किसानों और कोरोना पर घिरी खट्टर सरकार ने बिना चर्चा के तीन दिन में ही खत्म किया मानसून सत्र

67 0

कोरोना महामारी के कुप्रबंधन और किसानों के मसले पर घिरी खट्टर सरकार ने मंगलवार को हरियाणा विधानसभा के मानसून सत्र का तीन दिन में ही समापन कर दिया। विपक्ष मांग करता रहा कि ज्‍वलंत मुद्दों पर चर्चा के लिए सत्र की अवधि बढ़ाई जाए, लेकिन सरकार की मंशा ही नहीं थी।ऑक्‍सीजन की कमी से प्रदेश में हुई मौतों पर अपने वादे के मुताबिक सीएम ने सदन में विस्‍तृत बयान देना तक मुनासिब नहीं समझा। बेरोजगारी, किसान, कोरोना और भ्रष्‍टाचार जैसे मुश्किल सवालों पर कांग्रेस विधायकों के प्रस्‍ताव स्‍वीकार ही नहीं किए गए।

भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने कहा कि मौजूदा सरकार के कार्यकाल में सदन की गरिमा और गंभीरता दोनों में कमी आई है। वहीं सदन में कांग्रेस विधायक वरुण चौधरी और अन्य विधायकों के लंबित ट्यूबवेल कनेक्शन के ध्याकर्षण प्रस्ताव को चर्चा के लिए पेश किया जाएगा।  इस पर बिजली मंत्री रणजीत चौटाला जवाब देंगे।  इसके बाद 115 से ज्यादा दस्तवेजों को विभागीय मंत्री सदन पटल पर पेश करेंगे और इन्हें पारित कराएंगे।

सदन में पहले दिन हरियाणा नगरपालिका क्षेत्रों में अपूर्ण नागरिक सुख-सुविधाओं व अवसंरचना का प्रबंधन विशेष उपबंध संशोधन विधेयक 2021, महर्षि वाल्मीकि संस्कृत विश्वविद्यालय कैथल संशोधन विधेयक 2021, हरियाणा लोकायुक्त संशोधन विधेयक 2021, हरियाणा उद्यम प्रोन्नति द्वितीय संशोधन विधेयक 2021, पंडित लखमी चंद राज्य प्रदर्शन और दृश्य कला विश्वविद्यालय रोहतक संशोधन विधेयक 2021, भूमि अर्जन, पुनर्वासन और पुनर्व्यवस्थापन में उचित प्रतिकर और पारदर्शिता अधिकार हरियाणा संशोधन विधेयक 2021, विधेयक पेश किए जाएंगे।

एमपी के बाद यूपी में दिखा भीड़ का आतंक, चोरी के आरोप में युवक को बर्बरता से पीटा

हरियाणा में गुरुवार को कोरोना के 25 नए मामले सामने आए, जिसके बाद कुल संक्रमितों की संख्या बढ़कर 7,70,291 हो गई है।  वहीं, दो और मरीजों की मौत के बाद मृतकों की संख्या बढ़कर 9,664 हो गई है।  स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी बुलेटिन में बताया गया कि हिसार और फतेहाबाद जिले में एक-एक मरीज ने कोरोना वायरस के कारण दम तोड़ दिया है। बुलेटिन के मुताबिक, हरियाणा में फिलहाल 671 मरीजों का उपचार चल रहा है, जबकि अब तक 7,59,956 मरीज संक्रमण मुक्त हो चुके हैं।  राज्य में स्वस्थ होने की दर 98.66 प्रतिशत है।

Divyansh Singh

मिट्टी का तन, मस्ती का मन; छड़ भर जीवन, मेरा परिचय।

Related Post

सरकार को ‘जन आर्शीवाद’ चाहिए, क्या किसानों के सिर तोड़कर लोगों का आर्शीवाद मिलेगा?

Posted by - August 31, 2021 0
हरियाणा के करनाल में किसानों पर हुए लाठीचार्ज के बाद किसानों के तेवर कृषि कानूनों को लेकर और भी गरम…
कमल हासन

युवाओं के सवालों को दबाना, लोकतंत्र के खतरे का संकेत: कमल हासन

Posted by - December 17, 2019 0
नई दिल्ली। दक्षिण भारतीय अभिनेता व मक्‍कल निधि मैय्यम (एमएनएम) के अध्‍‍‍‍‍यक्ष कमल हासन ने मंगलवार को केंद्र सरकार पर…

भाजपा सांसद बाबुल सुप्रियो का राजनीति से सन्यास का ऐलान, कुछ दिन पहले ही छिना था मंत्री पद

Posted by - July 31, 2021 0
पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में भाजपा की हार के बाद पार्टी के भीतर मची रार खत्म नहीं हो रही है,…