माउंट त्रिशूल पर हिमस्खलन की चपेट में आया नौसेना का दल, छह लोग लापता

157 0

उत्तरकाशी। उत्तराखंड के माउंट त्रिशूल के आरोहण के लिए गया नौसेना का दल हिमस्खलन की चपेट में आ गया है।  इस दौरान नौसेना के पर्वतारोही दल के पांच जवान और एक पोर्टर लापता हो गए। इस संबंध में कर्नल अमित बिष्ट ने बताया कि उन्हें ये सूचना नेवी की एडवेंचर विंग से आज सुबह करीब 11 बजे मिली, जिसमें उन्होंने निम की सर्च एडं रेस्क्यू टीम से मदद मांगी। प्रारंभिक जानकारी के अनुसार ये माउंट त्रिशूल के आरोहण के दौरान हिमस्खलन आने से यह हादसा हुआ।

नेहरू पर्वतारोहण संस्थान से राहत-बचाव टीम कर्नल अमित बिष्ट के नेतृत्व में त्रिशूल चोटी के लिए रवाना हुई। टीम जोशीमठ पहुंच गई है। लेकिन मौसम खराब होने के कारण आगे नहीं पहुंच पा रही है। मौसम ठीक होते ही राहत-बचाव कार्य शुरू कर दिया जाएगा।

शुक्रवार सुबह हुई घटना

कर्नल अमित बिष्ट ने बताया कि नौसेना के पर्वतारोहियों का 20 सदस्यीय दल करीब 15 दिन पहले 7,120 मीटर ऊंची त्रिशूल चोटी के आरोहण के लिए गया था। शुक्रवार सुबह दल चोटी के समिट के लिए आगे बढ़ा। इसी दौरान हिमस्खलन हुआ है, जिसकी चपेट में नौसेना के पांच जवान पर्वतारोही और एक पोर्टर आ गए। सूचना के बाद उत्तरकाशी से हेलीकाप्‍टर के जरिये निम की सर्च एंड रेस्क्यू टीम रवाना हुई। नेहरू पर्वतरोहण संस्थान (निम) के प्रधानाचार्य कर्नल अमित बिष्ट ने बताया यह घटना शुक्रवार सुबह करीब पांच बजे हुई है, जिसमें नौसेना का पर्वतारोही दल हिमस्खलन की चपेट में आ गया। यह सभी अभी लापता बताए जा रहे हैं।

कुमांऊ के बागेश्वर जनपद में स्थित है त्रिशूल चोटी

त्रिशूल चोटी (7,120 मीटर) चमोली जनपद की सीमा पर स्थिति कुमांऊ के बागेश्वर जनपद में स्थित है। इस चोटी के आरोहण के लिए चमोली जनपद के जोशीमठ और घाट के लिए पर्वतारोही टीमें जाती हैं। नौसेना के पर्वतारोहियों की टीम भी घाट होते हुए त्रिशूल के लिए निकली थी। तीन चोटियों का समूह होने के कारण इसे त्रिशूल कहते हैं।

सतोपंथ के पास भी मिला था सेना के पर्वतारोही का दल 

गौरतलब है कि बीते दिनों भारतीय सेना का एक दल स्वर्णिम विजय वर्ष के उपलक्ष्य में गंगोत्री हिमालय की सबसे ऊंची चोटी सतोपंथ (7075 मीटर) के आरोहण के लिए गया था। अभियान के दौरान 22 सितंबर को उन्हें चोटी के पास बर्फ में दबा एक शव मिला था। ये शव साल 2005 में सतोपंथ चोटी के आरोहण के दौरान हुई दुर्घटना में लापता चल रहे सैनिक अमरीश त्यागी का था। वे आर्मी आर्डिंनेस कोर में नायक के पद पर तैनात थे और मोदीनगर गाजियाबाद (उत्तर प्रदेश) के रहने वाले थे।

Related Post

राहुल गांधी

राहुल गांधी ने फिर साधा केंद्र पर निशाना, कहा-‘उत्सव’ नहीं गंभीर समस्या है वैक्सीन की कमी

Posted by - April 9, 2021 0
नई दिल्ली। देश में कोरोना के बढ़ते मामलों (Corona Cases) के बीच अब कई राज्यों में वैक्सीन की कमी पड़…
यूपी विधानसभा चुनाव 2022

यूपी विधानसभा चुनाव 2022 में हाथी अकेले मैदान में उतरेगी: मायावती

Posted by - February 22, 2020 0
नई दिल्ली। बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) ने आगामी यूपी विधानसभा चुनाव 2022 के मद्देनजर शनिवार को बड़ा फैसला लिया है।…

LIC के निजीकरण को मोदी सरकार ने दिखाई हरी झंडी, पैसा जुटाना सरकार का लक्ष्य

Posted by - July 13, 2021 0
कोरोना संकट और खराब अर्थव्यवस्था के बीच मोदी सरकार ने देश की सबसे बड़ी बीमा कंपनी एलआईसी के विनिवेश को…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *