गोरखपुर में भाजपा नेता परशुराम शुक्ला की मां और बेटे की फावड़े से काटकर हत्या

139 0

यूपी में अपराधी निरंकुश हो चुके हैं, गोरखपुर में भाजपा नेता की मां एवं डेढ़ साल के बच्चे की फावड़े से काटकर हत्या कर दी गई। मिली जानकारी के अनुसार मंगलवार को पुलिस एक नोटिस लेकर सीताराम शुक्ल के घर पूछताछ के लिए आई थी, सीताराम मौके पर नहीं मिला। शाम को वह जब घर आया तो घर वालों ने नोटिस के बारे में बताया, उसने गुस्से में फावड़ा उठाया और पट्टीदार परशुराम शुक्ला के घर पर हमला कर दिया।

70 वर्षीय मां एवं डेढ़ साल के बेटे के गर्दन पर वार करके उनकी हत्या कर दी, बचाने के लिए आगे बढ़ी परशुराम की पत्नी भी घायल हो गई। मौके पर ही भारी पुलिस फोर्स पहुंच गई, हत्यारोपी परिवार सहित फरार है, तनाव को देखते हुए गांव में पीएसी तैनात कर दी गई है।

गोरखपुर के हरपुर-बुदहट थानाक्षेत्र के अंतर्गत आने वाले तेनुआ गांव में मंगलवार 27 जुलाई की देर शाम 7 से 8 बजे के बीच भाजपा किसान मोर्चा के जिला कार्यकारिणी के सदस्य परशुराम शुक्ल के घर पर पट्टीदारी के भाई सीताराम शुक्ला और उसके परिजनों ने धावा बोल दिया।  परशुराम शुक्ला किसी कार्य से लुधियाना गए हुए हैं। दरअसल, मंगलवार की दोपहर पुलिस IGRS पोर्टल की शिकायत की जांच और पूछताछ के लिए सीताराम शुक्ल के परिजनों के पास आई।  पुलिस के जाने के बाद शाम 7 बजे के लगभग सीताराम ऑटो चलाकर वापस लौटा तो परिजनों ने इसकी जानकारी सीताराम को दी। इसके बाद उसके सिर पर खून सवार हो गया।

ऊप चुनाव: सभी कील कांटे दुरूस्त करने में जुटी भाजपा, नड्डा से मुलाकात करेंगे सभी BJP संसद

सीताराम और उसके परिजनों ने फावड़ा लेकर भाजपा किसान मोर्चा के जिला कमेटी के मेंबर और पट्टीदारी के भाई परशुराम शुक्ल के घर धावा बोल दिया। वहां पर उसने परशुराम शुक्ल की मां 70 साल की विमला देवी और उनके डेढ़ वर्षीय मासूम रौनक की फावड़े से सिर और गर्दन पर वार कर बेरहमी से हत्या कर दी गई।  दोनों को बचाने के लिए आईं परशुराम की पत्नी सुषमा शुक्ला और उनकी 10 वर्षीय बेटी को भी हमलावरों ने फावड़े से सिर और शरीर के अन्य हिस्सों पर वार कर जख्मी कर दिया।  वारदात का अंजाम देने के बाद सीताराम शुक्ला और उसके परिवावाले फरार हो गए।

Divyansh Singh

मिट्टी का तन, मस्ती का मन; छड़ भर जीवन, मेरा परिचय।

Related Post

बदमाशों के सहारे भाजपा! जिस हिस्ट्रीशीटर पर हत्या समेत 16 मुकदमे दर्ज उसे बनाया प्रदेश मंत्री

Posted by - August 3, 2021 0
यूपी में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव को जीतने के लिए भाजपा हर संभव कोशिश में लगी हुई है,…
पुलिस को नहीं मिल पा रहा धनंजय का कोई सुराग

पुलिस को नहीं मिल पा रहा धनंजय का कोई सुराग

Posted by - April 5, 2021 0
पूर्व प्रमुख अजीत सिंह हत्याकांड में आरोपित पूर्व सांसद धनंजय सिंह की तलाश में लखनऊ पुलिस लगातार छापेमारी कर रही है लेकिन अभी तक उसका कोई सुराग नहीं लग पाया है। छापेमारी करने जा रही पुलिस टीम बैरंग वापस लौट रही हैं। शनिवार को जौनपुर में उसके कालीकुत्ती स्थित आवास व अन्य स्थानों पर छापेमारी की गयी  थी लेकिन उसके न मिलने पर पुलिस टीम को खाली हाथ वापस लौटना पड़ा था। इसके अलावा पुलिस टीमों ने राजधानी में धनंजय के करीबी लोगों के ठिकानों पर भी छापेमारी की है लेकिन उसका कुछ पता नहीं चल सका है। मालूम हो कि सूबे की राजधानी लखनऊ में गत छह जनवरी को मऊ के पूर्व ब्लाक प्रमुख अजीत सिंह की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। मुठभेड़ में मारे जा चुके अजीत सिंह हत्याकांड के शूटरों में एक कन्हैया विश्वकर्मा उर्फ गिरधारी उर्फ डाक्टर के बयान के आधार पर लखनऊ पुलिस ने धनंजय सिंह को साजिशकर्ता के तौर पर आरोपित किया था। पुलिस को चकमा देकर धनंजय सिंह ने पिछले महीने पुराने केस में एमपीएमएलए कोर्ट प्रयागराज में आत्मसमर्पण कर दिया था। नैनी सेंट्रल जेल से उसे फतेहगढ़ सेंट्रल जेल स्थानांतरित कर दिया गया था। महाराष्ट्र में कोरोना से हालात बेकाबू, सरकार का नाइट कर्फ्यू, वीकेंड लॉकडाउन का ऐलान जब तक लखनऊ पुलिस उसे अजीत हत्याकाण्ड में वारन्ट लेती तब तक गत 31 मार्च को एमपीएमएलए कोर्ट से जमानत मंजूर हो जाने पर वह गुपचुप तरीके से जेल से रिहा हो गया था। इसे लेकर लखनऊ पुलिस की खूब किरकिरी हुई। इसके बाद से लखनऊ पुलिस अजीत हत्याकाण्ड में उसे आरोपी मानकर लगातार  छापेमारी कर रही है लेकिन उसका कुछ पता नहीं चल पा रहा है। इसी कड़ी में धनंजय सिंह की तलाश में शनिवार को जौनपुर गयी लखनऊ पुलिस की टीम ने स्थानीय पुलिस को साथ लेकर उसके कालीकुत्ती स्थित आवास पर दबिश दी थी। वह घर पर नहीं मिला। इसके बाद पुलिस ने उसकी तलाश में जमैथा निवासी करीबी आशुतोष सिंह के दीवानी कचहरी रोड स्थित आवास पर भी छापेमारी की थी। पूर्व सांसद के गृह गांव सिकरारा थाना क्षेत्र के बनसफा गांव में भी दबिश दी गयी। मालूम हो कि शनिवार को धनजंय सिंह की पत्नी श्रीकला रेड्डी ने जिला पंचायत सदस्य पद के लिए नामांकन पत्र दाखिल किया था।