पीएम मोदी ने दिये निर्देश, सरकारी कार्यालयों में चलेगी एक ‘अनोखी’ स्वच्छता मुहिम

54 0

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के निर्देश पर सरकारी कार्यालयों में अगले महीने से एक ‘अनोखी’ स्वच्छता मुहिम चलाई जाएगी। ‘अनोखी’ इस लिहाज से कि ये साफ-सफाई लंबित शिकायतों, पुरानी-अनचाही फाइलों के निपटान से जुड़ी होगी। इसके अलावा, संसद में दिए गए आश्वासनों को संबंधित मंत्रालयों को 31 अक्टूबर से पहले पूरा करना होगा।

तेजी से हो रही मुहिम की तैयारी

जानकारी के मुताबिक, इस संबंध में कैबिनेट सचिवालय की तरफ से सभी मंत्रालयों और  विभागों को एक पत्र लिखा गया है, जिसके आधार पर सभी 13 सितंबर से जरूरी जानकारी जुटाने में लगे हैं। सीधे शब्दों में कहें तो अक्टूबर से शुरू होने वाली इस ‘स्वच्छता मुहिम’ की तैयारी हो रही है, ताकि डेडलाइन से पहले सभी काम निपटा लिए जाएं।

मंत्रालय करेंगे नियमों की समीक्षा

इसके साथ ही मंत्रालयों को मौजूदा नियमों और सरकारी कामकाज में कागजी कार्रवाई बढ़ाने वाले पुराने आदेशों की भी समीक्षा करनी है। पीएम मोदी के निर्देश पर सभी मंत्रालयों को पत्र लिखने वाले कैबिनेट सचिव राजीव ने कहा है कि मौजूदा प्रक्रियाओं की समीक्षा की जा सकती है, ताकि अनुपालन संबंधी बोझ को कम किया जा सके और जहां भी संभव हो अनावश्यक कागजी कार्रवाई से बचा जा सके।

गांधी जयंती से शुरू होगी मुहिम

पत्र में कहा गया है कि इस साल अपने स्वतंत्रता दिवस के संबोधन में प्रधानमंत्री ने मौजूदा नियमों और प्रक्रियाओं की निरंतर आधार पर समीक्षा करने की आवश्यकता पर जोर दिया था। इसी को ध्यान में रखते हुए सभी मंत्रालयों को काम करना चाहिए। कार्य की रूपरेखा 29 सिंतबर तक तैयार होगी और पेंडिंग, पुरानी-अनचाही फाइलों के निपटान का सिलसिला 2 अक्टूबर, गांधी जयंती से शुरू हो जाएगा। बता दें कि गांधी जयंती को राष्ट्रीय स्वच्छता दिवस के रूप में मनाया जाता है।

CPGRAMS पर दर्ज होती है शिकायतें

आमतौर पर प्रशासनिक सुधार और लोक शिकायत मंत्रालय की केंद्रीकृत लोक शिकायत निवारण एवं निगरानी प्रणाली (CPGRAMS) वेबसाइट पर किसी भी मंत्रालय से जुड़ी शिकायत की जा सकती है। इसके बाद शिकायत को संबंधित मंत्रालय भेजा जाता है। शिकायतों के निपटान के लिए एक प्रोटोकॉल है। पीएम मोदी चाहते हैं कि इस प्रक्रिया में तेजी लाई जाए, ताकि लोगों की परेशानी को कम से कम किया जा सके। कैबिनेट सचिव के पत्र में कहा गया है कि लंबित शिकायतों का अक्टूबर समाप्त होने से पहले निपटान कर दिया जाए।

45 दिन में करना होगा समस्याओं का समाधान

पत्र में संसद में दिए गए आश्वासनों पर भी जल्द से जल्द कार्रवाई की बात कही गई है। प्रत्येक संसद सत्र में प्रश्नकाल के दौरान सांसदों द्वारा संबंधित कार्रवाई का आश्वासन दिया जाता है। इन आश्वासनों के लिए एक अलग से फाइल बनती है, इस तरह फाइलों का बोझ बढ़ता जाता है। पीएम चाहते हैं कि इस प्रक्रिया में बदलाव लाया जाए। इसलिए सभी सांसदों से कहा गया है कि लंबित आश्वासनों पर तत्काल कार्रवाई की जाए। बता दें कि इस वर्ष, सरकार ने शिकायत निवारण के लिए अधिकतम समय को 60 दिन से घटाकर 45 दिन कर दिया है। ऐसा इसलिए क्योंकि सरकार ने पाया है कि CPGRAMS की 87 फीसदी शिकायतों का समाधान 45 दिनों में हो गया है।

 

Related Post

राहुल गाँधी - मेनका गाँधी

लोकसभा चुनाव 2019: चाची मेनका के वार का जवाब आज देंगे राहुल गांधी

Posted by - April 22, 2019 0
सुल्तानपुर। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पहली बार चाची मेनका गांधी के खिलाफ सुल्तानपुर में सोमवार यानी आज चुनाव प्रचार करेंगे।…
महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन सिफारिश !

महाराष्ट्र में भाजपा को सरकार बनाने का मिला मौका, राज्यपाल ने भेजा आमंत्रण

Posted by - November 9, 2019 0
मुंबई। महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने शनिवार को प्रदेश में सत्ता को लेकर चल रही खींचतान के बीच…

नंदीग्राम चुनाव: जांच करने वाले जज बीजेपी के सक्रिय सदस्य- ममता बनर्जी

Posted by - June 19, 2021 0
पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव के परिणाम आने के बाद भी चर्चाएं जारी हैं, नंदीग्राम सीट पर अपनी हार के खिलाफ…
Falguni Pathak

नवरात्रि में गरबा के लिए रहें तैयार, फाल्गुनी पाठक का आया ये धमाकेदार गाना

Posted by - October 14, 2020 0
नई दिल्ली। शारदीय नवरात्रि 17 अक्टूबर से प्रारंभ हो रहा है। गायिका फाल्गुनी पाठक (Falguni Pathak ) इस त्योहार के…