AK Sharma

प्रदेश में किया जाएगा ग्रीन चारकोल का उत्पादन, NVVN करेगा वेस्ट-टू-चारकोल प्लान्ट की स्थापना

21 0

लखनऊ। प्रदेश के नगरीय निकायों के कचरे के निस्तारण में सहयोग प्रदान करने के लिए एनटीपीसी विद्युत व्यापार निगम लिमिटेड (NVN) और नगर विकास विभाग के मध्य समझौता ज्ञापन (एमओयू) हस्ताक्षरित हुआ। नगर विकास एवं ऊर्जा मंत्री ए.के. शर्मा (AK Sharma) की उपस्थिति में स्थानीय निकाय निदेशक डॉ. नितिन बंसल और एनटीपीसी विद्युत व्यापार निगम लिमिटेड (NVVN) की मुख्य कार्यकारी अधिकारी रेणु नारंग द्वारा एमओयू पर आधिकारिक हस्ताक्षर किये गये।

इस अवसर पर नगर विकास मंत्री ए.के. शर्मा (AK Sharma) ने कहा कि इस एमओयू (MOU) से नगरीय निकायों को स्वच्छ भारत मिशन के उद्देश्यों को जैसे कि कूड़े का वैज्ञानिक तरीके से पूर्णतः निस्तारण, संवहनीयता एवं वेस्ट-टू-वेल्थ (Waste to Wealth) को पूरा करने में सहयोग मिलेगा। प्रदेश में एनवीवीएन द्वारा वेस्ट-टू-चारकोल प्लान्ट (Waste to Charcoal Plant) की स्थापना एक नवीनतम प्रयास होगा, जिसके माध्यम से ग्रीन चारकोल (Green Charcoal) का उत्पादन किया जायेगा। उत्पादित ग्रीन चारकोल का उपयोग विद्युत उत्पादन में भी किया जायेगा।

इस आधुनिक तकनीक के प्रयोग से न केवल कचरे का पूर्ण निस्तारण होगा, बल्कि कार्बन फुटप्रिंट (Carbon footprint) को कम करने में भी सहायता मिलेगी। साथ ही यह पर्यावरण अनुकूल एक अग्रणी कदम भी होगा। उन्होंने कहा कि नगर विकास विभाग और एनटीपीसी विद्युत व्यापार निगम लिमिटेड (एनवीवीएन) के मध्य हस्ताक्षरित इस एमओयू के माध्यम से सहयोगात्मक शहरी विकास की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम उठाया जाएगा। यह एमओयू उत्तर प्रदेश में क्लाइमेट रेसीलिन्स (Climate Resilience) और प्रभावी अपशिष्ट प्रबन्धन पर जोर देते हुए सतत शहरी विकास के लिए प्रतिबद्धता को दर्शाता है।

AK Sharma

नगर विकास विभाग और एनटीपीसी विद्युत व्यापार निगम लिमिटेड (एनवीवीएन) के मध्य नगर विकास मंत्री (AK Sharma) की उपस्थिति में आज जल निगम फील्ड हॉस्टल ‘संगम’, लखनऊ में समझौता ज्ञापन (एमओयू) हस्ताक्षरित हुआ।

नेशनल ग्रीन हाइड्रोजन मिशन को बढ़ावा देने से हरित ऊर्जा के क्षेत्र में स्थापित होंगे नए आयाम: एके शर्मा

नगर विकास विभाग और एनवीवीएन के मध्य हस्ताक्षरित समझौता ज्ञापन का उद्देश्य प्रदेश के नगरीय क्षेत्रों में विकास के लिए सहयोगात्मक प्रयास करना है। साथ ही नगर विकास विभाग के साथ मिलकर शहरों के सतत विकास के लिए वेस्ट-टू-चारकोल प्लान्ट की स्थापना भी करना है। इस एमओयू (MOU) के माध्यम से एनवीवीएन उत्तर प्रदेश के नगरीय निकायों से निकलने वाले कचरे का वैज्ञानिक पद्धति से निस्तारण करेगा और निकायों में वेस्ट-टू-चारकोल प्लान्ट की स्थापना भी एनवीवीएन द्वारा स्वयं अपने व्यय से की जाएगी। प्लांट से उत्पादित ग्रीन चारकोल का उपयोग एनवीवीएन द्वारा विद्युत निर्माण में किया जायेगा।

इस दौरान स्थानीय निकाय निदेशक डॉ. नितिन बंसल और एनटीपीसी विद्युत व्यापार निगम लिमिटेड (एनवीवीएन) के मुख्य कार्यकारी अधिकारी रेणु नारंग, विजय कुमार, अंजनी कुमार सिंह, दीपक कुमार वास्तव सहित स्वच्छ भारत मिशन टीम के सदस्य भी उपस्थित रहें।

 

Related Post

AK Sharma

मऊ के लिए बड़ी खुशखबरी, वर्षों से बंद पड़ी परदहा कॉटन मिल की 85 एकड़ ज़मीन पर होगा औद्योगिक विकास

Posted by - February 9, 2024 0
लखनऊ। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश के औद्योगिक विकास के लिए हमेशा संकल्पित रहते हैं। उसमें भी विशेष रूप उत्तर प्रदेश…

सीएम योगी का दावा, कोरोना संकट के बीच विकसित देशों के मुकाबले यूपी में हुआ बेहतर काम

Posted by - July 25, 2021 0
कोरोना महामारी के बीच बदइंतजामी को लेकर आलोचना झेल रहे यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश में सबसे बेहतर…

रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने तटरक्षकों को दिया वीरता पदक, कहा- दुनिया में इंडियन कोस्ट गार्ड का अहम स्थान

Posted by - October 9, 2021 0
नई दिल्ली। रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने राष्ट्रीय स्टेडियम परिसर में आयोजित अलंकरण समारोह में भारतीय तटरक्षक कर्मियों को वीरता और बेहतरीन…

हरियाणा: जिम्मेदारी से भागे सीएम खट्टर, कहा- करनाल हिंसा के पीछे पंजाब की कांग्रेस सरकार

Posted by - August 30, 2021 0
हरियाणा सरकार के 2500 दिन पूरे हो चुके हैं। मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने सोमवार को चंडीगढ़ में अपनी सरकार का…