उज्‍ज्‍वला योजना

रिपोर्ट ने खोली उज्‍ज्‍वला योजना की पोल, 85 फीसदी लाभार्थी पका रहे हैं चूल्‍हे पर खाना

682 0

नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान मोदी सरकार अपनी उज्ज्वला योजना को लेकर बड़े-बड़े दावे कर रही है,लेकिन उसके दावे की पोल हाल ही में जारी एक रिपोर्ट से खुल गई है।

उत्तर प्रदेश, बिहार, मध्यप्रदेश और राजस्थान में उज्ज्वला योजना के करीब 85 फीसदी लाभार्थी अभी भी चूल्हे पर खाना बनाने को मजबूर

द हिंदू ने हाल में उज्जवला योजना पर रिसर्च इंस्टीट्यूट फॉर कम्पैसनेट इकोनॉमिक्स (आरआईसीई) की नई स्टडी की है। इसकी रिपोर्ट में योजना को लेकर चौंकाने वाली जानकारियां सामने आई हैं। रिपोर्ट में कहा गया है कि देश के चार राज्यों में योजना के तहत मुफ्त एलपीजी कनेक्शन पाने वाले करीब 85 फीसदी लाभार्थी अभी भी चूल्हे पर खाना बनाने को मजबूर हैं। आरआईसीई की रिपोर्ट में खुलासा हुआ है कि उत्तर प्रदेश, बिहार, मध्यप्रदेश और राजस्थान में उज्ज्वला योजना के करीब 85 फीसदी लाभार्थी अभी भी चूल्हे पर खाना बनाने को मजबूर हैं।

ये भी पढ़ें :-सहारनपुर-बिजनौर में रोड शो आज, आखिरी वक्त में पश्चिमी यूपी का दिल जीतना चाहेंगी प्रियंका 

रिपोर्ट में आर्थिक कारणों के साथ ही लैंगिक असमानता को बताया वजह

रिपोर्ट में इसके लिए आर्थिक कारणों के साथ ही लैंगिक असमानता को वजह बताया गया है। साल 2018 के अंत में किये गए इस सर्वे में सामने आया कि योजना के लाभार्थियों के बेहद गरीब होने के कारण सिलेंडर को रिफिल कराना उनके लिए बड़ी समस्या है। योजना के तहत शुरुआत में तो कनेक्शन के साथ फ्री सिलेंडर मिल जाता है, लेकिन उसके खत्म होने की स्थिति में आर्थिक रूप से कमजोर होने के कारण लाभार्थी दोबारा सिलेंडर नहीं भरा पाते। इसके अलावा सर्वे में लैंगिक असमानता की भूमिका भी सामने आई। एक और बात सामने आई कि घर से जुड़े आर्थिक निर्णय लेने में महिलाओं की भूमिका न के बराबर होती है। इस वजह से उज्ज्वला के लागू होने में लैंगिक असमानता भी कहीं न कही बाधा बन रही है।

ये भी पढ़ें :-अयोध्या मंदिर विवाद : अधिग्रहित भूमि मामले में निर्मोही अखाड़ा सुप्रीम कोर्ट पहुंचा 

सर्वे में चार राज्यों के 11 जिलों के 1550 परिवारों का लिया गया था रैंडम सैंपल 

साल 2018 के अंत में हुए इस सर्वे में चार राज्यों के 11 जिलों के 1550 परिवारों का रैंडम सैंपल लिया गया था, जो उज्ज्वला के लाभार्थी थे। इन परिवारों में से 98 फीसदी के घर में चूल्हा था और इनमें से 70 फीसदी परिवारों को इसके लिए जलावन पर कोई खर्च नहीं करना पड़ता है। जलावन के लिए इन परिवारों की महिलाएं गोबर के उपले बनाती हैं, जबकि पुरुष लकड़ियां काट कर लाते हैं। यह गैस सिलेंडर के मुकाबले काफी सस्ता पड़ता है। हालांकि, लकड़ी और गोबर के उपलों के धुएं से नवजातों की मौत, सांस में तकलीफ, विकास में बाधा के साथ ही सभी को दिल और फेफड़े की बीमारियों की आशंका बढ़ जाती है।

Loading...
loading...

Related Post

स्मृति ईरानी

स्मृति ईरानी के साथ संसद में कांग्रेस सांसदों ने किया दुर्व्यवहार, हुई कार्रवाई की मांग

Posted by - December 6, 2019 0
नई दिल्ली। हैदराबाद में बलात्कार के आरोपियों के एनकाउंटर के बाद शुक्रवार को लोकसभा में महिला अपराध को लेकरचर्चा हो…
लखनऊ लोकसभा सीट

पीएम मोदी के हमशक्ल ने बांटी चाय, लखनऊ लोकसभा सीट से किया जीत का दावा

Posted by - April 13, 2019 0
लखनऊ। पीएम नरेंद्र मोदी के हमशक्ल अभिनंदन पाठक लखनऊ से निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर लखनऊ लोकसभा सीट से मैदान…
नीतीश कुमार

पीएम मोदी ने नीतीश कुमार को बताया जमीनी स्तर से उठा लोकप्रिय नेता

Posted by - March 1, 2020 0
नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को उनके जन्मदिन पर बधाई दी है।…
पाक के ठिकाने तबाह

भारतीय सेना के मिसाइल हमले में पाक के ठिकाने तबाह, वीडियो जारी

Posted by - March 5, 2020 0
नई दिल्ली। जम्मू-कश्मीर घाटी में पाकिस्तान लगातार सीजफायर का उल्लंघन कर रहा है। जिसका भारतीय सेना ने गुरुवार को करारा…