cold weather

यूपी में कड़ाके की ठंड में लग सकता है बारिश का तड़का

43 0

लखनऊ। बर्फीली हवाओं और गलन भरी सर्दी (cold weather) का सामना कर रहे उत्तर प्रदेश के लोगों को आने वाले दिनों रिमझिम फुहारों के भी दर्शन हो सकते हैं।

राज्य में पूरब से पश्चिम तक लोगों को मंगलवार को भी मौसम के तल्ख मिजाज से राहत नहीं मिली। अधिसंख्य इलाकों में सारा दिन सूरज और बादलों के बीच लुका छिपी का खेल चलता रहा वहीं नश्तर चुभोती सर्द हवाओं से बेहाल लोग सर से पांव तक खुद को ढकने काे मजबूर हुये।

इस दौरान देर रात से गिर रहे कोहरे ने वाहनो की रफ्तार में ब्रेक लगाये जबकि रेलवे ने लेटलतीफी से बचने के लिये कई ट्रेनो को निरस्त कर दिया वहीं लंबी दूरी की दर्जनो रेलगाड़ियां अपने निर्धारित समय से छह घंटे तक की देरी से चल रही थी।

हाड़ कपांऊ ठंड का असर सड़क और बाजारों पर भी साफ दिखायी पड़ा। सुबह 11 बजे के बाद बाजार खुले लेकिन इस पर भी ज्यादातर दुकानदार ग्राहकों की बाट जोहते नजर आये। ठंड के तेवर को देखते हुये कई समाजसेवी संस्थाओं और संपन्न लोगाें ने जिला प्रशासन के अलावा अलाव की व्यवस्था की थी वहीं कई जगह गरमागरम चाय का वितरण भी देखने को मिला।

इस दौरान माल और सिनेमाघरों में आमतौर पर सन्नाटा पसरा रहा। सरकार ने भीषण ठंड और कोरोना से बचाव के चलते पहले ही शिक्षण संस्थाओं में 23 जनवरी तक बंद करने के निर्देश दिये हैं। राज्य के अधिकतर जिलों में पारा सामान्य से पांच डिग्री तक कम रहा। औद्योगिक नगरी कानपुर में पारा 2.6 डिग्री सेल्सियस रिकार्ड किया गया जो इस सीजन में सबसे कम है।

मौसम विभाग के अनुसार ठंड के प्रकोप से फिलहाल राहत मिलने के कोई आसार नहीं है वहीं 21 जनवरी को पूर्वी उत्तर प्रदेश के कुछ इलाकों में और पश्चिम के इक्का दुक्का क्षेत्रों में फुहारें पड़ने के आसार है। पिछले 24 घंटे में गोरखपुर और कानपुर मंडल में अधिकतम और न्यूनतम तापमान में उल्लेखनीय गिरावट दर्ज की गयी हालांकि बरेली मंडल में दिन के तापमान में मामूली बढोत्तरी देखने को मिली।

गोरखपुर,अयोध्या,लखनऊ,बरेली,मुरादाबाद,झांसी,आगरा,मेरठ में दिन का तापमान सामान्य से पांच डिग्री सेल्सयस तक कम दर्ज किया गया वहीं रात का तापमान में इन इलाकों में सामान्य से डेढ़ डिग्री सेल्सियस कम रिकार्ड किया गया।

मौसम विभाग के अनुसार पूरब के कुछ इलाकों और पश्चिमी उत्तर प्रदेश के अधिसंख्य इलाको में कोहरे का प्रकोप बरकरार रहने के आसार हैं।

Related Post

rakesh tikait

किसान महापंचायत : जिंदा रहने और जमीन बचाने के लिए करने पड़ेंगे आंदोलन- राकेश टिकैत 

Posted by - February 28, 2021 0
सहारनपुर। जिले में किसान महापंचायत में पहुंचे भारतीय किसान यूनियन (भाकियू) के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने भाजपा सरकार पर…
Siddharth Nath

अखिलेश इतने ही काबिल थे तो जनता ने क्यों किया खारिज : सिद्धार्थनाथ

Posted by - November 16, 2021 0
‘‘सुबह से मेरी हंसी रुक नहीं रही है। दरअसल अंग्रेजी के एक अखबार में मैंने समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष…