Heliport

विंध्याचल, चित्रकूट के बाद बरसाना और प्रयागराज से भी शुरू होगी रोपवे सेवा

19 0

लखनऊ। ऊपर अनंत नीला आसमान। नीचे आपके पसंदीदा शहर/पर्यटन स्थल का मनमोहक मंजर। ऐसे में चंद मिनट के लिए ही सही आप दुनिया-जहां को भूल ही जाएंगे। ऐसा तभी संभव है जब आपको संबंधित जगहों के लिए हेलीपोर्ट (heliport) या रोपवे सेवा (ropeway service) की सुविधा उपलब्ध हो।  योगी सरकार (Yogi Sarkar) प्रमुख शहरों के लिए जो हेलीपोर्ट (heliport service) सेवा शुरू कर रही है या रोपवे का निर्माण करा रही है, उसके पीछे की मंशा यही है।

स्वच्छ यूपी-स्वस्थ यूपी की परिकल्पना नई उड़ान भरने को तैयार

इसके लिए योगी सरकार (Yogi Sarkar) ने मुकम्मल कार्ययोजना तैयार की है।

अगले छह महीने में आगरा और मथुरा में हेलीपोर्ट सेवा (heliport service) के संचलन के लिए पब्लिक, प्राइवेट पार्टनर (पीपीपी) का चयन हो जाएगा। अगले दो साल में प्रदेश की राजधानी और नवाबों के शहर लखनऊ, तीरथ राज प्रयाग में भी हेलीपोर्ट सेवा (heliport service) शुरू करने का लक्ष्य योगी सरकार का है।

heliport

चाहने वाले हेलीपोर्ट सेवा (heliport service) से देख सकेंगे इस बार का दिव्य-भव्य कुंभ

मसलन इस बार चाहने वालों को 2025 में आयोजित दिव्य एवं भव्य कुंभ की यादों को आसमान से देखकर अपने दिलो-दिमाग पर हरदम के लिए अमिट रूप से चस्पा कर सकेंगे।

छह महीने में रोपवे (ropeway) से देख सकेंगे राधा-कृष्ण की ब्रजभूमि

आसमान से ही विंध्य और चित्रकूट की प्राकृतिक खूबसूरती दिखाने के लिए रोपवे सेवा (ropeway service) शुरू की जा चुकी है। विंध्याचल में अष्टभुजा एवं कालीखोह रोपवे का संचालन  पिछले साल अगस्त से और चित्रकूट रोपवे का संचलन सितंबर 2019 से ही शुरू हो चुका है। अगले छह महीने में आप राधा-कृष्ण और कृष्ण एवं ग्वाल-बालों की क्रीड़ा स्थली ब्रज भूमि के दर्शन के लिए मथुरा में बरसाना का रोपवे भी चालू हो जाएगा। दो साल में प्रयागराज में झूंसी से त्रिवेणी पुष्प तक नए रोपवे का निर्माण कार्य शुरू करने का लक्ष्य पर्यटन विभाग ने तय किया है। चंद रोज पहले मंत्री परिषद के समक्ष प्रस्तुतिकरण के दौरान पर्यटन विभाग ने अपने लिए 100 दिन, दो और पांच साल के लिए जो लक्ष्य तय किया है उसमें भी इन सारी बातों का जिक्र है।

heliport

देश-दुनियां में ब्रांड यूपी और माजबूत करने, स्थानीय स्तर पर रोजगार एवं राजस्व में वृद्धि का सबसे प्रभावी जरिया है, पर्यटन। हर लिहाज से बेहद सम्पन्न विरासत के नाते उत्तर प्रदेश में पर्यटन क्षेत्र की असीम संभावनाएं हैं। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की मंशा है कि अपनी सम्पन्न विरासत के   आधार पर प्रदेश को देश-दुनिया का सबसे पसंदीदा पर्यटन स्थल बनाया जाय। विभाग उसी मंशा के मद्देनजर काम कर रहा है।

सीएम योगी एवं धामी ने यमकेश्वर में आयोजित कार्यक्रम में किया प्रतिभाग

Related Post

‘जेड’ सुरक्षा घेरे में रहेंगे चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर, ममता सरकार का फैसला

Posted by - February 19, 2020 0
नई दिल्ली। पश्चिम बंगाल की ममता सरकार ने चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर को जेड श्रेणी की सुरक्षा मुहैया कराएगी। सरकारी…
भावुक हुए आडवाणी

फिल्म ‘शिकारा’ देख भावुक हुए आडवाणी, विधु विनोद चोपड़ा ने बंधाया ढांढस

Posted by - February 8, 2020 0
नई दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता लाल कृष्ण आडवाणी कश्मीरी पंडितों के निर्वासन पर बनी फिल्म ‘शिकारा’ देखकर…

पं. दीनदयाल उपाध्याय के प्रपौत्र बने हरीश रावत के सलाहकार

Posted by - August 5, 2021 0
बहुचर्चित रामपुर तिराहा कांड की पुनर्निरीक्षण-याचिका इलाहाबाद हाईकोर्ट से स्वीकार कराने वाले एवं हिंदी माध्यम से एल-एम.एम. उत्तीर्ण करने वाले…

कोविड काल में अनाथ हुई युवतियों की शादी करवाएगी यूपी सरकार!

Posted by - August 13, 2021 0
उत्तर प्रदेश सरकार ने कोविड काल के दौरान अनाथ युवतियों की शादी कराने का फैसला लिया है। प्रदेश सरकार मुख्यमंत्री बाल…