कोरोनावायरस

कोरोनावायरस फिल्म टाइटल्स रजिस्टर कराने की बॉलीवुड में होड़, बनेगी ‘करोना प्यार है’ फिल्म

228 0

मुंबई। कोरोना वायरस ने दुनिया के लगभग 117 से अधिक देशों को अपनी चपेट में ले लिया है। इस वायरस से भारत भी काफी प्रभावित हुआ है। इससे बॉलीवुड भी अछूता नहीं रह गया है। तो वहीं अब कोरोना वायरस की पृष्ठभूमि पर फिल्म बनाने और इससे संबंधित टाइटल रजिस्टर कराने को लेकर फिल्म‌ निर्माताओं में होड़ मची है।

‘करोना प्यार है’ जो कोरोना वायरस के खतरों के बीच  है पनपती

ऐसा ही एक टाइटल है ‘करोना प्यार है’। जो साल 2000 में आई ऋतिक रोशन और अमीषा पटेल की सुपरहिट फिल्म ‘कहो न प्यार है’ की तर्ज पर इस फिल्म का नाम रखा गया है। जैसा कि नाम से ही जाहिर है यह फिल्म भी एक लव स्टोरी है, जो कोरोना वायरस के खतरों के बीच पनपती है।

यूपी रिकवरी आफ डैमेज टू पब्लिक एंड प्राइवेट प्रॉपर्टी अध्यादेश 2020 को राज्यपाल की मंजूरी

बता दें कि ‘करोना प्यार है’ टाइटल को अभी कुछ दिन पहले ही रजिस्टर कराया गया है। जिसे इंडियन फिल्म एंड टेलीविजन प्रोड्यूसर काउंसिल (IFTPC) द्वारा रजिस्टर किया गया है। फिल्म की अन्य संस्थाओं में भी कोरोना से संबंधित शीर्षकों को रजिस्टर करने को लेकर आवेदन आ रहे हैं। इंडियन मोशन पिक्चर्स प्रोड्यूसर्स एसोसिएशन (IMPPA) में भी कोरोना को लेकर कई तरह के शीर्षक रजिस्टर करने संबंधी आवेदन पहुंचे हैं।

‘वुहान वेपन कोरोना’, ‘कोरोना द डेडली वायरस’, ‘कोरोना द ब्लैक डे’, ‘कोरोना द इमरजेंसी’ जैसे कई शीर्षकों के आ चुके हैं आवेदन 

आईएफटीपीसी में टाइटल एक्जीक्यूटिव के तौर पर कार्यरत एक शख्स ने बताया कि ‘वुहान वेपन कोरोना’, ‘कोरोना द डेडली वायरस’, ‘कोरोना द ब्लैक डे’, ‘कोरोना द इमरजेंसी’ जैसे कई शीर्षकों के आवेदन आ चुके हैं। इस तरह के शीर्षकों को लेकर कई निर्माताओं के फोन लगातार आ रहे हैं।

आईएफटीपीसी के सीईओ सुरेश अमीन ने बताया कि निर्माताओं द्वारा करंट अफेयर्स और बड़ी घटनाओं पर इस तरह के शीर्षकों को रजिस्टर कराना कोई नई बात नहीं है। बात चाहे भारत द्वारा पाकिस्तान‌ पर किए गए सर्जिकल स्ट्राइक की हो, हमारे विंग कमांडर अभिनंदन को पाकिस्तान में गिरफ्तार किया जाना हो या फिर जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 को हटाया जाना हो, निर्माताओं में ऐसे विषयों से संबंधित शीर्षकों को रजिस्टर कराने की होड़ सी मच जाती है।

Loading...
loading...

Related Post