Corona

कोरोना का कहर : पुणे में बार-होटल, रेस्तरां सब बंद, छत्तीसगढ़ के दुर्ग में लगा टोटल लॉकडाउन

176 0

नई दिल्ली। कोरोना (Corona) वायरस का संकट अब एक बार फिर बेकाबू होता दिख रहा है। लगातार बढ़ते मामलों के बीच अब सख्त फैसलों का दौर फिर से शुरू हो गया है। छत्तीसगढ़ के दुर्ग में टोटल लॉकडाउन हो गया है, तो पुणे में भी कई पाबंदियां लगा दी गई हैं।

  • कोरोना के प्रकोप के बाद फिर बढ़ी सख्ती
  • छत्तीसगढ़ के दुर्ग में टोटल लॉकडाउन
  • दिल्ली और मुंबई में हालात बेकाबू
कोरोना (Corona) वायरस का संकट अब एक बार फिर बेकाबू होता दिख रहा है। लगातार बढ़ते मामलों के बीच अब सख्त फैसलों का दौर फिर से शुरू हो गया है. शुक्रवार को छत्तीसगढ़ के दुर्ग में टोटल लॉकडाउन का ऐलान कर दिया गया है। छत्तीसगढ़ के अलावा महाराष्ट्र के पुणे में नाइट कर्फ्यू लगा दिया गया है और पब्लिक प्लेस को बंद करने का निर्णय लिया गया है।

दुर्ग जिले में टोटल लॉकडाउन

छत्तीसगढ़ के दुर्ग के कलेक्टर के मुताबिक, जिले में अब 6 अप्रैल से 14 अप्रैल तक पूरी तरह से लॉकडाउन लागू रहेगा। लॉकडाउन के वक्त जो नियम थे, उन्हीं नियमों का पालन किया जाएगा। कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच ये सख्त फैसला लिया गया है।

आपको बता दें कि छत्तीसगढ़ के दुर्ग से पहले महाराष्ट्र के कई शहरों में लॉकडाउन, नाइट कर्फ्यू लगाया जा चुका है। वहीं मध्य प्रदेश में करीब आधा दर्जन से अधिक जिलों में हर रविवार को लॉकडाउन लगाया जा रहा है। साफ है कि कोरोना (Corona) के बढ़ते मामले राज्य सरकारों की चिंता को बढ़ा रहे हैं। केंद्र सरकार ने भी राज्यों को कंटेनमेंट ज़ोन बनाने पर ध्यान देने को कहा है।

पुणे में नाइट कर्फ्यू, एक हफ्ते तक सब बंद

कोरोना (Corona) के बढ़ते मामलों के बीच पुणे में सख्ती लागू की गई है। अब पुणे में कल से शाम 6 बजे से सुबह 6 बजे तक कर्फ्यू रहेग। 3 अप्रैल से अगले शुक्रवार तक यही नियम लागू होगा।

जिले के सभी बार, होटल, रेस्तरां, सिनेमा हॉल, थियेटर, पब्लिक प्लेस को 7 दिन के लिए बंद किया गया है। सिर्फ होम डिलीवरी की अनुमति है। किसी भी तरह के पब्लिक फंक्शन की इजाजत नहीं है। किसी के अंतिम संस्कार पर 20 लोग, शादी कार्यक्रम में 50 लोग शामिल हो पाएंगे।

दिल्ली और मुंबई में बेकाबू रफ्तार!

होली के बाद से ही महाराष्ट्र में तो कोरोना (Corona) वायरस बेकाबू हो चला है। बीते दिन राज्य में करीब 43 हजार कोरोना (Corona)के नए केस सामने आए। वहीं सिर्फ मुंबई में ही 8000 से अधिक मामले सामने आए हैं। बीते करीब दस दिनों से मुंबई में हर दिन 5000 से अधिक मामले सामने आ रहे हैं, जो हर दिन के साथ बढ़ते जा रहे हैं।

देश की राजधानी दिल्ली में भी बीते दिन 2700 से अधिक केस सामने आए, जो साल 2021 का सबसे बड़ा आंकड़ा है।दिल्ली में बढ़ते कोरोना (Corona) के केस ने सरकार को सकते में ला दिया है। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल इस मसले पर शुक्रवार को बैठक करने वाले हैं, जिसमें कई फैसले लिए जा सकते हैं।

आपको बता दें कि शुक्रवार को देश में कोरोना (Corona)वायरस के 81 हजार से अधिक केस दर्ज किए गए थे, साथ ही 469 लोगों की मौत हुई थी। ये आंकड़ा इस साल का सबसे अधिक है। यही कारण है कि कई राज्यों में सख्ती बढ़ी है और केंद्र सरकार भी सचेत हुई है।

Related Post

Victory of democracy in the valley

घाटी में लोकतंत्र की जीत, गुपकार संगठन के लिए परेशानी का सबब

Posted by - December 24, 2020 0
जम्मू-कश्मीर में हुए जिला विकास परिषद के चुनाव नतीजों को राज्य में होने वाले विधानसभा चुनावों का लिटमस टेस्ट माना…

…और रामपुर तिराहा कांड का दंश साथ ले गयी कद्दावर कांग्रेस नेता

Posted by - June 14, 2021 0
चंद्रशेखर पंडित भुवनेश्वर दयाल उपाध्याय वर्ष 2005, रात्रि लगभग 2 बजे का समय, देहरादून में मुख्यमंत्री का आवास, कक्ष संख्या-2,…