बांदा जेल का DM ने किया औचक निरीक्षण, मुख्तार अंसारी के बैरक की ली गई तलाशी

93 0

बांदा। उत्तर प्रदेश के बांदा में मंडल कारागार का डीएम अनुराग पटेल ने एसपी अभिनंदन के साथ शनिवार शाम को औचक निरीक्षण किया। डीएम के पहुंचने से जेल प्रशासन में अफरा-तफरी का माहौल बन गया। वहीं, जेल में निरुद्ध विधायक मुख्तार अंसारी के तन्हाई बैरक की तलाशी भी ली गयी। हालांकि, मुख्तार के बैरक से कोई अवैध सामग्री नहीं मिली। बता दें कि मुख्तार अंसारी को लगभग 6 महीनें पहले पंजाब की रोपड़ से बांदा जेल में शिफ्ट किया गया था.

बैरक 15 व 16 की ली गई तलाशी 

बता दें कि जिलाधिकारी कार्यालय से जारी प्रेस नोट में बताया गया कि डीएम अनुराग पटेल ने एसपी अभिनंदन के साथ जेल का औचक निरीक्षण किया है। डीएम ने जेल में मुख्तार अंसारी की तन्हाई बैरक 15 व 16 समेत एक अन्य बैरक की तलाशी कराई, जिसमें कोई अवैध सामग्री नहीं मिली। वहीं, मुख्तार की तन्हाई बैरिक के सुरक्षा के लिए 8 सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं, जिससे उसकी हर गतिविधि पर निगरानी रखी जा रही है.

3 सीसीटीवी कैमरे मिले खराब

निरीक्षण के दौरान डीएम ने जेलर प्रमोद त्रिपाठी से जेल की सुरक्षा समेत अन्य जानकारियां भी प्राप्त की। जेलर ने डीएम को बताया कि जेल की सुरक्षा के लिए 36 सीसीटीवी कैमरे निगरानी के लिए लगाए गए हैं, जिसमें 3 खराब हैं, जिनकी सूचना विभागीय अधिकारियों को दी गयी है। हालांकि डीएम ने तत्काल सही कराने के निर्देश दिए हैं। डीएम ने जेल की रसोई, अस्पताल और वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग हाल का निरीक्षण भी किया। इस दौरान कोई विशेष खामी नहीं मिली।

जेल अधीक्षक पर नाराज हुए डीएम

जेल अधीक्षक के अनुपस्थित होने पर डीएम ने नाराजगी भी जताई। हालांकि जेल अधीक्षक कोर्ट के कार्य से जिले से बाहर थे। डीएम को जेल अधीक्षक का अनुमति पत्र मिला लेकिन उसमें डीएम की अनुमति नहीं ली गयी थी। बगैर अनुमति के जेल अधीक्षक के इस हाई प्रोफाइल जेल को छोड़ने पर डीएम ने कड़ी नाराजगी जाहिर की।

Related Post

पूर्व मंत्री मनोज पाण्डेय जल्द करेगी विजिलेंस

Posted by - February 28, 2021 0
आय से अधिक सम्पत्ति की जांच के लिए उत्तर प्रदेश सतर्कता अधिष्ठान (विजिलेंस) शीघ्र ही समाजवादी पार्टी के विधायक एवं पूर्व मंत्री मनोज कुमार पांडेय को बयान दर्ज कराने के लिए शीघ्र ही नोटिस भेजा जाएगा। शासन के आदेश पर विजिलेंस ने उनके विरुद्ध आय से अधिक संपत्ति की शिकायतों की खुली जांच शुरू कर दी है। गोपनीय जांच में शिकायतें प्रथमदृष्ट्या सही पाए जाने के बाद खुली जांच के आदेश दिए गए हैं।   फतेहपुर : स्वर्गीय इंदिरा गांधी के नजदीकी रहे प्रेमदत्त तिवारी का निधन बिजलेंस के एक अधिकारी ने बताया कि पूर्व मंत्री मनोज पाण्डेय से आय से अधिक सम्पत्ति मामले में पूछताछ की जाएगी। इसके लिए उनको नोटिस भेजा जाएगा। मनोज पांडेय पर अपने क्षेत्र के दलित परिवार की जमीन अवैध ढंग से हथियाने का भी आरोप है। शिकायतें मिलने पर सरकार ने विजिलेंस के माध्यम से पहले गोपनीय जांच कराई। जांच में आरोप प्रथमदृष्ट्या सही पाए गए। जांच रिपोर्ट का परीक्षण करने के बाद शासन ने विजिलेंस को मनोज पांडेय के विरुद्ध खुली जांच करने का आदेश दे दिया। विजिलेंस अब शिकायतों से संबंधित साक्ष्य जुटाने के साथ ही मनोज पांडेय से पूछताछ भी करेगी। खुली जांच में दोषी पाए जाने पर उनके विरुद्ध मुकदमा दर्ज कर आगे की कार्रवाई की जा सकती है। रायबरेली जिले की ऊंचाहार सीट से विधायक मनोज पांडेय सपा सरकार में कैबिनेट मंत्री थे। जांच के शिकंजे में फंसने वाले वह तीसरे पूर्व मंत्री हैं। सपा सरकार में मंत्री रहे मो. आजम खां के विरुद्ध एसआईटी व गायत्री प्रसाद प्रजापति के विरुद्ध विजिलेंस जांच की जांच चल रही है। एसआईटी जल निगम भर्ती घोटाले में मो. आजम खां को दोषी ठहरा चुकी है। गायत्री प्रजापति के विरुद्ध तो आय से अधिक संपत्ति की जांच चल रही है
RLD National President

 लोकदल के राष्ट्रीय अध्यक्ष चौधरी सुनील सिंह हिरासत में लिए गए

Posted by - March 8, 2021 0
वाराणसी। प्रदेश में किसान आंदोलन को मजबूती देने के लिए वाराणसी पहुंचे लोकदल के राष्ट्रीय अध्यक्ष चौधरी सुनील सिंह (chaudhary…