up panchayat election result

पंचायत चुनाव की मतगणना के दौरान टूटा कोविड प्रोटोकॉल

872 0

उत्तर प्रदेश के 75 जिलों में रविवार की सुबह मतगणना प्रारंभ हो गई। कहीं मतगणना (Counting) देर से आरंभ हुई तो कहीं समय पर। मतगणना के दौरान सभी जिलों में कोविडप्रोटोकूल की धज्जियां उड़ती नजर आईं । इन चुनावों में जिला पंचायत सदस्य, क्षेत्र पंचायत सदस्य, प्रधान और ग्राम पंचायत ( UP Panchayat Chuna)  वार्ड सदस्य पदों के 12 लाख 89 हजार 930 प्रत्याशी चुनाव मैदान में उतरे हैं।  राज्य निर्वाचन आयोग से प्र्राप्त सूचना के अनुसार 112358 ग्राम पंचायत सदस्य, 16519 ग्राम प्रधान  और 35812 खेत्र पंचायत सदस्य निर्वाचित हुए हैं। कल दोपहर तक सभी चुनाव परिणाम आने की संभावना है।

अभी जो तस्वीरें सामने आ रही हैं, वो परेशान करने वाली हैं। वोटिंग के दौरान काउंटिंग ( Counting) हॉल्स के सामने जुट रही हजारों की भीड़ में न कोई मास्क पहने है और न ही सोशल डिस्टेंसिंग दिख रही है। चुनावी उत्साह में नियमों को तोड़ रही ये भीड़ निश्चित तौर पर कोरोना का सुपर स्प्रेडर साबित होगी। फिरोजाबाद में जसरना उप-मंडी पर काउंटिंग के दौरान भारी भीड़ जुट गई। पुलिस ने लोगों को समझाया तो वे नहीं माने। इसके बाद लाठीचार्ज कर उन्हें तितर-बितर करना पड़ा। यही स्थिति बागपत और जौनपुर में भी दिखी। यहां पर भी पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा। जौनपुर के सरकोनी ब्लॉक पर तो जब पुलिस ने बल प्रयोग किया तो काउंटिंग हॉल के गेट पर लगा मेटल डिटेक्टर भी टूट गया। कई लोग घायल भी हुए हैं।

हाथरस में एजेंट और प्रत्याशियों के समर्थकों ने हजारों की तादाद में एक काउंटिंग हॉल में घुसने की कोशिश की। दीवार आई तो उसे भी लांघ गए। बेहद कम लोग मास्क में नजर आए और सोशल डिस्टेंसिंग गायब ही थी। कई जगहों पर काउंटिंग हॉल में घुसने के लिए लोगों ने धक्का मुक्की की। हाथरस के अलावा इटावा और बागपत से भी काउंटिंग के दौरान ऐसी ही हैरान करने वाली तस्वीरें सामने आई हैं। रामपुर में कई काउंटिंग हॉल पर सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखने के लिए बैरिकेडिंग और जाली लगाने जैसे कदम उठाए गए, लेकिन एजेंट्स और उम्मीदवारों के समर्थकों के आगे कुछ काम करता नहीं दिखा। इसी तरह के हालात शामली में नजर आए। जहां काउंटिंग हॉल में घुसने के लिए होड़ मची रही। मतगणना  के दौरान कई जगहों पर एजेंट्स और चुनावी स्टाफ का टेस्ट भी किया गया है। इस दौरान मुरादाबाद में काउंटिंग के दौरान 14 लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए। इटावा के बसरेहर ब्लॉक की नवीन मंडी में 2 एजेंट पॉजिटिव निकले। भीमराव अंबेडकर इंजीनियरिंग कॉलेज में एक मतगणनाकर्मी संक्रमित पाया गया। हाथरस के मुरसान स्थित मतगणना केंद्र पर 4 मतगणना कर्मी संक्रमित मिले। सादाबाद में भी काउंटिंग करने वालों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई।

उत्तर प्रदेश सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में दावा किया था कि पंचायत चुनाव ( UP Panachayat Chunav)की काउंटिंग के दौरान कोरोना प्रोटोकॉल का पालन किया जाएगा। योगी सरकार ने कहा था कि मतगणना केंद्रों के पास जमावड़े पर रोक रहेगी। केंद्र के भीतर सिर्फ कैंडिडेट्स और उनके प्रतिनिधि जाएंगे। केंद्रों के भीतर जाने वालों को एनटीपीसीआर और  एंटीजन टेस्ट की निगेटिव रिपोर्ट  दिखानी होगी। इसके अलावा वैक्सीनेशन की दोनों टीके लगवाने की रिपोर्ट दिखानी होगी। हर केंद्र पर कोविड-19 प्रोटोकॉल का पालन होगा।

