देश में चल रहे 24 फर्जी विश्वविद्यालयों में 8 यूपी में, वाराणसी संस्कृत विश्वविद्यालय फर्जी

460 0

देश में लगातार गिरते शिक्षा के स्तर के बीच विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) ने 24 यूनिवर्सिटियों को फर्जी घोषित किया है। इन 24 में 8 यूपी में हैं, इनमें वाराणसी संस्कृत विश्वविद्यालय, महिला ग्राम विद्यापीठ इलाहाबाद, गांधी हिन्दी विद्यापीठ इलाहाबाद, नेताजी सुभाष चंद्र बोस मुक्त विश्वविद्यालय शामिल हैं। दिल्ली में 7 फर्जी यूनिवर्सिटी हैं, इसमें कमर्शियल यूनिवर्सिटी लिमिटेड, संयुक्त राष्ट्र विश्वविद्यालय, एवं आध्यात्मिक विश्वविद्यालय शामिल है।

केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने बताया कि ओडिशा एवं बंगाल में दो-दो एवं कर्नाटक, केरल, महाराष्ट्र, पुडुचेरी में एक-एक फर्जी यूनिवर्सिटी हैं। इन फर्जी विश्वविद्यालयों के बारे में यूजीसी हिन्दी-अंग्रेजी समाचार पत्रों के जरिए नोटिस जारी करता है, उसका उद्देश्य लोगों तक जानकारी पहुंचाने का होता है।

आपको बता दें कि UGC ने जिन 24 यूनिवर्सिटी को फर्जी घोषित किया है, उनमें उत्तर प्रदेश की सबसे अधिक 8 यूनिवर्सिटी शामिल हैं। इनमें वाराणसी का वाराणसी संस्कृत विश्वविद्यालय, महिला ग्राम विद्यापीठ, इलाहाबाद; गांधी हिंदी विद्यापीठ, इलाहाबाद; नेशनल यूनिवर्सिटी ऑफ़ इलेक्ट्रो कॉम्प्लेक्स होम्योपैथी, कानपुर; नेताजी सुभाष चंद्र बोस मुक्त विश्वविद्यालय, अलीगढ़; उत्तर प्रदेश विश्वविद्यालय, मथुरा; महाराणा प्रताप शिक्षा निकेतन विश्वविद्यालय, प्रतापगढ़ और इंद्रप्रस्थ शिक्षा परिषद, नोएडा का नाम शामिल है।

विपक्षी दलों की ‘चाय पर चर्चा’, कांग्रेस- सरकार नहीं सुन रही, सड़क से संसद तक लड़ाई लड़नी होगी

वहीं जिन 2 यूनिवर्सिटी के खिलाफ जांच चल रही है, उनमें भारतीय शिक्षा परिषद, लखनऊ, यूपी और भारतीय योजना और प्रबंधन संस्थान, कुतुब एन्क्लेव, नई दिल्ली का नाम शामिल है। इन विश्वविद्यालयों को यूजीसी अधिनियम 1956 का उल्लंघन करते हुए पाया गया है।शिक्षा मंत्री ने बताया कि छात्रों और उनके अभिभावकों के साथ-साथ आम जनता और इलेक्ट्रॉनिक प्रिंट मीडिया के माध्यम से मिली शिकायतों के आधार पर 24 यूनिवर्सिटी को फर्जी घोषित किया गया है। आपको बता दें कि लोकसभा में एक लिखित सवाल के जवाब में शिक्षा मंत्री ने ये जानकारी दी।

Divyansh Singh

मिट्टी का तन, मस्ती का मन; छड़ भर जीवन, मेरा परिचय।

Related Post