beekeeping

मधुमक्खी पालन से आमदनी बढ़ाएगी सरकार, फ्री ट्रेनिंग के लिए आवेदन

27 0

लखनऊ। उद्यान एवं खाद्य प्रसंस्करण विभाग द्वारा मधुमक्खी पालन (Beekeeping) को बढ़ावा देने के लिए तथा वैज्ञानिक ढंग से मौनपालन किये जाने हेतु औद्यानिक प्रयोग एवं प्रशिक्षण केन्द्र, सहारनपुर व बस्ती एवं अधीक्षक राजकीय उद्यान, प्रयागराज में 16 सितम्बर, 2022 से 15 दिसम्बर, 2022 तक 03 माह (90 दिवसीय) का प्रशिक्षण सत्र का आरम्भ किया जायेगा।

यह जानकारी देते हुये निदेशक उद्यान एवं खाद्य प्रसंस्करण आर.के. तोमर ने बताया कि यह प्रशिक्षण विभाग द्वारा निःशुल्क प्रदान किया जायेगा। उन्होंने बताया कि मधुमक्खी पालन प्रशिक्षण (Beekeeping training) में भाग लेने वाले इच्छुक व्यक्तियों को अपने निकटतम सुविधा अनुसार संयुक्त निदेशक, औद्यानिक प्रयोग एवं प्रशिक्षण केन्द्र सहारनपुर, संयुक्त निदेशक औद्यानिक प्रयोग एवं प्रशिक्षण केन्द्र बस्ती एवं अधीक्षक राजकीय उद्यान, प्रयागराज से सम्पर्क कर निर्धारित प्रारूप पर 16 सितम्बर, 2022 तक आवेदन कर मधुमक्खी पालन प्रशिक्षण प्राप्त कर सकते हैं।

उन्होंने बताया कि प्रशिक्षण में पुरूष एवं महिलाये सभी वर्ग के अभ्यर्थी प्रतिभाग कर सकते है. इसके लिए न्यूनतम शैक्षिक योग्यता कक्षा आठ उत्तीर्ण होना आवश्यक है। आवेदन पत्र के साथ दो संभ्रान्त व्यक्तियों या राजपत्रित अधिकारी द्वारा प्रदत्त चरित्र प्रमाण-पत्र आवश्यक है। प्रशिक्षण में भाग लेने वाले प्रशिक्षार्थियों को ठहरने एवं खाने आदि की व्यवस्था स्वयं करनी होगी।

त्रेतायुग की समदा नदी बनी थी समदा झील

निदेशक आर.के. तोमर ने मधुमक्खी पालन (Beekeeping) के महत्व के बारे में बताया कि मधुमक्खी पालन अनुपूरक कृषि उद्यम के रूप में महत्वपूर्ण स्थान रखता है। उन्होंने कहा कि मधुमक्खियाँ प्रत्यक्ष एवं अप्रत्यक्ष रूप से किसानों के दैनिक जीवन से लेकर उनकी आर्थिक आय बढोत्तरी में सहायक है।

उन्होने बताया कि मधुमक्खियों से शहद उत्पादन के साथ-साथ फसलों में घर-परागण से पौधों की जीवितता एवं उत्पादन में वृद्धि होती है तथा पर्यावरण संतुलन में भी इनका महत्वपूर्ण योगदान है। किसानों की आय में वृद्धि के लिए कृषि के साथ-साथ अन्य ऐसे अनुपूरक व्यवसाय अपनाये जाने की आवश्यकता है, जिसमे कम भूमि एवं कम पूंजी की जरूरत हो। मधुमक्खी पालन (Bee keeping) को अनुपूरक कृषि उद्यम के रूप में अपनाकर कम पूंजी व कम समय में अधिक आय प्राप्त की जा सकती है।

Related Post

छात्रा बोली- शिकायत की तो उन्नाव पीड़िता की तरह कोई करा देगा एक्सीडेंट, एएसपी निशब्द

Posted by - August 1, 2019 0
बाराबंकी। बालिका सुरक्षा जागरूकता अभियान के तहत जिले भर में पुलिस के द्वारा जागरूकता कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं।…
cm yogi

मुख्यमंत्री ने मोदी@20 ’सपने हुए साकार किताब के हिन्दी संस्करण का किया लोकार्पण

Posted by - September 9, 2022 0
वाराणसी। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi) ने शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) पर लिखित पुस्तक…