Bhamashah Jayanti

भव्य आयोजनों के जरिए ‘व्यापारी कल्याण दिवस’ के रूप में मनेगी भामाशाह जयंती

122 0

लखनऊ । देश की आन-बान शान रहे वीर शिरोमणि महाराणा प्रताप की बहादुरी के किस्से-कहानियों की बात करते लोग आज भी नहीं थकते हैं। कभी मुगलों की दासता स्वीकार न करने वाले आत्मसम्मानी और मातृभूमि के लिए सब कुछ न्योछावर करने का संकल्प रखने महाराणा को सेना खड़ी करने के लिए अपना सर्वस्व दान कर देने वाले दानवीर भामाशाह (Bhamashah) का भी महत्व कम नहीं है। इसी महत्व को जनमानस में प्रसारित करने और उत्तर प्रदेश के व्यापारी व उद्योगपतियों को सम्मानित करने के लिए योगी सरकार ने विस्तृत कार्ययोजना तैयार कर उसे क्रियान्वित करने की प्रक्रिया शुरू कर दी है।

29 जून को भामाशाह जयंती (Bhamashah Jayanti) पर अब योगी सरकार (Yogi Government) प्रदेश भर में भव्य आयोजनों के जरिए व्यापारी कल्याण दिवस के तौर पर मनाए जाने का मार्ग प्रशस्त कर दिया है। उल्लेखनीय है कि योगी सरकार के समक्ष इस वर्ष भामाशाह जयंती को प्रदेश में मनाए जाने को लेकर मांग व सुझाव आए थे, जिसे सीएम योगी ने सहर्ष स्वीकार करते हुए अब इस परिपेक्ष्य में विस्तृत कार्ययोजना को क्रियान्वित कर दिया है।

संस्कृति विभाग को जारी किए गए निर्देश

सीएम योगी (CM Yogi) की मंशा के अनुरूप, संस्कृति विभाग को आयोजन के संबंध में स्पष्ट निर्देश देते हुए राज्य कर विभाग, एमएसएमई, नगरीय विकास, ग्राम्य विकास व औद्योगिक विकास की भी सहभागिता को सुनिश्चित करने का निर्देश दिया है। मुख्य सचिव द्वारा जारी किए गए निर्देश के अनुसार, प्रदेश में भामाशाह जयंती (Bhamashah Jayanti)  पर राज्य, जिला व तहसील स्तर पर कार्यक्रमों का आयोजन होगा जिसमें प्रदर्शनियां लगाई जाएंगी। इसमें ओडीओपी से जुड़े उत्पादों के स्टॉल प्रमुख होंगे।

वहीं, भामाशाह की जीवनी , उनके महत्व और महाराणा प्रताप को उनके द्वारा दी गई मदद संबंधी तथ्यों को कार्यक्रम में संगीत, नृत्य नाटिका व सांस्कृतिक प्रस्तुतियों के जरिए दर्शाया जाएगा।

सभी नगरीय निकायों में 2 अक्तूबर तक योगी सरकार चलाएगी सर्वेक्षण अभियान

इस अवसर पर राज्य के प्रत्येक जिले में व्यापारी कल्याण दिवस पर इनवेस्टर्स समिट का भी आयोजन किया जाएगा जिसमें प्रदेश में निवेश करने वाले उद्योगपतियों को सम्मानित किया जाएगा। वहीं, लखनऊ में राज्यस्तरीय भव्य आयोजन के जरिए 29 जून यानी भामाशाह जयंती (Bhamashah Jayanti) को प्रत्येक वर्ष व्यापारी कल्याण दिवस पर प्रदेश में सबसे ज्यादा टैक्स देने वाले व्यापारी को भामाशाह पुरस्कार भी दिया जाएगा।

1.70 करोड़ रुपए किए जाएंगे उ.प्र संगीत नाटक अकादमी के खाते में ट्रांसफर

प्रदेश में भामाशाह जयंती (Bhamashah Jayanti) पर व्यापारी कल्याण दिवस से संबंधित राज्यस्तरीय सांस्कृतिक आयोजन के लिए उत्तर प्रदेश संगीत नाटक अकादमी को 6 विभागों से कुल मिलाकर कर 1.70 करोड़ रुपए बतौर सहयोग राशि उपलब्ध कराया जाएगा।

इस क्रम में पर्यटन विभाग द्वारा 30 लाख, सूचना व जनसंपर्क विभाग द्वारा 30 लाख, एमएसएमई द्वारा 20 लाख, खादी ग्रामोद्योग विभाग द्वारा 20 लाख, समाज कल्याण विभाग द्वारा 20 लाख तथा संस्कृति विभाग द्वारा 50 लाख रुपए की सहयोग राशि उत्तर प्रदेश संगीत नाटक अकादमी के खाते में ट्रांसफर किए जाएंगे।

Related Post

जनसंघ के संस्थापक दीनदयाल जी के प्रपौत्र चन्द्रशेखर उपाध्याय से मिले संघ दिग्गज!

Posted by - July 3, 2021 0
विनायक कुलाश्री दीनदयाल उपाध्याय के पैतृक ग्राम नगला चन्द्रभान में चल रहे प्रकल्पों के संरक्षक, संघ के वरिष्ठ प्रचारक एवं…