सफाई कर्मचारी का राजस्थान प्रशासनिक सेवा में हुआ चयन

58 0

RAS-2018 (राजस्थान प्रशासनिक सेवा) में मेहनत और लगन के बूते कस्बों के अभ्यर्थियों ने भी परचम लहराया है। जीवन में आने वाली परेशानियों को चुनौती के रूप में लिया और काबिलियत का लोहा मनवाया है। इन्हीं अभ्यर्थियों में से एक हैं आशा कंडारा। नगर निगम में कार्यरत आशा ने सड़कों पर झाड़ू लगाई, 2 बच्चों की परवरिश की, उसके बाद मन लगाकर पढ़ाई की। इसका फल भी उन्हें मिला। आशा का चयन RAS-2018 में हुआ है। दूसरी कहानी एक दृष्टिहीन की है जिसने एग्जाम देने के लिए ही लंबी कानूनी लड़ाई लड़ी। उसके बाद सफलता हासिल की।

जोधपुर की सड़कों पर झाड़ू लगाने वाली निगम कर्मचारी आशा कंडारा की। 8 साल पहले पति से अनबन के बाद दो बच्चों के पालन-पोषण की जिम्मेदारी निभाते हुए आशा ने पहले ग्रेजुएशन किया। अब RAS क्लियर की। परीक्षा के 12 दिन बाद ही उसकी नियुक्ति सफाई कर्मचारी के पद पर हुई थी। हालांकि, नतीजों के लिए दो साल इंतजार करना पड़ा। इस दौरान सड़कों पर झाड़ू लगाई, पर हिम्मत नहीं हारी।

आशा ने ठान लिया था कि अफसर ही बनना है। भले ही इसके लिए कितनी भी मेहनत क्यों न करनी पड़े। आशा कहती हैं कि परीक्षा देने के बाद उन्हें भरोसा था कि उनका चयन जरूर होगा। आशा बताती हैं कि 1997 में उनकी शादी हुई। 5 साल बाद पति ने छोड़ दिया। पिता राजेंद्र कंडारा अकाउंटेंट सेवा से रिटायर हो चुके हैं। ऐसे में उन्होंने पति से अलग होते ही कुछ खास करने की ठान ली थी। मुश्किल हालात में मेहनत कर 2016 में ग्रेजुएशन किया।

ग्रेजुएशन करने के एक साल बाद आशा का पति से तलाक हो गया। विपरीत परिस्थितियों के बावजूद 2018 में सफाई कर्मचारी भर्ती की परीक्षा दी। इसके साथ ही RAS प्री-परीक्षा की तैयारी के लिए दिन-रात पढ़ाई की। ऑनलाइन पढ़ाई के साथ कोचिंग क्लास भी की। अगस्त में प्री-परीक्षा दी। अक्टूबर में रिजल्ट आया तो पास होते ही RAS मेन्स की तैयारी में जुट गईं।

पीएम की रैली में शामिल हो रहे आरएसएस वर्करों की उतरवाई गई टोपी, काले कपड़े वालों को किया वापस

इस बीच सफाई कर्मचारी के पद पर नियुक्ति का पत्र आ गया तो यह नौकरी जॉइन कर ली। आशा को पावटा की मुख्य सड़क पर सफाई के लिए लगाया गया। मुख्य सड़क पर झाड़ू लगाने में भी नहीं हिचकिचाईं। जब मंगलवार को RAS में चयन हुआ, तो खुशी का ठिकाना न रहा।

Divyansh Singh

मिट्टी का तन, मस्ती का मन; छड़ भर जीवन, मेरा परिचय।

Related Post

डॉक्टरों की लापरवाही से यह महिला जीवनभर के लिए हो गईं विकलांग, हौंसले के आगे टिक न पाई यह कमजोरी

Posted by - October 4, 2019 0
उन्नाव। कहते हैं जब समय और किस्मत बलवान हो तो उसके आगे कोई भी बाधा नहीं रुक सकती है। ऐसा…

शिवराज का बड़ा प्लान: मध्यप्रदेश में 11वीं – 12वीं के स्कूल 26 जुलाई से खोलने का विचार

Posted by - July 14, 2021 0
मध्य प्रदेश: मध्य प्रदेश में स्कूल खोलने पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बड़ा संकेत दिया है। आरएसएस के अनुषांगिक…
IIT Kharagpur

आईआईटी खड़गपुर ने विकसित की जल शुद्धिकरण की तकनीक

Posted by - March 11, 2021 0
नई दिल्ली। भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आआईटी) खड़गपुर (IIT Kharagpur) स्थित तकनीकी उत्कृष्टता केंद्र जल शुद्धिकरण पर ध्यान केंद्रित कर रहा…