विवाद में कांग्रेस नेता की गोली मारकर हत्या

विवाद में कांग्रेस नेता की गोली मारकर हत्या

405 0

जिले के गंगापार झूंसी के कनिहार गांव में मंगलवार की रात यूथ कांग्रेस के नेता मोहम्मद अकरम की गोली मारकर हत्या कर दी गई। घटना के पीछे जमीनी विवाद होने की बात सामने आ रही है। पुलिस अधीक्षक (गंगापार) धवल जायसवाल ने बताया कि बीती रात झूंसी के कनिहार नामक गांव में मोहम्मद अकरम (32 वर्ष) नाम के एक व्यक्ति की गोली मारकर हत्या कर दी गई।  उन्होंने बताया कि घटना की सूचना मिलते ही पुलिस तत्काल घटनास्थल पर पहुंची और घायल अवस्था में अकरम को एसआरएन अस्पताल में भर्ती कराया गया जहां इलाज के दौरान उसकी मृत्यु हो गई।

उन्होंने बताया कि इस घटना की पृष्ठभूमि में जमीन का विवाद सामने आया हैअ मृतक के सगे मामा रईस, उसके पुत्र अयान और एक अन्य व्यक्ति द्वारा इस घटना को अंजाम दिया गया है।   जायसवाल ने बताया कि कुछ दिन पहले मृतक के मामा ने एक जमीन खरीदी थी जिसमें हिस्सेदारी को लेकर इन दोनों के बीच विवाद उत्पन्न हुआ था।

हत्या के आरोप में पत्नी और प्रेमी गिरफ्तार

जायसवाल ने बताया कि इसी विवाद के क्रम में अकरम के मामा, मामा के बेटे और एक अन्य व्यक्ति ने अकरम को गोली मार दी जिससे अकरम की मृत्यु हो गई। आगे की विधिक कार्रवाई की जा रही है। पुलिस आरोपियों को पकड़ने के लिए दबिश दे रही है।
कांग्रेस के स्थानीय नेता हसीब अहमद का दावा है कि मोहम्मद अकरम पर इससे पूर्व भी कई बार जानलेवा हमला किया जा चुका है जिसकी शिकायत अकरम ने आला पुलिस अधिकारियों से की थी। इस शिकायत पर कोई कार्रवाई  नहीं हुई जिसका नतीजा यह रहा कि अकरम की गोली मारकर हत्या कर दी गई।

 

Related Post

जायरा के एक्टिंग छोड़ने के फैसले पर नगमा का सपोर्ट

Posted by - July 1, 2019 0
इंटरटेनमेंट डेस्क। सुपरस्टार फिल्म की अभिनेत्री जायरा वसीम के ऐक्टिंग छोड़ने के फैसले पर राजनीतिक प्रतिक्रियाएं भी आने लगी हैं।…

‘द फेवरेट’ को ‘बाफ्टा’ में मिले 12 नामांकन,आज होगा पुरस्कारों का ऐलान

Posted by - January 10, 2019 0
नई दिल्ली। ब्रिटिश रॉयल ड्रामा ‘द फेवरेट’ को इस साल ब्रिटिश अकादमी फिल्म पुरस्कार में 12 श्रेणियों में नामांकित किया…
CM Vishnudev Sai

अविलंब निकलना था तेलंगाना, फिर भी दूर से आए अतिथियों को मुख्यमंत्री साय ने दिया समय

Posted by - February 26, 2024 0
रायपुर। भारत में अतिथि देवो भवः की महान परंपरा रही है। अतिथि का तात्पर्य ही है जो बिना तिथि, समय…