सरकार का दावा है कि सिर्फ निर्वाचन अधिकारी द्वारा जारी पास वालों को ही मतदान केंद्र पर प्रवेश की इजाजत है। काउंटिंग टेबल से दो मीटर की दूरी पर जालीदार बैरीकेडिंग की गई है। कोरोना के लक्षण वाले पुलिसकर्मियों को ड्यूटी से बाहर रखा गया है। मास्क, किट व सैनिटाइजर दिया गया है। लेकिन, काउंटिंग के दौरान जो तस्वीरें सामने आई हैं, वो दावों की हकीकत बयां कर रही हैं। ये लापरवाही तब है, जब बीते 24 घंटे में 30 हजार 317 संक्रमित सामने आए हैं। मौत का ग्राफ हर दिन बढ़ रहा है। 24 घंटे में 304 लोगों की मौत हुई है। अभी राज्य में 3 लाख से ऊपर एक्टिव केस हैं।

आगरा जिले में एआरओ बदलने और कर्मचारियों के मतगणना स्थलों में पहुंचने में देरी के कारण आगरा में पंचायत चुनाव के वोटों की गिनती विलंब से शुरू हो सकी। बाह, पिनाहट और फतेहाबाद, शमसाबाद में तो दो घंटे देरी से करीब 10 बजे मतगणना प्रारंभ हुई। जिले में 15 स्थलों पर एक साथ चल रही वोटों की गिनती काफी धीमी रही। आलम यह रहा कि शाम छह बजे तक

महराजगंजके फरेंदा तहसील के धानी ब्लाक के कानापार वार्ड संख्या 1 से 4 पर हो रहे क्षेत्र पंचायत सदस्य के चर्चित चुनाव में फरेंदा विधायक बजरंग बहादुर सिंह के भाई की पत्नी सरिता सिंह चुनाव हार गई। हैं। इस सीट से पूर्व प्रधान गोपाल सिंह विजयी हुए हैं। इस क्षेत्र में प्रधानी व जिला पंचायत से अधिक रोमांचक चुनाव इस क्षेत्र पंचायत सदस्य का था। जिसे ब्लाक प्रमुखी से जोड़कर देखा जा रहा था। मतगणना के बाद विजयी गोपाल सिंह को 531 मत मिले, जबकि सरिता सिंह को 354 मतों से ही संतोष करना पड़ा।

अयोध्या के अमानीगंज विकासखंड के इब्राहिमपुर गांव में 1 वोट से जीती अनीता श्रीवास्तव। हारी प्रत्याशी रूपाली ने रिकाउंटिंग की मांग की। रिटर्निंग आॅफिसर ने  उनकी मांग को खारिज कर दिया। जीती प्रत्याशी अनीता श्रीवास्तव बीकापुर विधायक प्रतिनिधि सूर्य प्रसाद श्रीवास्तव के छोटे भाई कीै पत्नी हैं। सैफई  के अमिताभ बच्चन इंटर कॉलेज में चल रही मतगणना में शाम 6 बजे तक 8 प्रधान प्रत्याशियों ने विजय हासिल की है। जिनमें ग्राम पंचायत छतौनी से सुखबीर सिंह यादव ने सतेंद्र सिंह को 93 वोट से पराजित किया। परासना से रामप्रकाश ने महेंद्र सिंह को 381 मतों से पराजित किया। ग्राम पंचायत कुइया से अखिलेश यादव और फिर चंदगी राम ने राहुल यादव को 124 मतों से पराजित किया। ग्राम पंचायत खरदुली ईश्वर दयाल सिंह ने प्रियंका को 90 मतों से पराजित किया। हैबरा ग्राम पंचायत से सपना यादव ने डॉली यादव को 43 मतो से पराजित किया। गींजा से राधा कृष्ण ने नरेंद्र यादव को 294 मतों से पराजित किया सैफई ग्राम पंचायत से मुलायम सिंह यादव के चहते रामफल बाल्मीकि विनीता को 3862 मतों से पराजित कर रिकॉर्ड कायम किया। ग्राम पंचायत कुम्हावर से रानी देवी ने विनीता को 179 मतों से पराजित किया। नगला सुभान से मनोज कुमारी ने महेश को 242 मतों से पराजित किया।

Related Post

Naresh Tikait

उत्तराखंड में किसान महापंचायत, नरेश टिकैत बोले- वापस हो तीनों कृषि कानून

Posted by - March 14, 2021 0
डोईवाला। डोईवाला में किसान महापंचायत (Kisan Mahapanchayat) में भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय अध्यक्ष नरेश टिकैत (Naresh Tikait) और किसान…