पूजास्थलोें के कपाट सोमवार को खुलेंगे

पूजास्थलोें के साथ ही भिक्षुकों की किस्मत के भी खुलेंगे द्वार

234 0

लखनऊ । लॉकडाउन के कारण करीब ढाई महीने तक बंद रहे पूजास्थलोें के कपाट सोमवार को जब आम श्रद्धालुओं के लिये खुलेंगे। तो आस्था का सैलाब उमड़ने के साथ कतार में खड़े हजारों भिक्षुकों के भी किस्मत के द्वार खुलेंगे। जिनकी रोटी का इंतजाम सिर्फ भक्तों की कृपा पर निर्भर रहता है।

दे दाता के नाम तुझको अल्लाह रखे

वैश्विक महामारी कोविड-19 के कारण लागू देशव्यापी लाकडाउन के चलते सभी धर्मो के पूजास्थलों के कपाट बंद कर दिये गये थे। लाकडाउन के पांचवे चरण यानी अनलाक 1़ 0 में सरकार चरणबद्ध तरीके से आम गतिविधियों को शुरू कर रही है, जिसके तहत सोमवार से मंदिर,मस्जिद,गुरूद्वारा और गिरिजाघरों के द्वार खोले जायेंगे। हालांकि सरकार की गाइडलाइन के अनुसार सभी पूजास्थलों पर सोशल डिस्टेसिंग का पालन करना होगा। हर श्रद्धालु को मास्क और सैनीटाइजर का इंतजाम करना अनिवार्य है। पूजास्थलों में एक बार में सिर्फ पांच श्रद्धालुओं को पूजा अर्चना का मौका दिया जायेगा।

उत्तर प्रदेश में 45 लाख से अधिक भिक्षुक हर रोज सड़क चाैराहों और पूजास्थलों के बाहर हाथ पसार कर जीवकोपार्जन करते हैं

एक अनुमान के मुताबिक उत्तर प्रदेश में 45 लाख से अधिक भिक्षुक हर रोज सड़क चाैराहों और पूजास्थलों के बाहर हाथ पसार कर जीवकोपार्जन करते हैं। लॉकडाउन के बाद समाज का यह वर्ग सबसे अधिक प्रभावित हुआ हालांकि सरकार द्वारा संचालित कम्युनिटी किचेन और समाजसेवियों के भंडारे से अधिसंख्य ने अपना और परिवार का पेट भरा, लेकिन नगद कमाई के रास्ते बंद हो गये।

लॉकडाउन के दौरान ही चैत्र नवरात्र सन्नाटे में बीता वहीं रमजान में गुलजार रहने वाली मस्जिदों में वीरानी छायी रही

लॉकडाउन के दौरान ही चैत्र नवरात्र सन्नाटे में बीता वहीं रमजान में गुलजार रहने वाली मस्जिदों में वीरानी छायी रही। गुरू तेगबहादुर जयंती में गुरूद्वारों में हाेने वाला लंगर प्रसाद का भी आयोजन नहीं हो सका। वहीं ईद में जकात मिलने की हजारों की उम्मीद पर भी तुषारापात हुआ। आमतौर पर धार्मिक आयोजनों पर पूजास्थलों पर श्रद्धालुओं की भारी भीड़ उमड़ती है जिससे इन भिक्षुकों को मोटी कमाई होती थी, लेकिन इस बार ऐसा नहीं हाे सका।

कोरोना प्रभावित देशों सूची में पांचवें पायदान पर भारत, 24 घंटों में 9971 नये मामले

कई ऐसे है जिनकी जगह वर्षो से पक्की है और दूसरा भिखारी वहां बैठने की हिम्मत नहीं कर सकता

हालांकि राज्य के अलग अलग जिलों में सैकड़ों की तादाद में ऐसे भी पूजा स्थल है जहां हर रोज सुबह से शाम तक श्रद्धालुओं का तांता लगा रहता है जिसके कारण पूजा स्थलों के बाहर बैठने वाले भिक्षुक भी सुबह से अपनी पंगत जमा लेते हैं। इनमें से कई ऐसे है जिनकी जगह वर्षो से पक्की है और दूसरा भिखारी वहां बैठने की हिम्मत नहीं कर सकता है। सुबह से शाम तक भरपेट खाना और हर रोज 200 से 1000 रूपये तक की कमाई वाले भिक्षुकों की भी यहां कोई कमी नहीं है।

लॉकडाउन के वाराणसी में बाबा विश्वनाथ मंदिर और संकटमोचन मंदिर, अयोध्या में हनुमानगढ़ी ,मिर्जापुर में विंध्यवासिनी देवी,लखनऊ में हजरतगंज स्थित दक्षिणमुखी हनुमान मंदिर और कानपुर में आनंदेश्वर मंदिर समेत अधिसंख्य पूजास्थल बंद होने के बावजूद रोज दर्शन पूजन करने वाले श्रद्धालु मंदिर के बाहर से ही हाथ जोड़ने आते रहे। इसी तरह राज्य की तमाम मस्जिदों के भी रोज दर्शन करने वालों की भी तादाद कम नहीं थी।

