने के लिए इलाज तो करना पड़ेगा, ट्रैक्टर तैयार रखो- केंद्र की चुप्पी पर किसानों से बोले टिकैत

Posted by - June 21, 2021 0
कोरोना संक्रमण के दैनिक मामलों में कमी के साथ ही नए कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों का आंदोलन एक बार…