cancer

शरीर में जानें कैसे तेजी से फैलता है कैंसर, ये होती है स्टेज

1394 0

नई दिल्ली। कोशिकाओं में असामान्य वृद्धि को कैंसर (cancer)  केे रूप में परिभाषित किया जाता है। इसका इलाज ग्रेडिंग और स्टेज के आधार पर होता है। पहली बार में सुनने के बाद हमें एक घातक रोग लगता है। इसके खतरे को इसके ट्यूमर के विकास और अलग-अलग स्टेज के आधार पर निर्धारित किया जाता है।

स्टेज से हमें ट्यूमर के साइज के बारे में पता चलता है। इससे यह भी पता चलता है कि जिस स्थान पर यह हुआ है, उससे आगे भी पहुंचा है या नहीं। ग्रेडिंग कैंसर कोशिकाओं की मौजूदगी के बारे में बताती है। स्टेज से कैंसर के विकास और गंभीरता के बारे में जानकारी मिलती है।

फिल्म ‘सीरियस मैन’ जमीनी हकीकत को करती है पेश : नवाजुद्दीन सिद्दीकी

स्टेज 1 से लेकर 4 तक कैंसर को बांटा गया है। हर स्टेज ट्यूमर के विकास और शरीर को इससे होने वाले नुकसान के आधार पर तय होती है। हर चरण बढ़ने के साथ गंभीरता और जोखिम भी बढ़ता जाता है। कैंसर के चरणों को समझने के लिए इसके विभिन्न प्रभावों के निम्नलिखित कारण शामिल हैं।

इलाज- इससे चिकित्सक को इलाज तय करने में मदद मिलती है। यह उपचार के पाठ्यक्रम को निर्धारित करता है कि सर्जरी करनी है या कीमोथेरेपी की जरूरत है।

आउटकम- कितनी जल्दी कैंसर पाया जाता है, इस बात पर आउटकम निर्भर करता है। परिणाम की सम्भावना के बारे में स्टेज ही एक दृष्टिकोण देता है।

रिसर्च- समान मामलों में पुराने ट्रीटमेंट के बारे में रिसर्च से इलाज करने में मदद मिलती है। इससे इलाज आसान हो जाता है।

स्टेज ग्रुप

1. किसी एक एरिया में विकसित कैंसर को सबसे पहली स्टेज के रूप में माना जाता है।
2. इसमें यह आता है कि कैंसर पहली स्टेज से बड़ा है, लेकिन फैलाव नहीं हुआ।
3. स्टेज तीन में कैंसर के आस-पास के ऊतकों में फैल जाने की बात सामने आती है।
4. स्टेज चार में कैंसर शरीर के अन्य भागों में फैल जाता है जिसे उन्नत कैंसर भी कहते हैं।

कैंसर ग्रेडिंग

माइक्रोस्कोप में कोशिका के आकार के आधार पर कैंसर का ग्रेड तय किया जाता है। धीमी गति के कैंसर में निम्न ग्रेड और तेज गति से बढ़ने को उच्च ग्रेड कहते हैं। ग्रेडिंग निम्नलिखित है।

ग्रेड 1 में कैंसर कोशिकाएं साधारण नजर आती हैं। ये बढ़ती नहीं हैं।
ग्रेड 2 में कैंसर कोशिकाएं साधारण नहीं दिखते हुए तेजी से बढ़ती हैं।
ग्रेड 3 में कैंसर कोशिकाएं असाधारण दिखती हैं। ये तेजी या आक्रामकता से बढ़ सकती हैं।

हालांकि डॉक्टर से सलाह और मेडिकल टेस्ट के आधार पर उचित इलाज और कैंसर के बारे में ज्यादा जानकारी मिलती है।

Related Post

बाबूलाल मरांडी

झाविमो की सरकार बनी तो भय, भूख और भ्रष्टाचार से दिलाएंगे मुक्ति: बाबूलाल मरांडी

Posted by - November 29, 2019 0
जमशेदपुर। झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी शुक्रवार को एक जनसभा में संबोधित करते हुए कहा कि प्रदेश में लोग…
Purnagiri tehsil

विधायक कैलाश गहतोड़ी ने पूर्णागिरि तहसील में सिंगल विंडो सिस्टम का किया उद्घाटन

Posted by - November 1, 2020 0
चम्पावत। उत्तराखंड के चम्पावत ज़िले की पूर्णागिरि तहसील (Purnagiri tehsil ) में रविवार को चम्पावत के विधायक कैलाश गहतोड़ी ने…