इस दौरान कई मंदिरों मस्जिदों के बाहर गिने चुने ही सही मगर भिक्षुक अपनी झोला गठरी के साथ जमे रहे जिसका उन्हे फायदा भी मिला। इन पूजास्थलों के दर्शन करने आने वाला लगभग हर श्रद्धालु अपनी जेब से कुछ न कुछ रकम निकाल कर इन भिक्षुकों की हथेली पर रखता रहा वहीं कई समाजसेवी संगठन पूजास्थलों के बाहर जमे भिक्षुकों को खाने पीने का सामान पहुंचाते रहे।

कुल मिलाकर ऊपर वाले की कृपा से लाकडाउन का समय कुछ तंगी से ही सही मगर ठीक ठाक बीत गया

बची खुची कसर जिला प्रशासन द्वारा संचालित कम्युनिटी किचेन ने पूरी कर दी। कुल मिलाकर ऊपर वाले की कृपा से लाकडाउन का समय कुछ तंगी से ही सही मगर ठीक ठाक बीत गया। अब जब कल श्रद्धा के केन्द्रों के खुलने का समय है। भिक्षुकों ने भी अपनी तैयारी शुरू कर दी है। कुछ को अपनी जगह की चिंता है तो कई के मन में यह आशंका भी है कि लाकडाउन के नियमों के मुताबिक सोशल डिस्टेसिंग से कहीं उनकी जगह इतनी दूर न हो जाये कि श्रद्धालुओं की कृपा उन तक न पहुंच सके। कई भिक्षुक पूजागृहों में कम भीड़ की आशंका से भी ग्रसित हैं।

श्रद्धालु खुद ही कुछ न कुछ देकर चले जाते हैं

कानपुर के आनंदेश्वर मंदिर के बाहर भिक्षावृत्ति करने वाले राजू ने कहा कि वह बचपन से मंदिर के बाहर बैठता है। पहले माता पिता के साथ बैठता था जिनका देहांत होने के बाद मंदिर का गलियारा ही उसका आशियाना है। यहां बैठने वाले किसी भी भिक्षुक को हाथ नहीं पसारना पड़ता। श्रद्धालु खुद ही कुछ न कुछ देकर चले जाते हैं।

मंदिर में लगभग हर रोज लगने वाले भंडारे के चलते खाने की कभी कोई तकलीफ नहीं हुयी

मंदिर में लगभग हर रोज लगने वाले भंडारे के चलते खाने की कभी कोई तकलीफ नहीं हुयी। लाकडाउन के दौरान भी 15 से 20 भिक्षुक यहां हर समय जमे रहे जिनके लिये भक्त इतना कुछ खाने पीने को दे देते थे कि कभी कभार बचा हुआ भोजन उन्हे जानवरों को देना पड़ता था।

एक अन्य भिक्षुक रामसेवक ने कहा कि कल मंदिर के कपाट खुल रहे है जिससे पहले मंदिर प्रशासन ने बाकायदा प्रेस कांफ्रेंस बुलाकर दर्शन करने के नियम कायदे बताये है। मंदिर प्रशासन ने कहा कि मंदिर के अंदर की व्यवस्था मंदिर प्रशासन की होगी जबकि बाहर की जिम्मेदारी जिला प्रशासन को लेनी होगी। जब तक कपाट बंद थे, मंदिर के बाहर से करीब 700-800 श्रद्धालु माथा टेकते थे और कल जब मंदिर खुलेगा तो श्रद्धालुओं की भीड़ को संभालना एक चुनौती होगा और जब श्रद्धालु बढ़ेंगे तो निश्चित है कि हमारी कमाई भी बढ़ेगी।

Loading...
loading...

Related Post

शारजील इमाम गिरफ्तार

जेएनयू छात्र शारजील इमाम जहानाबाद से दिल्ली पुलिस ने किया गिरफ्तार

Posted by - January 28, 2020 0
नई दिल्ली। जेएनयू छात्र शारजील इमाम को दिल्ली पुलिस ने बिहार के जहानाबाद से गिरफ्तार किया है। इमाम पर पुलिस…
इंडिगो

प्रैट एंड व्हिटनी के सभी इंजनों को बदलने के लिए डीजीसीए ने बढ़ाई समयसीमा

Posted by - January 13, 2020 0
बिजनेस डेस्क। विमान नियामक डीजीसीए ने प्रैट एंड व्हिटनी के उन सभी इंजनों को बदलने के लिए इंडिगो को दी…

Karwa Chauth 2019:अंबानी खानदान की बहू-बेटी एक साथ रखेंगी पहला व्रत, बेहद खास दिन

Posted by - October 15, 2019 0
बॉलीवुड डेस्क। इस बार कई बॉलीवुड अभिनेत्रियां हैं जो शादी के बाद पहली बार करवाचौथ को मनाएंगी। ऐसे में अंबानी…