नवरात्रि

जानें नवरात्रि में कलश स्थापना की क्या है मुहूर्त, पूजा करने की सही विधि

631 0

न्यूज़ डेस्क। चैत्र नवरात्रि पूजा कल यानी शनिवार से प्रारंभ हो रहें हैं। जानें कि इस अवसर घट स्थापना का मुहूर्त,व्रत पूजन की विधि और दुर्गा के नौ रूपों के बीज मंत्रों के बारे में-

ये भी पढ़ें :-अगर आप भी शरीर के भारी वजन से परेशान हैं तो करें ये उपाय

आपको बता दें नवरात्रि में 6 अप्रैल 2019 शनिवार यानी कल से शुरू हो रहा है, जो 14 अप्रैल को राम नवमी के त्योहार के साथ सम्पन्न पूर्ण होगा। पंडित दीपक पांडे के अनुसार, इस बार नवरात्रि 8 दिनों की है, और शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि के दिन अभिजीत मुहूर्त में 11 बजकर 44 मिनट से लेकर 12 बजकर 34 मिनट के बीच घट स्थापना करना बेहद शुभ होगा।

ये भी पढ़ें :-अगर आप इन बिमारियों से हैं परेशान, रोजाना तुलसी वाले दूध का करें सेवन 

इस नवरात्रि की पूजा प्रतिपदा से आरंभ होती है परंतु यदि कोई साधक प्रतिपदा से पूजन न कर सके तो वह सप्तमी से भी आरंभ कर सकता है। इसमें भी संभव न हो सके, तो अष्टमी तिथि से आरंभ कर सकता है। यह भी संभव न हो सके तो नवमी तिथि में एक दिन का पूजन अवश्य करना चाहिए। कलश स्थापना के लिए सर्वप्रथम एक मिट्टी के पात्र में मिट्टी की एक अथवा दो परत बिछा कर उसमें जौ बो दें। इसके बाद कलश में रोली से स्वास्तिक का चिन्ह बनाकर गले में तीन धागावाली मौली लपेटें। कलश स्थापित किये जानेवाली भूमि अथवा चौकी पर कुंकुंम या रोली से अष्टदल कमल बनायें। कलश में गंगाजल मिला हुआ जल डालें, उसके बाद क्रमशः चन्दन, मुरा, चम्पक, मुस्ता, वच, कुष्ठ, शिलाजीत, हल्दी, सठी, दूब, पवित्री, सप्तमृत्तिका, सुपारी, पञ्चरत्न आदि अर्पित करे। अब पंचपल्लव, यानि बरगद, गूलर, पीपल, पाकड़ और आम के पत्ते कलश के मुख पर रखें।

ये भी पढ़ें :-क्या आप भी शरीर के भारी वजन से हैं परेशान तो जरुर अपनाये ये तरीका

जानकारी के मुताबिक कलश को वस्त्र से अलंकृत कर चावल से भरे पात्र को कलश के मुख पर स्थापित कर दें। एक नारियल पर लाल कपडा लपेटकर मौलि से बांध दें। इस नारियल को कलश पर रख कर घट को अष्टदल कमल पर स्थापित कर दें। अब दाहिने हाथ में अक्षत और पुष्प लेकर देवी-देवताओ का ध्यान और आवाहन करें और उन्हें कलश के पास छोड़ दें। नवरात्री के प्रथम दिन ही अखंड ज्योति जलाई जाती है जो नौ दिन तक निरंतर जलती रहनी चाहिए क्योंकि इसका बीच में बुझना अच्छा नही माना जाता है। नवरात्रि में उपवास एवं साधना का विशिष्ट महत्व है। भक्त प्रतिपदा से नवमी तक जल उपवास या दुग्ध उपवास से गायत्री अनुष्ठान संपन्न कर सकते हैं।

Loading...
loading...

Related Post

ओवैसी का पीएम पर हमला

मॉब लिंचिंग के लिए सबसे याद किए जाएंगे मोदी- सदउद्दीन ओवैसी

Posted by - April 9, 2019 0
हैदराबाद। सदउद्दीन ओवैसी ने मंगलवार यानी आज पीएम पर हमला बोले हुए बोले कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को उनके कार्यकाल…
हिजबुल कमांडर हारून हफज ढेर

जम्मू-कश्मीर: सेना से मुठभेड़ में हिजबुल कमांडर हारून हफज ढेर

Posted by - January 15, 2020 0
नई दिल्ली। जम्मू-कश्मीर में भारतीय सेना ने हिजबुल मुजाहिद्दीन के जिला कमांडर हारुन हाफज को डोडा में एक मुठभेड़ में…
श्रीलंका

द. अफ्रीका ने दूसरे वन-डे में श्रीलंका को 113 रन से हराया,वन-डे सीरीज में 2-0 की बना ली बढ़त

Posted by - March 7, 2019 0
स्पोर्ट्स डेस्क। क्विंटन डी कॉक (94) की बेहतरीन पारी और कागिसो रबाडा (3 विकेट) की शानदार गेंदबाजी के दम पर…