Delhi Corona mobile ap

कोरोना ऐप में संशोधन पर विचार करें : हाईकोर्ट

314 0

नयी दिल्ली।  दिल्ली उच्च न्यायालय ने दिल्ली कोरोना मोबाइल ऐप (Delhi Corona Mobile App) में अस्पतालों में बिस्तरों के श्रेणीकरण, हेल्पलाइन नंबर बनाने, जांच में देरी और आरटीपीसीआर जांच किट की कमी को लेकर बुधवार को कई निर्देश जारी किए।

बताएं कौन सा बेड oxygen से लैस है

न्यायमूर्ति प्रतिभा एम सिंह ने अस्पतालों में बिस्तरों की अनुपलब्धता और कोविड मरीजों के इलाज में काम आने वाले रेमडेसिविर इंजेक्शन की कमी को लेकर दायर कई याचिकाओं पर सुनवाई करते हुए दिल्ली सरकार से कहा कि वह अपनी कोरोना मोबाइल ऐप में संशोधन करने पर विचार करे और ऐप में यह जानकारी दी जाए कि कौन से बिस्तर आॅक्सीजन से लैस हैं और कौन से नहीं हैं।

दिल्ली किसकी, उपराज्यपाल या देश के दिल की

अदालत ने बिना oxygen वाले बिस्तरों की जरूरत पर सवाल करते हुए कहा कि कोविड-19 से संक्रमित मरीज आम तौर पर घर में पृथक-वास में चला जाता है और उसे अस्पताल में तब भर्ती कराना पड़ता है जब उसे आॅक्सीजन की जरूरत पड़ती है।

अदालत ने दिल्ली सरकार से कहा कि वह एक रिपोर्ट दायर करे जिसमें प्रयोगशालाओं द्वारा जांच में देरी करने और आरटीपीसीआर किटों की कमी को दूर करने के उपायों के बारे में बताया गया हो।  अदालत ने कहा कि वह 29 अप्रैल को कोविड-19 से संबंधित सभी मामलों पर आगे सुनवाई करेगी।

Related Post

delhi high court

दिल्ली हिंसाः हाईकोर्ट ने केंद्र चार हफ्ते में मांगा जवाब, अगली सुनवाई 13 अप्रैल को

Posted by - February 27, 2020 0
नई दिल्ली। दिल्ली हिंसा से जुड़े भडकाऊ भाषण मामले पर गुरुवार को भी दिल्ली हाईकोर्ट में सुनवाई हुई। कोर्ट में…

फारूक अब्दुल्ला ने दिया विवादित बयांन,कहा POK पाकिस्तान का हिस्सा है

Posted by - December 3, 2018 0
श्रीनगर। जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला ने बड़ा बयांन देते हुए पीपुल्स कॉन्फ्रेंस पार्टी के नेता सज्जाद लोन…

दिल्ली में सबसे ज्यादा हुए सड़क हादसे, एनसीआरबी के आकंड़ों से हुआ खुलासा

Posted by - October 30, 2021 0
नई दिल्ली। नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरों की ताजा रिपोर्ट के आकंड़ों के मुताबिक, सड़क हादसों में मौत होने के मामले…