Kavita

निराश होने से पहले पढ़ें कविता की करियर की कहानी, जीत चुकी हैं कई पदक

38 0

बाराबंकी: मेहनत और लगन से किसी भी क्षेत्र में सफलता का कीर्तिमान स्थापित किया जा सकता हैं। दृढ़ संकल्प हो तो लक्ष्य की प्राप्ति में संसाधनों का अभाव भी राह में बाधा नहीं बन पाता। ऐसी ही कहानी है यूपी के बाराबंकी (Barabanki) के दुलहादेपुर गांव की कविता यादव (Kavita Yadav) की, जो चुनौतियों से डरती नहीं उनसे जूझते हुए सफलता की सीढ़ियां चढ़ रही हैं। रेल विभाग का प्रतिनिधित्व करने वाली कविता अब तक करीब एक सैकड़ा राष्ट्रीय-राज्य स्तरीय प्रतियोगिताओं में पदक हासिल करने के साथ ही अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में भी प्रतिभाग कर चुकी हैं।

12 वर्ष की उम्र से शुरू की दौड़

दौड़ की प्रेरणा कविता को अपने ही बड़े भाई आशीष से मिली, जो सेना में पैरा कमांडो हैं। कविता ने जब दौड़ शुरू की ताे वह सिर्फ बारह वर्ष की थीं और कक्षा नौ में पढ़ती थीं। गांव की गलियों से दौड़ की शुरुआत करने के बाद उन्‍होंने पटेल पंचायती इंटर कालेज के मैदान पर दौड़ना शुरू कर दिया। बहन की लगन को देखते हुए आशीष ने अपने कोच रहे दान बहादुर से उन्हें लखनऊ में छह माह तक प्रशिक्षण दिलवाया। इसके बाद लखनऊ के केडी सिंह स्टेडियम में कोच विमल सिंह के मार्गदर्शन में प्रशिक्षण लिया।

ओलंपिक में पदक लक्ष्य

तीन से सात दिसंबर 2019 में मध्य नेपाल के काठमांडू में हुई 13वें साउथ एशियन गेम्स में दस हजार मीटर दौड़ में कविता ने रजत पदक जीता था। कविता बताती हैं कि अब उनका लक्ष्य ओलंपिक में पदक जीतना है।

प्रमुख उपलब्धियां

जूनियर एथलेटिक्स चैंपियनशिप हमीरपुर- 2015 में रजत पदक।
यूपी स्टेट एनुअल एथलेटिक्स चैंपियनशिप- 2015 लखनऊ में स्वर्ण पदक।
तपस्वी नेशनल जूनियर एथलेटिक्स चैंपियनशिप विजयवाड़ा- 2017 में रजत पदक।
जूनियर नेशनल- 2018 विजयवाड़ा में पांच हजार मीटर दौड़ में स्वर्ण पदक।
नेशनल क्रास कमेटी चैंपियनशिप मथुरा- 2019 में रजत पदक।
आल इंडिया इंटर रेलवे चैंपियनशिप- 2019 में दस हजार मीटर की दौड़ में रजत पदक।
59वीं सीनियर नेशनल इंटर स्टेट चैंपियनशिप- 2019 लखनऊ में रजत पदक।
अगस्त 2022 को इंटर रेलवे प्रतिस्पर्धा दस हजार मीटर दौड़ में स्वर्ण पदक।
सितंबर 2022 को आयोजित राष्ट्रीय अंडर-23 एथलेटिक्स चैंपियनशिप में दस हजार मीटर दौड़ में रजत पदक।
मार्च 2022 को इंडियन ग्रैंड प्रिक्स तिरुअनंतपुरम में पांच हजार मीटर की दौड़ में पहला स्थान।

यह भी पढ़ें : भारतीय-अमेरिकी गायिका ने जीता ग्रैमी अवार्ड, सबके दिलों पर किया राज

Related Post

भारतीय वेटलिफ्टर हर्षदा ने रचा इतिहास, जानें उन्होंने कैसे पकड़ी कामयाबी की सीढ़ी

Posted by - May 3, 2022 0
नई दिल्ली: भारत (India) की हर्षदा गरुड (Harshada Garud) ने एक दिन पहले इंटरनेशनल वेटलिफ्टिंग फेडरेशन (International Weightlifting Federation) की…
सुष्मिता सेन

पूर्व मिस यूनिवर्स सुष्मिता सेन 25 साल की उम्र मां बन, रूढ़वादिता को दी चुनौती

Posted by - July 14, 2019 0
नई दिल्ली। बॉलीवुड की कई दिग्गज अभिनेत्रियां खुद ही अपने बच्चों की परवरिश करती हैं। किसी के बच्चे होने के…

पीवी सिंधु ने यामागुची को मात देकर कटाया सेमीफाइनल का टिकट, मेडल अब दूर नहीं

Posted by - July 30, 2021 0
टोक्यो ओलिंपिक (Tokyo Olympics) की बैडमिंटन कोर्ट से भारतीय खेल प्रेमियों के लिए अच्छी खबर आई है।  भारत की महिला…