प्राइवेटाइजेशन के लिए सरकार की पॉलिसी तैयार, 7 सरकारी कंपनियां होंगी प्राइवेट

60 0

भारतीय उद्योग परिसंघ की सालाना बैठक को संबोधित करते हुए वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने सरकारी कंपनियों को प्राइवेट किए जाने की पुष्टि की है। प्राइवेटाइजेशन कार्यक्रम को लेकर वित्त मंत्री ने कहा कि सरकार प्राइवेट सेक्टर को बढ़ावा देना चाहती है, इसलिए PSU के लिए एक नीति भी लेकरआई है। DIPAM के सेक्रेटरी तुहिन कांत पांडे ने प्राइवेट की जाने वाली कंपनियों के नाम बताए, जिसमें भारत पेट्रोलियम, कॉनकोर, एयर इंडिया का नाम शामिल था।

जबकि Shipping Corporation of India, Bharat Earth Movers Private Ltd., Pawan Hans और Neelachal Ispat Nigam Ltd के प्राइवेटाइजेशन को लेकर बिडर्स ने दिलचस्पी दिखाई है। सरकार ने इस साल के बजट में विनिवेश से 1.75 लाख करोड़ जुटाने का लक्ष्य रखा है, इसमें दो सरकारी बैंक और LIC में हिस्सेदारी बेचना शामिल है।

हालांकि अभी यह तय नहीं है कि इसे लिस्टेड कंपनी बनाया जाएगा, किसी विदेशी कंपनी के हाथों दिया जाएगा या देश की कोई कंपनी इसका जिम्मा संभालेगी. इस साल बजट में सरकार ने ऐलान किया था कि दो सरकारी बैंक और एक जनरल इंश्योरेंस कंपनी का निजीकरण करेंगे।  इस हिसाब से माना जा रहा है कि पहले चरण में यूनाइटेड इंडिया इंश्योरेंस कंपनी का निजीकरण हो सकता है।  CNBC Awaaz की एक रिपोर्ट के मुताबिक, सरकार बहुत जल्द यूनाइटेड इंडिया इंश्योरेंस कंपनी का निजीकरण कर सकती है और इसकी तैयारी शुरू हो गई है।

खबर में कहा गया है कि यूनाइटेड इंडिया इंश्योरेंस एक अनलिस्टेड और जनरल इंश्योरेंस कंपनी है जिसके निजीकरण को लेकर वित्त मंत्रालय और नीति आयोग के बीच सहमति बनी है। नीति आयोग के उपाध्यक्ष की अगुवाई में जो कमेटी बनी थी, उसने यूनाइटेड इंडिया के निजीकरण के लिए सिफारिश की है। इस सिफारिश पर वित्त मंत्रालय गौर फरमा रहा है. नीति आयोग ने बीमा क्षेत्र की कई कंपनियों की समीक्षा की और पाया कि यूनाइटेड इंडिया का निजीकरण किया जाए तो यह कंपनी भविष्य में बेहतर हालत में होगी।

 अब कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव हरीश रावत का अकाउंट भी किया ब्लॉक

अभी यह पता नहीं चल पाया है कि कोई देसी कंपनी यूनाइटेड इंडिया को खऱीदेगी या कोई विदेशी कंपनी इस काम में आगे आएगी। इस बार एफडीआई में इंश्योरेंस सेंक्टर में बदलाव हुए हैं।  लेकिन उसके बाद भी सरकार ने कई कड़े प्रावधान रखे हैं।  ऐसी स्थिति में देखना होगा कि कोई देसी कंपनी यूनाइटेड इंडिया को अपने हाथ में लेती है या कोई विदेशी कंपनी. पहले ऐसा नियम था कि अनलिस्टेड कंपनी को पहले लिस्ट करना होता है, उसके बाद ही प्राइवेटाइज करते है। अब ऐसी कोई बाध्यता नहीं है।  हालांकि इस काम में अभी वक्त लगेगा क्योंकि कई प्रक्रियाओं के गुजरने के बाद इस फैसले को कैबिनेट से मंजूरी लेनी होगी।

Divyansh Singh

मिट्टी का तन, मस्ती का मन; छड़ भर जीवन, मेरा परिचय।

Related Post

भाजपा उम्मीदवार

पीएम मोदी के सामने खुदकुशी कर लूंगा, नागरिकता बिल पास नहीं होने दूंगा –बीजेपी उम्मीदवार

Posted by - April 12, 2019 0
नई दिल्ली। पहले चरण के मतदान के दौरान बीजेपी उम्मीदवार ने खुलकर पूर्वोत्तर के लिए प्रस्तावित नागरिकता संशोधन बिल का…

जेडीयू-बीजेपी गठबंधन में सब ठीकठाक नहीं! भाजपा नेता ने बैठक में गिनाई गठबंधन की मजबूरियां

Posted by - August 2, 2021 0
बिहार में सत्ताधारी गठबंधन जेडीयू-बीजेपी के बीच सबकुछ ठीकठाक नहीं है, पार्टी की बैठकों में बीजेपी के नेता अपने दिल…
Priyanka Gandhi

यूपी पंचायत चुनाव: प्रियंका बोलीं- सुरक्षा का इंतजाम नहीं था तो शिक्षकों को चुनाव ड्यूटी करने क्यों भेजा

Posted by - April 29, 2021 0
लखनऊ। उत्तर प्रदेश में पंचायत चुनाव के दौरान 577 बेसिक शिक्षकों की मौत हो चुकी है। यह दावा राज्य शिक्षक…
डीजीपी ओपी सिंह

डीजीपी ओपी सिंह बोले- निर्दोष को छेड़ेंगे नहीं, दोषियों को छोड़ेंगे नहीं

Posted by - December 27, 2019 0
लखनऊ। नागरिकता कानून (सीएए) के विरोध में हुई हिंसा के मद्देनजर शुक्रवार को जुमे की नमाज को देखते हुए पूरे…

पंजाब-गुजरात-यूपी के बाद अब उत्तराखंड पर भी नजर, चुनावी तैयारियों को जांचने उत्तराखंड पहुंचे केजरीवाल

Posted by - July 11, 2021 0
दिल्ली में लगातार तीसरी बार सरकार बनाने के बाद आम आदमी पार्टी अन्य राज्यों में भी अपनी सियासी जमीन खोज…