yogi

ग्रामीण अर्थव्यवस्था का विकास यूपी सरकार की प्राथमिकता

113 0

लखनऊ। उत्तर प्रदेश खादी और ग्रामोद्योग बोर्ड (Khadi Department) ने पीएमईजीपी (PMRGP) के कार्यान्वयन में बहुत अच्छा प्रदर्शन किया है और निवेश और रोजगार सृजन में वर्ष 2107-18 से तीन गुना वृद्धि दर्ज की है। उल्लेखनीय है कि यह उपलब्धि कोरोना महामारी के बावजूद हासिल की गयी।

खादी विभाग (Khadi Department) ने प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम (पीएमईजीपी) के तहत वर्ष 2017-18 में 203.48 करोड़ रुपये के पूंजी निवेश के साथ 1677 से अधिक इकाइयां स्थापित की गयी तीन। इन परियोजनाओं में करीब 16,710 लोगों को रोजगार मिला है।

उत्तर प्रदेश (यूपी) में वर्ष 2021-22 में 5058 से अधिक खादी और ग्रामोद्योग इकाइयाँ (Khadi Department) स्थापित की गईं, जिनके माध्यम से राज्य में 49,000 लोगों को रोजगार मिला। इस प्रकार, योजना के माध्यम से निवेश और रोजगार सृजन वित्तीय वर्ष 2017-18 की तुलना में तीन गुना बढ़ गया है।

उस महामारी के दौरान भी, बोर्ड ने युवाओं को प्रभावी ढंग से रोजगार और व्यवसाय के लिए मार्जिन मनी प्रदान की। अतिरिक्त मुख्य सचिव, एमएसएमई, नवनीत सहगल ने बताया, “वित्त वर्ष 2021-22 में 110.26 करोड़ रुपये का मार्जिन मनी लक्ष्य निर्धारित किया गया था, जिसके सापेक्ष खादी और ग्रामोद्योग आयोग ने सरकार  प्रदेश के उद्यमियों के लिए 162.04 करोड़ रुपये की राशि का भुगतान किया गया । ”

मुख्यमंत्री धामी ने हरिद्वार के विकास कार्यों की समीक्षा की

उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश के लाभार्थियों को केवीआईसी के माध्यम से लगभग 52.04 करोड़ रुपये की अतिरिक्त राशि प्राप्त हुई है।

उत्तर प्रदेश सरकार ने हमेशा ग्रामीण अर्थव्यवस्था (rural economy) के विकास को प्राथमिकताओं  में रखा है। इसलिए, राज्य में खादी और ग्रामोद्योगों के उत्थान के लिए कई महत्वपूर्ण कदम उठाए गए हैं।

पिछड़े वर्गों के  लाभार्थियों  द्वारा 50 प्रतिशत से अधिक इकाइयाँ  स्थापित योजना के तहत बड़ी संख्या में सेवा क्षेत्र और खाद्य और कृषि आधारित उद्योग स्थापित किए गए हैं। पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) उद्यमियों द्वारा 50 प्रतिशत से अधिक इकाइयां स्थापित की गई हैं, जिससे यह स्पष्ट होता है कि समाज का यह वर्ग उद्यम की स्थापना के बारे में अधिक जागरूक है।

योगी सरकार प्रदेश के गांवों में खोलेगी 1.80 लाख सीएससी

पिछले वित्तीय वर्ष में पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) द्वारा 2708 इकाई, अनुसूचित जाति द्वारा 593 इकाई, अनुसूचित जनजाति द्वारा 14 इकाई, भूतपूर्व सैनिकों द्वारा 8 इकाई और दिव्यांग द्वारा 27 इकाई स्थापित की गई है। इसी प्रकार अल्पसंख्यकों द्वारा 289 और सामान्य वर्ग के लोगों द्वारा 1454 इकाइयां स्थापित की गई हैं।

Related Post

पंचायत चुनाव में सतर्कता बरतने के थानाध्यक्ष ने दिये निर्देश

पंचायत चुनाव में सतर्कता बरतने के थानाध्यक्ष ने दिये निर्देश

Posted by - March 22, 2021 0
लखनऊ त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव व होली पर्व को लेकर सभी थानाध्यक्ष अपने-अपने क्षेत्रों में सतर्कता बरतें। संवेदनशील व अतिसंवेदनशील गांवों…