AMITABH THAKUR

लखनऊ: अमिताभ ठाकुर ने सरकार को लिखे पत्र को किया सार्वजनिक

478 0

लखनऊ। गृह मंत्रालय ने आईपीएस अधिकारी अमिताभ ठाकुर (Amitabh Thakur) राकेश शंकर और राजेश कृष्णा को समय से पूर्व अनिवार्य रूप से सेवानिवृत करने का आदेश दिया है।

मंगलवार को जारी इस आदेश के बाद बुधवार को अमिताभ ठाकुर (Amitabh Thakur)  ने सरकार को लिखे पत्र के कुछ अंश सोशल मीडिया पर सार्वजनिक किए हैं। उन्होंने यह पत्र चार दिसंबर, 2019 को लिखा था। अमिताभ ठाकुर (Amitabh Thakur)  ने ट्वीट कर कहा है कि जबरिया सेवानिवृति के संबंध में सरकार को लिखा उनका पत्र आज अत्यंत प्रासंगिक दिखता है।

जबरन रिटायर किए जाने के बाद आईपीएस अमिताभ ठाकुर (Amitabh Thakur)  ने सरकार को लिखे पत्र के कुछ अंश सोशल मीडिया पर सार्वजनिक किए हैं। अमिताभ ठाकुर (Amitabh Thakur)  ने ट्वीट कर कहा है कि “जबरिया सेवानिवृति के संबंध में सरकार को लिखा उनका पत्र आज अत्यंत प्रासंगिक दिखता है।

पत्र में अमिताभ ने लिखा था कि उन्हें विश्वस्त सूत्रों से बताया गया है कि उनके कथित रूप से असुविधाजनक और अप्रिय होने, ‘मुकदमेबाज’ होने, आपराधिक वाद दायर करने और प्रशासनिक कार्रवाई करने की मांग करने के कारण उन्हें अत्यंत उच्चस्तरीय दवाब में अनिवार्य सेवानिवृति के निर्देश दिए गए हैं, जिसका शीघ्र क्रियान्वयन होगा।

अमिताभ (Amitabh Thakur)  ने कहा था कि वे किसी भी प्रकार से अवांछित कर्मी नहीं हैं, बल्कि यह संभव है कि वे व्यवस्था में पूर्व आईपीएस अमिताभ ठाकुर (Amitabh Thakur)  ने ट्विटर पर पूर्व में सरकार को लिखे गए पत्र को सार्वजनिक किया है। उन्होंने पत्र में कहा था कि “यदि ऐसा हुआ तो यह घोर अन्यायपरक और मनमाना होगा, जिसका उद्देश्य प्रशासनिक व्यवस्था में अवांछित कर्मी को अलग करना नहीं बल्कि इस प्रावधान का गलत प्रयोग करते हुए व्यवस्था में ताकतवर स्थानों पर बैठे तमाम व्यक्तियों के लिए असुविधाजनक और अप्रिय व्यक्ति को व्यवस्था से अलग करना होगा, जो अनुचित उद्देश्य से संचालित होगा।
उत्तर प्रदेश के तीन आईपीएस अफसरों अमिताभ ठाकुर (Amitabh Thakur)  , राजेश कृष्ण और राकेश शंकर को सरकारी सेवा के लिए अनुपयुक्त पाते हुए ‘जबरन रिटायर’ कर दिया गया है। अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश कुमार अवस्थी ने तीनों अधिकारियों के खिलाफ लिए गए निर्णय का आदेश जारी कर दिया है। यह पहला मौका है जब उत्तर प्रदेश में एक साथ तीन आइपीएस अधिकारियों के खिलाफ ऐसी कार्रवाई की गई है। जबरन रिटायर किए गए आईपीएस अमिताभ ठाकुर ने मंगलवार रात पद छोड़ने, सरकारी गाड़ी और ड्राइवर वापस किए जाने की ट्वीट कर जानकारी दी।

 

Related Post

अखिलेश यादव ने CM योगी आदित्यनाथ को बताया बाहरी मुख्यमंत्री

Posted by - February 20, 2021 0
लखनऊ। उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव 2022 से पहले बहुजन समाज पार्टी में बड़ी भगदड़ का सर्वाधिक लाभ समाजवादी पार्टी…